Afghanistan Taliban Women laws : तालिबान के वो 10 नियम जो महिलाओं...
ताजा पोस्ट | देश | विदेश| नया इंडिया| Afghanistan Taliban Women laws : तालिबान के वो 10 नियम जो महिलाओं...

तालिबान के वो 10 नियम जो महिलाओं के लिए बनेंगे सरदर्द, एक बार पढकर देखें नियम शायद आपकी आंखें भी भर जाएंगी…

Afghanistan Taliban Women laws :

नई दिल्ली | Afghanistan Taliban Women laws : अफगानिस्तान में महिलाओं के लिए हमेशा से सख्त कानून रहे हैं. हालांकि अफगानिस्तान की महिलाओं के लिए कोई नया पहला अवसर नहीं है जब उनके अधिकारों का हनन किया जा रहा हो. इसके पहले भी 2001 में अफगानिस्तान में तालिबान का शासन रह चुका है. अफ़गानिस्तान की महिलाओं ने बहुत कुछ झेला है अब एक बार फिर से उन्हें तालिबान के नियमों पर रहना होगा. एक ओर जहां तालिबान की ओर से यह कहा जा रहा है कि वह महिलाओं को इज्जत देंगे तो दूसरी और वे महिलाओं को शोषण करने का कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. जानकारी के अनुसार तालिबान ने अब महिलाओं के लिए 10 नए नियम बनाए हैं जिनका पालन उन्हें करना ही होगा.

क्या हैं 10 नियम

रिश्तेदारों या किसी के साथ के बिना नहीं निकल सकेंगी महिलाएं.

घर से बाहर निकलने के लिए बुर्का होगा अनिवार्य.

महिलाओं को हाई हील्स पहनने की होगी मनाही.

सार्वजनिक स्थानों पर महिलाओं के बोलने पर होगी मनाही.

ग्राउंड फ्लोर पर खिड़कियों को रखना होगा बंद, झांकने की होगी मनाही.

महिलाओं के तस्वीर खिंचवाने पर होगी मनाही.

Afghanistan Taliban Women laws :

इसे भी पढ़ें- PM modi की ‘पाकिस्तानी बहन’ ने निभाई 26 सालों की परंपरा, राखी भेज कर अल्लाह से दुआ मांगी कि …

महिला के नाम से नहीं रखा जा सकेगा किसी स्थान का नाम.

घर की बालकनी में नहीं दिखाई दे सकेंगी महिलाएं.

महिलाओं को सार्वजनिक तौर पर एकत्र होने की होगी मनाही.

नेल पॉलिश लगाने और अपनी मर्जी से शादी करने पर मनाही.

Afghanistan Taliban Women laws :

नियमों की अनदेखी करने पर मिलेगी सजा

Afghanistan Taliban Women laws : तालिबान की ओर से ये साफ कर दिया गया है कि नियमों की अनदेखी करने पर महिलाओं को कड़ी सजा भुगतनी पड़ेगी. पहले भी ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं जिसमें इन नियमों की अनदेखी करने पर महिलाओं को क्रूर सजाएं दी गई हैं. तालिबानी सजा का सबसे ज्यादा क्रूर नजारा देखने को तब मिलता है जब नाक और कान काट कर मरने के लिए छोड़ दिया जाता है.

इसे भी पढ़ें- SC ने महिलाओं को NDA की परीक्षा में बैठने की अनुमति देने का अंतरिम आदेश पारित किया, लिंग भेदभाव’ की निंदा की

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
बूथ विस्तारक: 10 दिन-10 घंटे देकर 100 घंटे का योगदान
बूथ विस्तारक: 10 दिन-10 घंटे देकर 100 घंटे का योगदान