nayaindia त्रिपुरा सरकार ने दी 93000 गरीब परिवारों को सहायता - Naya India
ताजा पोस्ट| नया इंडिया|

त्रिपुरा सरकार ने दी 93000 गरीब परिवारों को सहायता

अगरतला। त्रिपुरा सरकार ने कोरोना वायरस (कोविड -19) के प्रसार की रोकथाम के लिए लागू 21 दिन के लॉकडाउन के मद्देनजर मुख्यमंत्री राहत कोष से राज्य के 12 पिछड़े ब्लॉक के लगभग 93000 मनरेगा जॉब कार्ड धारकों को 500 रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की है। ।

अधिकारियों ने बताया कि कि इस राशि को मनरेगा कार्य से संबद्ध नहीं, बल्कि जॉब कार्ड धारकों की बस्तियों के परिवारों को नकद सहायता माना जायेगा। उन्होंने बताया कि मनरेगा कोष का उपयोग भू-टैगिंग के तहत शारीरिक रूप से किये गये कार्य के लिए किया जाता है।

इस सहायता के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष का उपयोग किया गया है और 4.65 करोड़ रुपये की अनुमानित राशि इस उद्देश्य के लिए रखी गई है। त्रिपुरा में मनरेगा के तहत 6,13,553 जॉब कार्डधारी हैं जिनमें से 92,899 जॉब कार्डधारक इन 12 ब्लॉक में हैं। दूसरी ओर पिछले तीन अप्रैल को नॉरवेस्टर तूफान के कारण आठ में से छह जिले प्रभावित हुए हैं तथा पश्चिम त्रिपुरा और सिपाहीजाला जिलों को अधिकतम नुकसान हुआ है।

इसके कारण 48 मकान पूरी तरह और 328 मकान आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गये। सरकार ने पूरी तरह क्षतिग्रस्त मकान के लिए प्रत्येक प्रभावित परिवार 95100 रुपये और आंशिक क्षतिग्रस्त मकानों के लिए 5200 रुपये की आपातकालीन राहत देने का फैसला किया है।अधिकारियों ने बताया कि फसलों के नुकसान के आकलन की प्रक्रिया पहले से ही शुरू कर दी गयी है और जिन किसानों को नुकसान हुआ है, उन्हें प्रति 0.16 हेक्टेयर भूमि के लिए 1100 रुपये की रकम प्रदान की जाएगी।

राज्य सरकार ने घोषणा की है कि त्रिपुरा में प्रधानमंत्री जनधन योजना के लगभग 8,79,241 लाभार्थियों को तीन महीने के लिए 500 रुपये की तीन किस्तें मिलेंगी। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत त्रिपुरा के 2.04 लाख लाभार्थियों को नकद हस्तांरतण के माध्यम से अपने बैंक खातों में 2000 रुपये मिलेंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published.

two × one =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
भक्तिकाल की सगुण धारा के तुलसीदास
भक्तिकाल की सगुण धारा के तुलसीदास