nayaindia Kumari Selja Resignation Accept: कुमारी शैलजा की जगह उदयभान नए अध्यक्ष
ताजा पोस्ट | देश | हरियाणा| नया इंडिया| Kumari Selja Resignation Accept: कुमारी शैलजा की जगह उदयभान नए अध्यक्ष

हरियाणा कांग्रेस में बड़ा बदलाव, कुमारी शैलजा की जगह उदयभान कांग्रेस के नए अध्यक्ष, इन चार नेताओं को भी मिला मौका

चंडीगढ़ | Kumari Selja Resignation Accept: कांग्रेस में अभी प्रशांत किशोर मामला खत्म नहीं हुआ है कि, अब हरियाणा कांग्रेस में बड़े बदलाव की खबर सामने आ गई है। कांग्रेस पार्टी ने कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष कुमारी शैलजा (Kumari Selja) का इस्तीफा मंजूर कर लिया है। जिसके बाद कांग्रेस आलाकमानों ने दलित नेता उदयभान (Udaybhan) को हरियाणा कांग्रेस का नया अध्यक्ष बनाया है। बता दें कि, पिछले सप्ताह ही कुमारी सैलजा ने सोनिया गांधी से मुलाकात कर प्रदेश अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दिया था।

ये भी पढ़ें:- राजस्थान में गरमाया मंदिर तोड़ने का मामला, भाजपा ने निकाली विरोध रैली, कांग्रेस ने बताया नौटंकी

Hariyana Congress
Hariyana Congress

इन चार नेताओं को बनाया कार्यकारी अध्यक्ष
कांग्रेस ने कुमारी शैलजा के इस्तीफे के बाद उदयभान को हरियाणा कांग्रेस का नया अध्यक्ष बनाने के साथ ही चार कार्यकारी अध्यक्ष भी बनाए हैं। जिनमें श्रुति चौधरी, राम किशन गुज्जर, जीतेंद्र कुमार भारद्धाज और सुरेश गुप्ता को पार्टी ने इस पद पर आसीन किया है। उदयभान हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा गुट के हैं। हुड्डा गुट लंबे समय से प्रदेश अध्यक्ष अपने खेमे के नेता को बनाने की मांग कर रहा था।

गौरतलब है कि, हरियाणा कांग्रेस में पिछले कई दिनों आतंरिक विवाद की स्थिति बनी हुई थी। जिसके बाद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी हरियाणा के पार्टी नेताओं से मुलाकात करके साथ में मिलकर काम करने की नसीहत दी थी। इसी के साथ हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कुमारी शैलजा को हटाकर अपने बेटे दीपेंद्र हुड्डा को कमान सौंपे दिए जाने की सिफारिश की थी।

ये भी पढ़ें:- सुब्रत राय की बढ़ी मुश्किलें, पटना हाईकोर्ट ने इस मामले में किया तलब

विधानसभा चुनावों में हार से ले रही सबक
Kumari Selja Resignation Accept:  गौरतलब है कि, हाल ही संपन्न हुए विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को पांच राज्यों हार झेलनी पड़ी थी। ऐसे में अब पार्टी किसी भी अंदरूनी टकराव को बढ़ावा नहीं देन चाहती है और संगठन में बदलाव करने पर जोर दे रही है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

six + 13 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
चीन का अविश्वास
चीन का अविश्वास