nayaindia UK Strain in Rajasthan: राजस्थान में हड़कंप! मिला यूके का स्ट्रेन, चिकित्सा मंत्री ने की पुष्टि - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | राजस्थान| नया इंडिया|

UK Strain in Rajasthan: राजस्थान में हड़कंप! मिला यूके का स्ट्रेन, चिकित्सा मंत्री ने की पुष्टि

जयपुर। UK Strain in Rajasthan: राजस्थान में कोरोना ( COVID-19 ) की दूसरी लहर के बीच अब एक और चैंकाने वाली खबर सामने आई है। राजस्थान में भी यूके स्ट्रेन ( UK Strain ) की पुष्टि हुई है। राज्य के चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ( Raghu Sharma ) ने बुधवार को बताया कि, अभी देश भर में 19 सिक्वेंसिंग के नमूनों की जांच के लिए 10 लैब हैं। वहां लगातार नमूने भेजे जा रहे थे। अब कुछ दिनों से नमूनों के लंबित रहने के बीच राज्य सरकार को जानकारी मिली है कि प्रदेश में भी यूके स्ट्रेन पाया गया है।

चिकित्सा विभाग में हडकंप
इस जानकारी के बाद चिकित्सा विभाग में हडकंप मच गया है। ऐसे में सरकार ने जयपुर के एसएमएस मेडिकल कॉलेज में भी जीन सिक्वेंसिंग की सुविधा विकसित करने की तैयारी तेज कर दी है। इससे वायरस में दोहरे या तिहरे बदलाव का जल्द पता लग सकेगा।

क्या है यूके स्ट्रेन
SMS मेडिकल काॅलेज में मेडिसिन विभाग के सीनियर प्रोफेसर डाॅ. रमन शर्मा के अनुसार, वायरस खुद का बचाव करने के लिए बदलाव करते हैं. यूके स्ट्रेन भी इसी का रूप है. यूके स्ट्रेन का उपचार भी मौजूदा दवाओं से कारगर है. इसमें वर्तमान वैक्सीन भी कारगर है.

यह भी पढ़ेंः- बिहार में कोरोना का कोहराम, पूर्व मंत्री और राजद के वरिष्ठ नेता Ramvichar Rai का निधन, कई नेताओं ने जताया दुख

गांवों और युवाओं तेजी से फैल रहा
राज्य के चिकित्सा मंत्री ने कहा कि प्रदेश उन पांच राज्यों में शामिल हो चुका है, जहां 2 लाख से अधिक एक्टिव केस हैं। पिछले दौर में कोविड का असर गांवों और युवाओं में कम था, लेकिन अब इनकी संख्या इधर भी तेजी से बढ़ी है। प्रदेश की संक्रमण दर अब 8 प्रतिशत है। इसलिए घर घर सर्वे किया जा रहा है, जिनमें करीब 6 लाख संदिग्ध मरीज मिले हैं। इसे देखते हुए अब रेपिड एंटिजन टेस्ट भी करने का फैसला किया गया है।

यह भी पढ़ेंः- Corona Alert: भारत में पाया जा रहा कोविड-19 का स्ट्रेन विश्व के 44 देशों में भी मिला

रिपोर्ट जल्द मिलने की वजह से लिया फैसला
मंत्री ने कहा कि रेपिड टेस्ट की सटीकता हालांकि आरटीपीसीआर की 70 प्रतिशत की तुलना में 40 से 45 प्रतिशत ही है, लेकिन बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए कम समय में रिपोर्ट मिलने को लेकर यह निर्णय किया गया है। इससे गांवा में भी तेजी से जांचें हो सकेगी।

Leave a comment

Your email address will not be published.

4 × four =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
बारह लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने किये चारों धाम में दर्शन
बारह लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने किये चारों धाम में दर्शन