वैक्सीनेशन फर्जीवाड़ा, आजमगढ़ में एक दंपति के आधार पर पहले ही किसी ने लगवाई वैक्सीन - Naya India
देश | उत्तर प्रदेश | ताजा पोस्ट| नया इंडिया|

वैक्सीनेशन फर्जीवाड़ा, आजमगढ़ में एक दंपति के आधार पर पहले ही किसी ने लगवाई वैक्सीन

आजमगढ़ |  कोरोना को हराने के लिए वैक्सीनेशन अभियान जोर पकड़ रहा है। लेकिन इसमें बहुत फर्जी मामले भी सुनने को मिल रहे है। लोग किसी और के नाम पर वैक्सीन लगवा रहे है। ऐसा ही एक मामला उत्तरप्रदेश के आजमगढ़ से सुनने को मिला है। आजमगढ़ में कोरोना वैक्सीन के नाम पर फर्जीवाड़े का मामला सामने आया है। जहां पर एक दंपति के आधार कार्ड पर किसी और का रजिस्ट्रेशन हो गया। पति-पत्नि को किसी अनहोनि होने का डर था इस कारण से  दंपति ने थाने में शिकायत दर्ज कराने के साथ एसडीएम से भी मदद की गुहार लगाई है।

पहले से ही रजिस्टर था आधार नंबर

पीड़ित पति-पत्नि का नाम सविता पांडेय और धीरेंद्र पांडेय बताया जा रहा है। यह दोनों निजामाबाद थाना क्षेत्र के परसहा गांव रहने वाले है। सविता पांडेय और धीरेंद्र पांडेय कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए रजिस्ट्रेशन करने गई। उस समय रजिस्ट्रेशन करवाते समय पता चला कि इस आधार कार्ड से किसी और का रजिस्ट्रेशन हो चुका है। पत्नी सविता पांडेय के स्थान पर मंजुरी सिंह और पति धीरेंद्र के स्थान पर जेनी डॉक्सवेन का रजिस्ट्रेशन हो चुका है। यह बात सुन दंपति हैरान हो गए। किसी फर्जीवाड़े के भय से थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई। पीड़ित ने बताया कि क्षेत्र के लोगों के वैक्सीन लगवाने के दौरान अधिक संख्या में लोगों को आधार कार्ड का नम्बर दूसरे के नाम पर दर्ज मिल रहा है। पीड़ित का कहना है कि जब तक रजिस्ट्रेशन दूसरे के नाम से दर्ज है, तब तक वह खुद नहीं करा सकते। बिना रजिस्ट्रेशन वैक्सीन नहीं लगेगी। सविता ने बताया कि जब पति के साथ वैक्सीनेशन कराने के लिए रजिस्ट्रेशन कराना चाहा तो दोनों आधार नम्बर पर पहले से ही रजिस्ट्रेशन हो चुका था।

एसडीएम ने ली मामले की जानकारी

एसडीएम सदर बागीश शुक्ला ने इस प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए इस संबंध में सीएमओ से जानकारी मांगी है कि किस वजह से दूसरे के आधार कार्ड पर अन्य को टिका लगाया गया? और अगर जानबूझ कर गलती हुई है तो कानूनी कार्यवाही की जाएगी। एसडीएम ने कहा कि जो भी वैक्सीनेशन कर्मी है उनको निर्देशित किया जा रहा है कि वे फीडिंग के समय आधार कार्ड का फोटोग्राफ मिलान कर वेरिफिकेशन कर लें, जिससे गलत व्यक्ति दूसरे के आधार कार्ड का दुरुपयोग न कर सके।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});