nayaindia warning to china चीन को चेतावनी
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| warning to china चीन को चेतावनी

चीन को चेतावनी

टोक्यो। जापान की राजधानी में हुई क्वाड नेताओं की पहली आमने सामने की बैठक में चीन को लेकर चिंता जताई गई। क्वाड के नेताओं ने हालांकि चीन का नाम नहीं लिया लेकिन चारों नेताओं की ओर से जारी साझा बयान में मंगलवार को चीन को चेतावनी दी गई कि बल प्रयोग से हिंद-प्रशांत क्षेत्र में मौजूदा स्थिति बदलने के किसी प्रयास को स्वीकार नहीं किया जाएगा। क्वाड के नेताओं ने यूक्रेन पर रूसी हमले को लेकर भी चर्चा की।

टोक्यो में हुए इस सम्मेलन में हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन का दखल रोकने, कोरोना संकट के बाद अर्थव्यवस्था को फिर से खड़ा करने और रूस-यूक्रेन युद्ध जैसे अहम मुद्दों पर चर्चा हुई। इस सम्मेलन के दौरान प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी, अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन, ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री एंथनी अल्बानीस और जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने एक साथ बैठ कर अनेक मसलों पर चर्चा की।

इस मौके पर मोदी ने क्वाड को एक कामयाब पहल बताते हुए कहा कि इसकी कामयाबी के पीछे सभी सहयोगी देशो की निष्ठा मौजूद है। मोदी ने कोरोना काल में वैक्सीन में एक-दूसरे देशों की मदद को लेकर किए गए प्रयासों की जानकारी दी। उन्होंने हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति-सुरक्षा को पहली प्राथमिकता बताया। वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने दो टूक शब्दों में कहा कि चीन लगातार चुनौती पेश कर रहा है। उन्होंने यूक्रेन युद्ध के लिए रूस को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि वो युद्ध खत्म करने का मन नहीं रखता।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- कोविड 19 की विपरीत परिस्थितियों के बावजूद हमने वैक्सीन वितरण, जलवायु कार्रवाई, आपूर्ति शृंखला लचीलापन, आपदा में प्रतिक्रिया, आर्थिक सहयोग जैसे कई क्षेत्रों में आपसी समन्वय बढ़ाया है। उन्होंने कहा- क्वाड से हिंद-प्रशांत में शांति, समृद्धि और स्थिरता सुनिश्चित हो रही है। इतने कम समय में क्वाड समूह ने विश्व स्तर पर एक महत्वपूर्ण स्थान बना लिया है।

राष्ट्रपति बाइडेन ने कहा- हिंद-प्रशांत में अमेरिका एक मजबूत, स्थिर और स्थायी साझेदार होगा। हम हिंद-प्रशांत की शक्तियां हैं। जब तक रूस युद्ध जारी रखता है, हम भागीदार बने रहेंगे और वैश्विक प्रतिक्रिया का नेतृत्व करेंगे। उन्होंने कहा- हम साझा मूल्यों और हमारे पास मौजूद विजन के लिए हम एक साथ हैं। क्वाड के पास आगे बहुत काम है। इस क्षेत्र को शांतिपूर्ण और स्थिर रखने, इस महामारी से निपटने और इसके बाद जलवायु संकट को दूर करने के लिए हमारे पास बहुत काम है।

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published.

4 × one =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
राजस्थान में हालात में सुधार
राजस्थान में हालात में सुधार