nayaindia WHO Chief India Visit: आज भारत आएंगे WHO प्रमुख
kishori-yojna
कोविड-19 अपडेटस | ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया| WHO Chief India Visit: आज भारत आएंगे WHO प्रमुख

कोरोना से मौतों की संख्या पर विवाद को लेकर आज भारत आएंगे WHO प्रमुख

WHO

नई दिल्ली | WHO Chief India Visit: कोरोना में कोरोना के नए मामलों में उतार-चढ़ाव के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) प्रमुख तीन दिन के लिए आज भारत का दौरा करने आ रहे हैं। डब्ल्यूएचओ प्रमुख कोरोना से हुई मौतों की गणना के भारत की ओर से जताई गई आपत्ति के बाद उठे विवाद को लेकर भारत का दौरा कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें:-आतंकियों से मुठभेड़ में सिरसा का लाल शहीद, मां से कहा था- जून में घर आऊंगा, लेकिन…

Government warned on Corona

पीएम मोदी के साथ कई कार्यक्रमों में लेंगे भाग
जानकारी के अनुसार, अपने तीन दिन के गुजरात दौर के दौरान डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ टेड्रोस घेब्रेसस (Tedros Ghebreyesus) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। WHO प्रमुख कल यानि मंगलवार को पीएम मोदी के साथ जामनगर में पारंपरिक चिकित्सा पर डब्ल्यूएचओ के वैश्विक केंद्र (जीसीटीएम) के शिलान्यास में शामिल होंगे। इसके अलावा बुधवार को डब्ल्यूएचओ प्रमुख घेब्रेसस गांधीनगर में पीएम मोदी के साथ ग्लोबल आयुष इन्वेस्टमेंट एंड इनोवेशन समिट के उद्घाटन में भी शामिल लेंगे।

ये भी पढ़ें:-मांझी के नाम में राम कहां से आया!

इसलिए छिड़ा कोरोना से हुई मौतों को लेकर विवाद
WHO Chief India Visit: एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में कोरोना से मरने वाले लोगों का सरकारी आंकड़ा 5.20 लाख है लेकिन, डब्ल्यूएचओ ने भारत में 40 लाख से अधिक लोगों की मौतें होना बताया है। जिसके बाद से विवाद की स्थिति बनी हुई है। भारत ने कोरोना से होने मौतों की गणना करने के लिए डब्ल्यूएचओ के तरीके पर सवाल उठाए हैं। ऐसे में भारत दुनियाभर में कोरोना से हुई मौत के आंकड़े सार्वजनिक करने से डब्ल्यूएचओ को रोक रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने की ओर से कहा गया है कि इसे लेकर डब्ल्यूएचओ को छह पत्र भी लिखे गए हैं।

ये भी पढ़ें:- लखीमपुर के आरोपी की जमानत पर फैसला आज

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen + twelve =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
मुद्रास्फीति का 6.8 प्रतिशत का अनुमान इतना ऊंचा नहीं कि निजी उपभोग को रोके
मुद्रास्फीति का 6.8 प्रतिशत का अनुमान इतना ऊंचा नहीं कि निजी उपभोग को रोके