WORLD OCEAN DAY 2021: आज दुनियाभर में मनाया जा रहा है विश्व महासागर दिवस, जानें इसकी थीम और समुंद्र में रहने वाले अजीब जानवरों के बारें में..

Must Read

WORLD OCEAN DAY 2021: आज विश्व भर में महासागर दिवस मनाय़ा जा रहा है। महासागर दिवस मनाने का एकमात्र उद्देश्य यह है कि लोगों में महासागर के प्रति जागरूकता फैलाना। लोग हर साल अपनी वैकेशन्स के लिए BEACH पर जाते है और वहां गंदगी फैला देते है। और उसे साफ करने का भी कोई नाम नहीं है। महासागर दिवस मनाने का एक उद्देश्य यह भी है कि लोग जान सकें कि महासागर हमारे लिए कितने महत्वपूर्ण है। इससे हमें अत्यंत महत्वपूर्ण सामग्री प्राप्त होती है। अगर यह हमारे मनोरंजन का एक साधन है तो इससे हमें अनेक औषधियां भी मिलती है। महासगरों से हमें कई तरह की दवाइयां मिलती हैं जिसमें कैंसर तक की दवाइयां शामिल हैं। इसलिए सभी लोगों की जिम्मेदारी बनती है कि वह महासागर के अस्तित्व को बनाए रखने और इनके सरंक्षण में अपना योगदान दें। समुंद्र में अनकों अजीबगरीब जीव रहते है जिन्हें कभी देखा भी नहीं होगा और ना ही सुना होगा। व्हेल मछली के बारे में सब ही जानते है कुछ लोगों ने उसे देखा भी होगा लेकिन आज हम बात करेंगे समुंद्र में रहने वाले ऐसे जीवों के बारे में जिन्हे देखर आश्चर्य में पड़ जाएगें।

also read: India V Sri Lanka क्रिकेट घमासान! इंडिया की नई टीम जाएगी दौरे पर, ये हो सकते हैं नए कप्तान, जानें पूरा शेड्यूल

आज की थीम

विश्व महासागर दिवस 2021 की थीम है- महासागर में मौजूद लाइफ और लाइवलीहुड से जुड़े तथ्यों के बारे में आम जन तक जानकारी पहुंचाना। लोगों में ये जागरूकता पैदा करना कि ये महासगर ही हैं जो पूरी दुनिया में प्रोटीन उपलब्ध कराने का सबसे बड़ी जरिया है। महासागर आर्थिक स्थिति को मजबूत करने और रोजगार देने में भी अहम भूमिका निभाता है। समुद्र हमें काफी कुछ देता है जिसमें सी फूड, मूंगा, ऑक्सीजन, भोजन और हवा शामिल है। इससे जलवायु में भी बैलेंस बना रहता है। समुद्र से मिलने वाला सी फूड पोषक तत्वों से भरपूर होता है। सी फूड एजिंग को भी काफी धीमा कर देता है।

समुंद्र में रहने वाले 5 अजीब जानवर

आइये जानते है समुंद्र में होने वाली अजीबो-गरीब घटनाओं के बारे में। ऐसी घटनाए आपने कभी सुनी नहीं होगी। जिनके बारे में सुनकर आप आश्चर्य में पड़ जाएंगे। आइये जानते है समुंद्र के रहस्यों के बारे में..

1 सी होर्स(sea hourse)

समुंद्र में रहने वाले जानवरों के जन्म हमेशा मादा जानवर देती है लेकिन यब बात समुंद्री घोड़ों पर लागू नहीं होती है। समुंद्री घोड़ों को जन्म देने का काम नर घोड़ों का होता है। अनके आगे एक थैली बनी होती है जिसमें मादा जानवर अपने अण्ड रखती है जिसके 54 दिनों के बाद बच्चे निकलने लगते है। बच्चों के निकल जाने के बाद नर समुंद्री घोड़ा किसी नई मादा जानवर को ढ़ूढ़ने निकल जाता है।

2. PYROSOME– यह दिखने में एक बड़े से सांप जैसा लगता है । इसकाशरीर पारदर्शी होता है जिसके कारण यह आसानी से दिखाई नहीं देता है। इस कारण शिकार धोखा खा जाते है और यह उनका शिकार आसानी से कर लेता है। यह समुंद्र की गहराई में रहना पसंद करता है। इस कारण इसे देख पाना आसान नहीं होता है।

3. CHRISTMAS ISLAND– यह सुनकर बिल्कुल यकीन नहीं होगा कि दुनिया में ऐसा ISLAND भी है जहां चारों तरफ लाल रंग के केकड़े मौजूद हो। इस टापू पर काम करने वाले अधिकारी एक सप्ताह के लिए यहां से गुज़रने वाले वाहनों पर रोक लगा देते है जिससे इन केकड़ों को जाने का रास्ता मिल सकें। आज तक इन केकड़ों का पता नहीं लग पाया है कि ये आते कहां से है, कुछ समय के टापू को बंद कर दिया जाता है जिससे ये आसानी के निकल सकें और किसी को नुकसान ना पहुंचायें।

4. UNDERWATER CROP CIRCLES- पहले CROP CIRCLES अमेरिका में पाये जाते थे और इनकों अमेरिका में ही देखा गया था। लेकिन अब इनकों पानी के अंदर जापान में भी देखा गया है। इसे अजीब घटना को अंजाम देने के लिए बनाया जाता है। इसे नर, मादा को लुभाने के बनाते है। इसे बनाने में एक दिन से एक सप्ताह तक का समय लग जाता है। ऐसा अनुमान लगाया जाता है कि ऐसा करने पर नर मछली मादा मछली की ओर जल्द आकर्षित हो जाएगी।

5. GLASS SQUID– समुंद्र में बहुत से प्रकार के जीव-जन्तु मिल जाएंगे जिनके आर-पार देखा जा सकता है। वैज्ञानिक इस पर रिसर्च कर रहे है। ताकि इन्हें इंसानों पर आजमाया जा सकें। यह देखने में बहुत ही सुंदर होते है। पानी में रहते हुए ये अलग नहीं लगते है। पारदरशी होते है तो इन्हे पहचानना बहुत कठिन होता है।

6. BIOLUMINESCENCE– यह प्रकृति का ही एक चमत्कार है। जिन्हें रात होने पर नीले रंग से जगमगाने लगते है इलके नीले होने का कारण छोटे-छोटे जीवों को माना जाता है। जिन्हे छूने से यह नीले रंग में जगमगाने लगते है। यद देखने में अत्यंत खबसूरत होते है। इन्हे देखना मतलब जन्नत मिल जाने जैसा होता है।

सी फूड के फायदे

समु्द्र से मिलने वाले खाद्य पदार्थ जैसे कि मछलियां, केकड़ा, प्रॉन को सी फूड कहा जाता है। झींगा, क्रेब्‍स, केकड़ा, स्क्विड, ओएस्टर और मछली सी फूड की श्रेणी में आते हैं। सी फूड नॉन-वेज होता है। समुंद्र में रहने वाले सभी जीवों को जो खाने लायक हो उन्हें सी फूड ही कहा जाता है। महासागर के माध्यम से ही हमें प्रोटीन की प्राप्ति होती है। सी फूड में ऐसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं जो शरीर को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी होते हैं। ये पोषक तत्व अन्य खाद्य पदार्थों में नहीं पाए जाते हैं। सी फूड में सेलेनियम और विटामिन ई मुख्य रूप से पाए जाते हैं. इसके अलावा समुद्र में पाए जाने वाले खाद्य पदार्थों में प्रोटीन भी उचित मात्रा में पाया जाता है। सी फूड में विटामिन ए, बी कॉम्‍प्‍लेक्‍स, विटामिन डी, सेलेनियम, जिंक, आयोडीन और आयरन भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। शरीर पर एजिंग का प्रभाव रोकने के लिए ओमेगा 3 फैटी एसिड काफी फायदेमंद होता है। मछली में ओमेगा 3 फैटी एसिड अधिक मात्रा में पाया जाता है।

सी फूड क्यों है हेल्दी

-कुछ खास मछलियां सेहत के लिए बहुत ही अच्छी होती हैं जिनमें टूना फिश, आर्कटिक चार, स्ट्रिपड बास, सर्दिनेस, पर्च, कॉड, अलास्कन सालमन का नाम शामिल है.

-कॉड फिश में फॉस्फोरस, नियासिन, विटामिन B 12 अधिक मात्रा में पाया जाता है.

-अलास्कन सालमन में ओमेगा 3 फैटी एसिड अधिक मात्रा में पाया जाता है जो कि स्किन पर बढ़ती उम्र का प्रभाव नजर आने नहीं देता

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जानें सत्य

Latest News

Delhi में भयंकर आग से Rohingya शरणार्थियों की 53 झोपड़ियां जलकर खाक, जान बचाने इधर-उधर भागे लोग

नई दिल्ली | दिल्ली में आग (Fire in Delhi) लगने की बड़ी घटना सामने आई है। दक्षिणपूर्व दिल्ली के...

More Articles Like This