International Yoga Day 2021: अंतरराष्ट्रीय योग दिवस आज - Naya India
ताजा पोस्ट | समाचार मुख्य| नया इंडिया|

International Yoga Day 2021: अंतरराष्ट्रीय योग दिवस आज

International Yoga Day 2021

International Yoga Day 2021 : नई दिल्ली। सोमवार को लगातार दूसरे साल अंतरराष्ट्रीय योग दिवस बिना किसी सामूहिक कार्यक्रम के मनाया जाएगा। कोरोना की वजह से कोई सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं होगा।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को सातवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आयोजित कार्यक्रम को सुबह साढ़े छह बजे संबोधित करेंगे।

International Yoga Day 2021

प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को सोशल मीडिया पर बताया- कल 21 जून को हम सातवां योग दिवस मनाएंगे। इस वर्ष का विषय योग फॉर वेलनेस है, जो शारीरिक और मानसिक कल्याण के लिए समर्पित होगा। कल सुबह करीब साढ़े छह बजे योग दिवस कार्यक्रम को संबोधित करूंगा। कोरोना महामारी के चलते पूरा वर्चुअल ही होगा। यानी इसका सीधा प्रसारण टीवी पर किया जाएगा। बाहर कोई सामूहिक कार्यक्रम नहीं रखा गया है।

भारत के योग से पूरा विश्व हो रहा है प्रकाशवान, न्‍यूयॉर्क के ‘टाइम्‍स स्‍क्‍वायर’ पर भी दिखा गजब का नजारा..

International Yoga Day 2021

दूरदर्शन के सभी चैनलों पर सुबह साढ़े छह बजे शुरू होने वाले इस कार्यक्रम में आयुष राज्य मंत्री कीरेन रिजीजू का संबोधन और मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान के योग प्रदर्शन का सीधा प्रसारण भी किया जाएगा। विदेशों में भी भारतीय मिशन इसकी मॉनिटरिंग करेंगे। इस बार भी लगभग 190 देशों में योग दिवस मनाया जाएगा। पहला विश्व योग दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया। इस दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में नई दिल्ली के राजपथ पर करीब 35,985 लोगों ने एक साथ 35 मिनट तक तकरीबन 21 प्रकार के अलग-अलग योगासन किए थे। कोरोना महामारी के बीच इस बार दूसरा योग दिवस International Yoga Day 2021 मनाया जाएगा।

पर भारत ने दुनिया को दी एक और सौगात, PM Modi ने किया ऐलान

International Yoga Day 2021 : हम बता रहे हैं योग के 28 फायदे

  1. योग द्वारा अपने जीवन को सघन वन बनाकर प्रकृति से जुड़ सकते हो।
  2. योग हमारे बिखरे मन को जोड़ता है। हमें मरना नहीं जीना है, योग हमे सिखाता है।
  3. योग व्यक्ति को स्वर्ग में जाकर मुक्ति नहीं देता, अपितु स्वर्ग को मनुष्य के अंदर उतार देता है।
  4. योग तर्कसंगत और सकरात्मक सोच पैदा करता है।
  5. योग असत्य से सत्य की ओर ले जाने हेतु प्रेरित करता है।
  6. तन-मन-मस्तिष्क, अन्तर्मन, जीवन और शरीर का संतुलित करता है योग।
  7. योग शब्द के दो अर्थ हैं और दोनों ही महत्वपूर्ण हैं। पहला है- जोड़ और दूसरा है समाधि।
  8. जब तक हम स्वयं से नहीं जुड़ते, समाधिस्थ नहीं हो सकते।
  9. योग से अनेक रोगों का नाश होकर तन-मन, अन्तर्मन निखरता है।
  10. योग शरीर के साथ-साथ आंतरिक मन का शर्तिया इलाज है।
  11. योग से वियोग का भय-भ्रम मिट जाता है।
  12. योग अकेलापन, तनाव, डिप्रेशन, चिन्ता आदि जैसे धीमे जहर को योग उत्पन्न नहीं होने देता।
  13. अनिद्रा, मोटापा, याददाश्त की कमी, उच्च रक्तचाप यानि बीपी हाई का जानी दुश्मन है-योग
  14. योग से नाड़ियों का शुद्धिकरण होता है।
  15. योगासन से फेफड़ों में जमा कफ, मल एवं संक्रमण पिघलकर बाहर निकल जाता है।
  16. योग द्वारा मन में अमन आता है। मन मलिन एवं अशांत नहीं होता।
  17. दमा-अस्थमा, श्वांसरोग जड़ से मिट जाता है।
  18. पाचक ग्रन्थि यानिपेन्क्रियाज क्रियाशील रहती है।
  19. मेटाबॉलिज्म, पाचनतंत्र मजबूत होता है।
  20. योग वात-पित्त-कफ सन्तुलित करता है।
  21. योग दाएं-बाएं मस्तिष्क नाड़ियों में प्राणवायु का आवागमन करके सोच-विचारों में तालमेल बिठाता है।
  22. योग सदैव तनाव मुक्त रखता है।
  23. योग करने से रोगप्रतिरोधक क्षमता अर्थात इम्युनिटी में वृद्धि होती है।
  24. योग एक प्रायोगिक विज्ञान है, जो पूजा-अर्चना, धर्म, आस्था, टोना-टोटका, तन्त्र-मन्त्र, उच्चाटन और अंधविश्वास से परे है।
  25. योग एक शरीर स्वास्थ्य विज्ञान है।
  26. योग जीवन जीने की कला तथा सम्पूर्ण प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति है।
  27. धर्म लोगों को खूँटे से बाँधता है और योग सभी झंझटों से मुक्ति का मार्ग बताता है।
  28. जैसे पर्वतों में हिमालय श्रेष्ठ है, वैसे ही समस्त दर्शनों, विधियों, नीतियों, नियमों, धर्मों और व्यवस्थाओं में योग श्रेष्ठ है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *