हर मोर्चे पर विफल रही है योगी सरकार : शर्मा

मथुरा। उत्तर प्रदेश के पूर्व शिक्षा मंत्री श्याम सुन्दर शर्मा ने कहा कि अब तक के तीन साल के कार्यकाल में योगी सरकार विकास और कानून व्यवस्था समेत हर मोर्चे पर पूरी तरह विफल रही है।

शर्मा ने आज पत्रकारों से कहा कि विकास का दावा करने वाली भाजपा सरकार का काम जमीन पर लोगों को नहीं दिख रहा है। महंगाई चरम पर है जबकि किसान की आमदनी आधी रह गई।

पेट्रोल डीजल और रसोई गैस के दाम आसमान छू रहे हैं। योगी सरकार के कार्यकाल में बिजली के दाम पांच बार बढे। खाद भी महंगी हो गई । बची खुची कसर को छुट्टा जानवरों ने किसान की खड़ी फसल को खाकर पूरा कर दिया। खेती से संबंधित चीजों के दाम बढ़ने से किसान की आय किस प्रकार दूनी होगी।

इसे भी पढ़ें :- उत्तर प्रदेश में अब 27 मार्च तक लॉकडाउन : योगी

उन्होने कहा कि पिछली बार किसान का धान 3000 रूपए प्रति कुतंल बिका था जबकि इस बार 1800 रूपए प्रति कुंतल में बिका है और कहा जा रहा है कि किसान चार फसल ले। सहकारिता क्षेत्र का भी हाल बुरा है। पहले कोआपरेटिव सोसाइटी कैश क्रेडिट देती थीं। यदि एक एकड़ खेत है तो किसान को 50 हजार देने की लिमिट होती थी। अब किसी की कैश क्रेडिट नहीं मिलता है।

जब कैश क्रेडिट पास नही तो खाद और बीज किसान कहां से लेगा क्योंकि उसके पास पैसा नही है। वेैद्यनाथन कमेटी की रिपोर्ट गड्डे में चली गई। विधानसभा में आश्वासन समिति के अध्यक्ष शर्मा ने कहा कि सरकार का तर्क है कि उसने बालू खनन में व्याप्त खनन में लगाम कसी है।

विधान सभा में एक सवाल के जवाब में वित्त मंत्री सुरेश खन्ना का कहना था कि बसपा के शासनकाल में बालू खनन में 1700 करोड़ रूपये और सपा राज में 2400 करोड़ रूपये का राजस्व अर्जित हुआ था जबकि भाजपा ने इसे बढाकर 3800 करोड रूपये कर लिया। इस दौरान बालू की कीमत में सरकार ने सौ फीसदी की बढोत्तरी की। इस लिहाज से अगर अखिलेश राज से तुलना की जाये तो सरकार को 4800 करोड़ रूपये का लाभ अर्जित करना चाहिये था।

पूर्व मंत्री ने कहा कि योगी सरकार के कार्यकाल में एक सरकारी प्राइमरी, जूनियर, हाईस्कूल, अथवा डिग्री कालेज नही खोला गया जबकि जिला अस्पताल को अपग्रेडेशन कर उसे मेडिकल कालेज का नाम देकर सरकार अपनी पीठ थपथपा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares