Coronavirus Damage Brain Corona से सिकुड़ रहे इंसानों के दिमाग के कई हिस्से
कोविड-19 अपडेटस | लाइफ स्टाइल| नया इंडिया| Coronavirus Damage Brain Corona से सिकुड़ रहे इंसानों के दिमाग के कई हिस्से

Corona से सिकुड़ रहे इंसानों के दिमाग के कई हिस्से, नई स्टडी में वैज्ञानिकों ने किया खुलासा

Black Fungus in Rajasthan

नई दिल्ली। Coronavirus Damage Brain : दुनिया में कोहराम मचा रही कोरोना वायरस की महामारी अब और जटिल होती जा रही है। कोरोना की पहली से भी ज्यादा खतरनाक उसकी दूसरी लहर रही। कोविड-19 वायरस फेफड़ों और दिल पर तो असर करता ही है, लेकिन अब वैज्ञानिकों ने एक नई स्टडी के बाद नया खुलासा किया है जिसके अनुसार, कोरोना वायरस दिमाग पर भी बहुत बुरा आघात करता है। कोविड लोगों पर सिर्फ तनाव ही नहीं छोड़ रहा, बल्कि दिमाग के कई हिस्सों को सिकुड़ भी रहा हैं।

ये भी पढ़ें:- कोवैक्सीन को  WHO ने नहीं दी थी मंजूरी , थर्ड फेज के क्लिनिकल ट्रॉयल में पाया गया 77.6 प्रतिशत प्रभावी

कम बीमारी के बावजूद दिमाग पर गहरा असर
वैज्ञानिकों ने पहली बार कोविड-19 से पहले और बाद में दिमाग के स्कैन को स्टडी करने पर पाया कि, थोड़ी गंभीर बीमारी होने पर भी दिमाग पर गहरा असर देखा गया। हारवर्ड मेडिकल स्कूल की फिजिशन डॉ. अदिति नेरूरकर के मुताबिक, ब्रिटेन के वैज्ञानिकों की एक टीम ने यह स्टडी कर पता लगाया है कि कोरोना के बाद लिंबिक कॉर्टेक्स, हिपोकैंपस और टेंपोरल लोब सिकुड़ते पाए गए। दिमाग के इन हिस्सों से गंध/स्वाद, याद्दाश्त और भावनाएं नियंत्रित होती हैं। जबकि ये बदलाव ऐसे लोगों में सामने आए जिन्हें बीमारी कम थी और उन्हें अस्पताल में भी एडमिट नहीं होना पड़ा था।

ये भी पढ़ें:- corona vaccination offers : दिल्ली के इस रेस्टोरेंट्स में कोरोना वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट दिखाइए और 20 % छूट का फायदा उठाइए..

40 हजार लोगों का किया ब्रेन स्कैन
ब्रिटेन बायोबैंक ने संक्रमण की शुरुआत में 40 हजार लोगों का ब्रेन स्कैन किया था। 2021 में इनमें से 782 को दोबारा बुलाया गया। इन लोगों में से 394 कोरोना पॉजिटिव रह चुके थे। इनके दिमाग की बनावट और काम करने की प्रक्रियाओं को स्कैन किया गया तो नतीजों में दिमाग के कुछ हिस्से सिकुड़े पाए गए।

ये भी पढ़ें:- सावधान.. कोरोना वैक्सीन लगवा लें अन्यथा जाना होगा जेल

डेल्टा प्लस वेरिएंट कितना खतरनाक, डॉक्टर्स के पास नहीं कोई जानकारी!
वहीं दूसरी और अब कोरोना का डेल्टा प्लस वेरिएंट कितना खतरनाक होगा, इस बारे में डॉक्टर्स को भी कोई जानकारी नहीं मिल पा रही है। एम्स के डॉक्टर के अनुसार, डेल्टा प्लस में अतिरिक्त म्यूटेंट K417N है, जो डेल्टा (B.1.617.2) को डेल्टा प्लस में बदल देता है। उन्होंने कहा कि ऐसी अटकलें हैं कि यह म्यूटेंट अधिक संक्रामक है और यह अल्फा संस्करण की तुलना में 35-60 फीसदी ज्यादा संक्रामक है। हालांकि, भारत में इसकी संख्या बहुत कम है।

Latest News

Rajasthan में फिर टल सकता हैं मंत्रिमंडल में फेरबदल, अगस्त तक करना होगा इंतजार!
जयपुर | Rajasthan Cabinet Reshuffle: पंजाब की राजनीति में चल रही उठापटक को सुलझाने के बाद अब कांग्रेस आलाकमानों का पूरा फोकस…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});