Covid-19 Symptoms: भारत में ये हैं नये Corona Strain के लक्षण, ना करें इग्नोर - Naya India
लाइफ स्टाइल| नया इंडिया|

Covid-19 Symptoms: भारत में ये हैं नये Corona Strain के लक्षण, ना करें इग्नोर

भारत में कोरोना की दूसरी लहर का प्रभाव देखने को मिल रहा है। जो पहले से बिल्कुल अलग है। दूसरी लहर में कोरोना का म्यूटेट वायरस है। इसके लक्षण अभी सही तरह से किसी को पता नहीं है। पहली लहर में कोरोना के कुछ सामान्य लक्षण दिखायी दे रहे थे जिससे डॉक्टर और मरीज इसे कोरोना संक्रमित कह पा रहे थे। पहले कोरोना में जुकाम, बुखार, खांसी, छिंकना, सिरदर्द जैसे लक्षण दिखाई दे रहे थे। लेकिन कोरोना के नये वैरियंट में लक्षणों के आधार पर यह कह पाना बेहद मुश्किल है कि कोरोना है या नहीं। कोरोना का नया वेरिएंट बहुत खतरनाक है इसलिए यह न सिर्फ श्वसन प्रणाली पर हमला कर रहा है बल्कि अलग-अलग मरीजों पर तरह-तरह से प्रभावित कर रहा है। यही वजह है कि खांसी, सर्दी, श्वास संबंधी लक्षणों के अलावा भी कई लक्षण लोगों में नजर आ रहे हैं। कोरोना का नया वायरस बच्चों और युवाओं पर ज्यादा असर डाल रहा है। आइये जानते है कोरोना वैरियंट के लक्षणों के बारे में…

New Symptoms of Covid 19

इसे भी पढ़ें प्रवासी मजदूरों के पलायन पर Rahul Gandhi ने कहा, उनके के खाते में रुपये जमा करे केंद्र सरकार

1. आंखों का लाल होना

कोरोना का नया स्ट्रेन आपकी आंखों पर असर डाल सकता है। यदि आपको कंजेक्टिवाइटिस, आंखों में पानी आना और धुंधलापन लगे, तो संभावना है कि यह स्थिति वायरस के कारण बनी हो। इससे अंधे होने का भी खतरा हो सकता है। ऐसा कोई भी लक्षण आपको दिखाई दें तो इसको हल्कें में ना लें। तुरंत चिकित्सक से सलाह-मशवरा करें।

2. बहरापन या सुनने में परेशानी

बहरापन या कान का बजना भी कोरोना वायरस के गंभीर संक्रमण का एक संकेत हो सकता है। इसमें आपको ऊंचा सुनाई देना,मन सुनाई देना भी हो सकता है। रिसर्च से पता चला कि कोविड-19 से प्रभावित 7.6 फीसद लोगों ने कुछ प्रकार सुनने के मुद्दे का सामना किया।

3. गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल के लक्षण

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल की कई शिकायतें भी सुनने को मिल रही है। ये एक आश्चर्य के रूप में आ सकता है। लेकिन कई मामलों में देखा गया है कि डायरिया और उल्टी कोरोना वायरस के संकेत हो सकते हैं।

4. मांसपेशियों में दर्द एवं कमजोरी

कई सारे मरीज बताते हैं कि उन्हें ऐसा महसूस होता है कि उनके शरीर में ऊर्जा ही नहीं है। मासंपेशियों में दर्द बना हुआ है। ऐसे लक्षण हल्के बुखार के साथ आ रहे है। बुखार के बाद शरीर में थकान और बदन दर्द जैसा समस्याएं होती है। ऐसे मरीजों को भी तुरंत कोरोना की जांच करवाने का परामर्श दिया जा रहा है।

5. भूख न लगना और मानसिक सेहत पर असर

जहां पहले कोरोना के पोस्ट लक्षणों में यह देखा जा रहा था कि मानसिक रूप से मरीज खुद को अस्वस्थ महसूस कर रहे हैं। अब यह पोस्ट लक्षण मुख्य लक्षणों के श्रेणी में आ चुका है।कोरोना वायरस शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से मरीज को कमजोर कर रहा है।कोरोना होने के बाद लंबे समय तक मरीज खुद को कमजोर महसुस करता है। मानसिक तौर पर भी मरीज को लगता है कि वह बीमार है।

इसे भी पढ़ें Corona Update : Covid-19 से बेहाल देश! 24 घंटे में सामने आए 2.56 लाख नए मामले, भारत को लेकर अमेरिका-ब्रिटेन ने उठाए सख्त कदम

6. सांस लेने में परेशानी होना

सांस में तकलीफ या छाती में दर्द इंफेक्शन के ज्यादा खतरे का संकेत है। कोरोना वायरस एक रेस्पिरेटरी इंफेक्शन है और ये वायरस हमारे ‘अपर ट्रैक्ट’ में हेल्दी सेल्स पर हमला करता है। परिणामस्वरूप मरीज को सांस लेने में तकलीफ होने लगती है और उसकी जान को खतरा बढ़ जाता है। छाती में किसी भी प्रकार के दर्द को इग्नोर न करें। SARS-COV2 कई मामलों में फेफड़ों की म्यूकोसल लाइनिंग पर अटैक करता है। इसलिए छाती के इस हिस्से में मरीज को दर्द और जलन महसूस होने लगती है। यह तकलीफ अस्थमा के मरीजों को ज्यादा हो रही है। कोरोना की नया स्ट्रेन अस्थमा को मरीजों की जान ज्यादा ले रहा है।

7. ऑक्सीजन लेवल

कोरोना संक्रमित होने पर शरीर के ऑक्सीजन लेवल पर भी इसका बुरा असर पड़ता है।दरअसल, कोरोना पॉजिटिव होने पर इंसान के फेफड़ों के एयर बैग में फ्लूड भर जाता है। जिससे सांस लेने में दिक्कत होती है। ऐसा होने पर मरीज की मौत भी हो सकती है। शरीर में ऑक्सीजन लेवल की कमी हो जाती है। ऐसा होने पर मरीज को तुरंत अस्पताल में दाखिल हो जाना चाहिए।

8. बेहोशी या ब्रेन फंक्शन में दिक्कत

कई ऐसे मामले सामने आए हैं जहां कोविड-19 मरीजों के ब्रेन फंक्शन और नर्वस सिस्टम को प्रभावित करता है। कई मरीजों में कन्फ्यूज़न, आलस, बेचैनी और बेहोशी जैसे लक्षण भी देखे जा चुके हैं। एक्सपर्ट कहते हैं कि यदि किसी मरीज को आसान काम करने में दिक्कत हो रही है या किसी वाक्य को बोलने में लड़खड़ाहट हो रही है तो उसे तुरंत अस्पताल चले जाना चाहिए।

9. होठों पर नीलापन

कोरोना पॉजिटिव होने पर कई लोगों के होंठ और चेहरे पर नीलापन आ जाता है। ये शरीर में ऑक्सीजन लेवल के प्रभावित होने का संकेत है। जिसे मेडिकल भाषा में हाइपोक्सिया कहा जाता है। हाइपोक्सिया में हमारे टिशूज़ को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाता है जिस कारण बॉडी ठीक से फंक्शन नहीं कर पाती हैं।

10. जीभ पर थक्के जमना 

यह लक्षण ज्यादातर बच्चों में दिखने को मिल रहे है। कोरोना के नये स्ट्रेन में बच्चों की जीभ पर थक्के जम रहे है। बच्चों में किसी भी प्रकार के लक्षणों को अनदेखा ना करें तुरंत डॉक्टर से सलाह ले।

इसे भी पढ़ें कोरोना से जंग को तैयार सेना! राजनाथ सिंह ने आर्मी चीफ से की बात, कहा- सेना हरसंभव मदद करें

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *