different customs of the world : जानिए इन देशों की अलग-अलद प्रथा के बारे में, जिसे सुनकर आपकी रूह कांप उठेगी....गाय का खून चूसने से लेकर शव को जानवरों को खिलाने तक की प्रथा..
लाइफ स्टाइल| नया इंडिया| different customs of the world : जानिए इन देशों की अलग-अलद प्रथा के बारे में, जिसे सुनकर आपकी रूह कांप उठेगी....गाय का खून चूसने से लेकर शव को जानवरों को खिलाने तक की प्रथा..

जानिए इन देशों की अलग-अलग प्रथा के बारे में, जिसे सुनकर आपकी रूह कांप उठेगी….गाय का खून चूसने से लेकर शव को जानवरों को खिलाने तक की प्रथा..

different customs of the world

दुनिया के किसी भी देश में एक जैसे नियम कानून नहीं होते है। वहां का खान-पान, रीति-रिवाज, कल्चर सब अलग होता है। लेकिन दुनिया में कुछ देश ऐसे भी है जहां अजीबोगरीब रीति-रिवाज होते है। आज हम दुनिया के कुछ देशों की अलग-अलग प्रथा के बारे में जानेंगे कुछ ऐसे है जिनको पढ़कर आपकी रूह कांप जाएगी तो कुछ प्रथाएं बेहद अजीब है। ( different customs of the world )

different customs of the world

also read: देर आए, दुरुस्त आए : सऊदी के इतिहास में पहली बार पवित्र “मक्का मस्जिद” में किसी ‘महिला सुरक्षाकर्मी’ की हुई तैनाती

  1. फामादिहाना रिवाज ( different customs of the world )

मेडागास्कर की मालागासी जनजाति में ‘फामादिहाना’ नाम का रिवाज पाया जाता है। ( different customs of the world ) मालागासी जनजाति द्वारा इसे प्रत्येक सात साल में मनाया जाता है। मालागासी जनजाति द्वारा अपने पूर्वजों के शव को निकालकर उसको नए कपड़े में फिर से लपेटते हैं। फिर संगीत बजाकर कब्र के चारों तरफ नाचते हैं। मान्यता है कि ऐसा करने से उनके पूर्वज उन्‍हें सुखी और संपन्‍न रहने का आशीर्वाद देते हैं।

different customs of the world

  1. शव के टुकड़े कर जानवरों को खिलाना

तिब्बत में यह मान्यता है कि किसी के मरने के बाद उसके शव को घसीटकर एक विशेष पर्वत पर ले आते हैं और वहां शव के टुकड़े-टुकड़े किए जाते हैं। फिर उन्हें यूं ही छोड़ दिया जाता हैं। ( different customs of the world ) इसके बाद इन टुकड़ो को जलाया या दवाया नहीं जाता है।  बौद्ध धर्म में मान्यता है कि मौत के बाद शरीर किसी काम का नहीं होता। इसलिए बेहतर है कि शरीर के टुकड़े कर जानवरों को खिला दिया जाए। जिससे जानवरों का पेट भर सकें।

different customs of the world

  1. लड़की को शारीरिक सबंध बनाने की होती है छूट

कम्‍बोडिया लड़कियों के लिए एक प्रथा है जिसके बारे में सुनकर थोडा अजीब लग सकता है। कम्‍बोडिया में जैसे ही लड़कियोंं के पीरियड्स शुरु होते है। 13-15 साल की उम्र में पिता अपनी बेटियों के लिए एक अलग से झोपड़ीनुमा घर बना देते है। ( different customs of the world ) जहां पर एक बेड के साथ जरूरत का सारा सामान उपलब्ध होता है। इसे कम्‍बोडिया में लव हट कहा जाता है। इसके बाद लड़की के परिवार वाले उसे अपना मनपसंद जीनवसाथी चुनने और उसके साथ शारीरिक सबंध बनाने की छूट देते है। लड़की को यह छूट तब तक होती है जब तक वह अपना पसंद का जीवनसाथी नहीं चुन लेती। लड़का पसंद आने के बाद उसके साथ शादी कर दी जाती है।

different customs of the world

  1. नव शादीशुदा जोड़े को बाथरूम की होती है पाबंदी ( different customs of the world )

इंडोनेशिया में एक तिदोंग समुदाय में अजीब प्रथा प्रचलित हैं।  ( different customs of the world ) यहां नए कपल शादी के तीन दिन तक बाथरूम का इस्तेमाल नहीं कर सकते। वे न तो टॉयलेट जा सकते हैं और न ही यूरीन पास कर सकते हैं.।नहाना भी मना होता है। इससे दूल्हा-दुल्हन की सहनशीलता परखी जाती है।मान्यता है कि ऐसा करने से शादीशुदा जिंदगी अच्छी और लंबी चलती है।

  1. शुभ अवसर पर गाय का खून चूसना

दक्षिणी केन्या और उत्तरी तंजानिया में मसाकी नाम की जनजाति है। जो अलग-अलग शुभ अवसरों पर गाय का खून चूसती है। यह जनजाति ऐसा करना शुभ मानती है। ( different customs of the world ) शादी और बच्चों के जन्म के वक्त खासतौर पर ऐसा किया जाता है। पहले गाय को एक तीर से घायल किया जाता है।  फिर एक-एक कर लोग उसका खून चूसते हैं।

different customs of the world

  1. पत्नि को लेकर अंगारों पर चलना ( different customs of the world )

चीन में परंपरा है कि यदि पत्नी गर्भवती हो जाए तो पति अपने बच्चे की सलामती के लिए एक अत्यंत कष्टदायक प्रथा निभानी होती है। पत्नी को गोद में लेकर नंगे पैर अंगारों पर चलना पड़ता है।  ( different customs of the world ) माना जाता है कि ऐसा करने से डिलीवरी नॉर्मल होती है और बच्चा स्वस्थ्य पैदा होता है।

  1. मौत होने पर अंगुली काटने की प्रथा

इंडोनेशिया में प्रथा है कि घर में अगर किसी सदस्य की मौत हो जाए तो परिवार की महिला अपनी एक अंगुली काट लेती हैं।  हालांकि, पिछले कुछ साल में इस प्रथा को बैन कर दिया गया है। मगर कुछ परिवार अभी भी इस प्रथा को मानते आ रहे हैं। ( different customs of the world )

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});