e-cigarettes containing nicotine : निकोटीन युक्त ई-सिगरेट से रक्त के थक्के जमने
लाइफ स्टाइल| नया इंडिया| e-cigarettes containing nicotine : निकोटीन युक्त ई-सिगरेट से रक्त के थक्के जमने

निकोटीन युक्त ई-सिगरेट के उपयोग से रक्त के थक्के जमने में वृद्धि, दिल के दौरे के खतरे को बढ़ावा

e-cigarettes containing nicotine

यूरोपीय रेस्पिरेटरी सोसाइटी में प्रस्तुत शोध के अनुसार निकोटीन युक्त ई-सिगरेट का उपयोग करने से रक्त के थक्कों के निर्माण में तत्काल वृद्धि होती है और छोटी रक्त वाहिकाओं के विस्तार और विस्तार करने की क्षमता में गिरावट आती है। साथ ही हृदय गति और रक्तचाप भी बढ़ जाता है। निकोटीन शरीर में एड्रेनालाईन जैसे हार्मोन के स्तर को बढ़ाने के लिए जाना जाता है जो बदले में रक्त के थक्कों के गठन को बढ़ा सकता है। ( e-cigarettes containing nicotine) स्वीडन के स्टॉकहोम में करोलिंस्का इंस्टीट्यूट के नेतृत्व में किए गए छोटे अध्ययन में 18 से 45 वर्ष की आयु के 22 महिलाओं और पुरुषों के एक समूह का विश्लेषण किया गया जो कभी-कभार धूम्रपान करने वाले थे लेकिन अन्यथा स्वस्थ थे।

also read: ‘नाव की पाठशाला’: बाढ़ के पानी में डूबे बिहार के स्कूल के शिक्षकों ने नावों पर कक्षाएं संचालित की

प्रयोग के बाद निकले ये निष्कर्ष

निष्कर्षों से पता चला कि निकोटीन युक्त ई-सिगरेट का उपयोग करने से स्वयंसेवकों में तत्काल अल्पकालिक परिवर्तन हुए। टीम ने 15 मिनट के बाद रक्त के थक्कों में औसतन 23 प्रतिशत की वृद्धि का पता लगाया जो 60 मिनट के बाद सामान्य स्तर पर लौट आया। प्रतिभागियों की हृदय गति में भी वृद्धि हुई (औसतन 66 बीट्स प्रति मिनट/बीपीएम से 73बीपीएम के औसत तक) और रक्तचाप (औसतन 108 मिलीमीटर पारा/एमएमएचजी से 117एमएमएचजी के औसत तक)। शोधकर्ताओं ने पाया कि निकोटीन युक्त ई-सिगरेट का उपयोग करने के बाद स्वयंसेवकों की रक्त वाहिकाएं अस्थायी रूप से संकरी हो गईं। स्वयंसेवकों द्वारा ई-सिगरेट का उपयोग करने के बाद इन प्रभावों को नहीं देखा गया जिसमें निकोटीन नहीं था।

इ-सिगरेट और पारंपरिक सिगरेट में अंतर ( e-cigarettes containing nicotine)

हेलसिंगबर्ग के एक चिकित्सक गुस्ताफ लियटिनन ने कहा कि हमारे नतीजे बताते हैं कि निकोटीन युक्त ई-सिगरेट का उपयोग करने से शरीर पर पारंपरिक सिगरेट पीने के समान प्रभाव पड़ता है। ( e-cigarettes containing nicotine) रक्त के थक्कों पर यह प्रभाव महत्वपूर्ण है क्योंकि हम जानते हैं कि लंबे समय में यह रक्त वाहिकाओं को बंद और संकुचित कर सकता है, और यह निश्चित रूप से लोगों को दिल के दौरे और स्ट्रोक के खतरे में डालता है। शोधकर्ताओं ने कहा कि शरीर पर निकोटीन के प्रभाव सहित पारंपरिक सिगरेट पीने से होने वाले नुकसान सर्वविदित हैं। ई-सिगरेट अपेक्षाकृत नए हैं, और शरीर पर इसके प्रभाव के बारे में कम जाना जाता है, शोधकर्ताओं ने कहा कि अधिक शोध की आवश्यकता है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
आईपीएल 2021 फेज 2 की तैयारियां शुरू, चेन्नई सुपर किंग्स ने भरी UAE के लिए उड़ान – देखें PHOTOS
आईपीएल 2021 फेज 2 की तैयारियां शुरू, चेन्नई सुपर किंग्स ने भरी UAE के लिए उड़ान – देखें PHOTOS