nayaindia Minor Girls Pregnant in Zimbabwe: स्कूल बंद तो प्रेग्नेंट हो रही लड़कियां
लाइफ स्टाइल | विदेश| नया इंडिया| Minor Girls Pregnant in Zimbabwe: स्कूल बंद तो प्रेग्नेंट हो रही लड़कियां

यहां कोरोना के चलते स्कूल हुए बंद तो 12 से 13 साल की उम्र में ही प्रेग्नेंट हो रही लड़कियां

नई दिल्ली | Minor Girls Pregnant in Zimbabwe: कोरोना के ओमिक्रॉन संक्रमण ने पूरी दुनियामें कोहराम मचा रखा है। जिसके चलते लगभग सभी देशों में लॉकडाउन जैसी परिस्थितियां लागू है। स्कूल-कॉलेजों से लेकर बाजार और ऑफिस तक बंद हो गए हैं। ऐसे में लोगों से वर्क फ्रॉम होम करने को कहा जा रहा है। इसी बीच कोरोना संक्रमण ने जिम्बॉब्वे सरकार के लिए एक और नई परेशानी खड़ी कर दी है। देश में कोरोना के कोहराम के चलते सरकार ने पाबंदियां लगाते हुए स्कूल और कॉलेजों को भी बंद कर दिया है जिसके कारण स्कूली बच्चियों के प्रेग्नेंट होने के मामले तेजी से बढ़ने लगे हैं।

ये भी पढ़ें:- श्रीलंका के बल्लेबाज भानुका राजपक्षे ने लिया संन्यास, कहा – फिर से देश के लिए खेलना चाहता हूं

12 से 13 साल की उम्र में ही गर्भवती हो रही लड़कियां
कोरोना संक्रमण के कारण जिम्बॉब्वे सरकार को दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। एक तो पाबंदियों के कारण अर्थव्यवस्था चौपट हो रही हैं वहीं अब लड़कियों के समय से पहले गर्भवती होने का सिलसिला बढ़ता जा रहा है। रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, जिम्बॉब्वे में कोरोना के दौरान लड़कियां 12 से 13 साल की उम्र में ही गर्भ धारण करने लगी हैं और स्कूल छोड़ रही हैं। हालांकि, सरकार और कार्यकर्ताओं ने इस समस्या से निपटने के लिए कई कदम उठाए हैं, लेकिन इसमें किसी तरह का सुधार नहीं हो रहा है।

ये भी पढ़ें:- RTI में केंद्र सरकार के पूछा- नाइट कर्फ्यू से कैसे होता है फायदा, ये किसका विचार था… नहीं मिला जवाब

स्कूल बंद बाल विवाह चालू
कोरोना संक्रमण के कारण स्कूल तो बंद हो गए हैं लेकिन इस दौरान बाल विवाह और और छोटी उम्र में लड़कियों के प्रेग्नेंट होने की समस्या बढ़ती जा रही है। इस दौरान जिम्बॉब्वे और अन्य दक्षिणी अफ्रीकी देशों में छोटी उम्र की लड़कियों के गर्भधारण में काफी बढ़ोतरी हो रही है।

Mumbai Porn Movies Pregnent :

ये भी पढ़ें:- भारत में नहीं अफ्रीका में होगा IPL 2022 का सीजन, जानिए पूरा मामला

लड़कियों को होना पड़ा यौन शोषण का शिकार
बता दें कि, देश में मार्च 2020 में सख्त लॉकडाउन लगाया गया था जिसके बाद बीच-बीच में इसमें छूट भी दी गई थी। लॉकडाउन के चलते कम उम्र की लड़कियों पर बहुत ज्यादा असर पड़ा। कई लड़कियों को यौन शोषण का शिकार होना पड़ा। उन्हें गर्भ निरोधक गोलियों और अस्पताल की सुविधा से वंचित रहना पड़ा। लॉकडाउन के कारण काम धंधे चौपट होने से लोगों ने शादी और गर्भावस्था को गरीबी से बाहर निकलने का एक तरीका मान लिया।

Leave a comment

Your email address will not be published.

four + one =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
राहुल ने किया एक व्यक्ति, एक पद का समर्थन
राहुल ने किया एक व्यक्ति, एक पद का समर्थन