अब तक के दूसरे सबसे बड़े हीरे का पता लगाया गया

नई दिल्ली। मशहूर फैशन ब्रांड लूई वीटॉन हीरे की एक दुर्लभ और असाधारण नमूने को एक नया रूप देने के लिए पूरी तरह से तैयार है। इस 1758 कैरेट के हीरे का नाम सेवेलो डायमंड है, सेत्स्वाना भाषा में जिसका अर्थ ‘दुर्लभ खोज’ है। यह हीरा ल्यूकारा डायमंड कॉर्प (हीरे की खोज और खनन कंपनी) के सौ प्रतिशत स्वामित्व वाली कारोवे खदान से मिला है जो बोत्सवाना में स्थित है।

यह अब तक ढूंढ़ा गया दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा अपरिष्कृत हीरा है और बोत्सवाना से बाहर निकला सबसे बड़ा हीरा है। पेरिस में 21 जनवरी को की गई घोषणा के मुताबिक, ल्यूकारा डायमंड कॉर्पोरेशन और एचबी कंपनी (बेल्जियम के शहर एंटवर्प में हीरा निर्माण कंपनी) के साथ मिलकर अब तक ढूंढ़ा गया दुनिया का सबसे दूसरा बड़ा अपरिष्कृत हीरा अब अपना रूप बदलने के लिए पूरी तरह से तैयार है। दुनिया का सबसे बड़ा हीरा कलिनन हीरा है जो 3106 कैरेट का है।

इसका पता 1905 में दक्षिण अफ्रीका में लगाया गया था। यह अभी ब्रिटेन राजघरानों के शाही संग्रह में शोभायमान है। सेवेलो की गुणवत्ता, इसकी संरचना इत्यादि के बारे में पूरी जानकारी हासिल करने में अभी अगले कुछ और महीनों का वक्त लगेगा। यह न केवल अपने आकार के लिए बल्कि अपने रंग और गठन के दृष्टिकोण से भी शानदार है। इसके ऊपर कार्बन की एक पतली सी परत है जो अपने अंदर दो अरब साल के प्राचीन इतिहास को समेटे हुए हैं।

एचबी कंपनी के साथ लुई विटॉन इस दिशा में गहराई से काम कर रहा है। इसकी वास्तविक क्षमता का आकलन करने के लिए कंपनी द्वारा नवीनतम स्कैनिंग और तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है और इसके साथ ही आने वाले समय में इसे किस तरह का आकार और रूप दिया जाएगा इस बारे में भी योजनाएं बनाई जा रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares