गुजरातः माता सती का ऐसा अनोखा मंदिर जहां श्रद्धालु तो आते है लेकिन मुर्ति नहीं देख पाते.... - Naya India
लाइफ स्टाइल | धर्म कर्म| नया इंडिया|

गुजरातः माता सती का ऐसा अनोखा मंदिर जहां श्रद्धालु तो आते है लेकिन मुर्ति नहीं देख पाते….

भारत में वैसे तो चमत्कारों की कमी नहीं है। भारत में देवी के अनेकों मंदिर विराजमान है। देवी के चमत्कार भी कदम-कदम पर देकने को मिल जाते है। भारत में माता सती के 51 शक्तिपीठ है। मान्यता है कि वहां पर माता सती के शरीर का कोई ना कोई टुकड़ा गिरा था। आज हम बात करेंगे ऐसे ही एक शक्तिपीठ की जहां पर माता सती का हदय गिरा था। मंदिर के गृभग्रह में कोई मुर्ति नहीं है और वहां फिर भी पुजारी आंखों पर पट्टी बांधकर करते हैं पूजा।

यह भी पढ़ें चैत्र नवरात्र 2021 : मां स्कंदमाता अपने भक्तों पर करती है स्नेह की बारिश

राम से कृष्ण तक का सबंध है

अंबा मां का यह मंदिर  गुजरात के बनासकांठा जिले में स्थित है। मां का यह मंदिर अहमदाबाद से 18 किलोमीटर दूर है। अम्बे मां यह मंदिर भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दूनिया में प्रसिद्ध है। इस मंदिर को लेकर भक्तों की अपार श्रद्धा और विश्वास है। ऐसा कहा जाता है कि अंबे मां के इस मंदिर में भगवान श्री कृष्ण का मुंडन संस्कार हुआ था। जब भगवान राम और लक्ष्मण मां सीता की खोज करते हुए यहां से गुजरे तो रावण को मारने के लिए माता ने श्रीराम को एक दिव्य बाण दिया था।

माता के यंत्र को देखना है निषेध

इस मंदिर का सबसे बड़ा रहस्य ये है कि इस मंदिर के गर्भगृह में मां अंबा की कोई मूर्ति नहीं बल्कि अंबा यंत्र की पूजा की जाती है। अंबा देवी के इस यंत्र को अब तक गुप्त रखा गया है और इसे देखना निषेध है। यही कारण है कि मंदिर के पुजारी भी आंखों पर पट्टी बांधकर यहां पूजा करते हैं। नवरात्रि के दौरान अंबा जी के इस मंदिर में अच्छी खासी भीड़ रहती है। मान्यता है कि इस मंदिर में भक्त गरबा करके माता से अपनी मनोकामना कहते हैं। लेकिन कोरोना काल में धार्मिक स्थलों पर पाबंदी लगा रखी है। देश के लगभग सभी मंदिरों कोरोना काल में बंद कर दिये गए है।

यह भी पढ़ें इस गांव के एक ग्वाले को माता ने दिये थे दर्शन, पिंड स्वरूप में विराजमान है मां

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *