भारत में 2050 तक बाढ़ का खतरा ज्यादा बढ़ेगा

नई दिल्ली। जलवायु परिवर्तन की वजह से पूरी दुनिया संकट में है। कहीं ज्यादा बारिश हो रही है तो कहीं सूखा पड़ा हुआ है। अब अमेरिकी एनजीओ ‘क्लाइमेट सेंट्रल’की तरफ से किए गए इस अध्ययन में कहा गया कि भारत में 2050 तक करीब 3.6 करोड़ लोगों के हर साल बाढ़ की चपेट में आने का खतरा होगा।

यह खबर भी पढ़ें: पुलिसकर्मियों को छुट्टी के लिए ‘छठी मैया’ की कसम

एक नये अध्ययन में ऐसा कहा गया है जिसमें हमारे जीवनकाल में शहरों, अर्थव्यवस्थाओं और तटरेखाओं को नये आकार में ढाल सकने के जलवायु परिवर्तन के सामर्थ्य को दर्शाया गया है।इसमें आगाह किया गया है कि 2100 तक, समुद्र में जलस्तर बढ़ने के कारण 4.4 करोड़ लोगों के हर साल बाढ़ की चपेट में आने का जोखिम होगा। छह एशियाई देशों – भारत, चीन, वियतनाम, बांग्लादेश, इंडोनेशिया और थाईलैंड में 2050 तक हर साल तटीय बाढ़ आने का खतरा होगा। एनजीओ ने एक बयान में कहा कि ये परिणाम क्लाइमेट सेंट्रल द्वारा विकसित नये डिजिटल एलिवेशन मॉडल ‘कोस्टल डीईएम’ पर आधारित हैं। अध्ययन में कहा गया कि 2100 तक दो और देश – जापान और फिलीपींस में भी हर साल ज्वार बाढ़ आ सकती है जहां 2.2 करोड़ लोगों के इसके जद में आने का खतरा होगा।

यह खबर भी पढ़ें: दीपावली के दिन तांत्रिक के कहने पर भतीजे की बलि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares