डायबीटीज डे: आंखों की नियमित जांच जरुरी

भोपाल। आज 14 नवंबर को वर्ल्ड डायबीटीज डे है।

इंटरनैशनल डायबीटीज फेडरेशन के मुताबिक दुनियाभर में करीब 42.5 करोड़ लोग डायबीटीज का शिकार है।

भारत में डायबीटीज तो महामारी की तरह फैल रही है।

इस बीमारी की सबसे बड़ी समस्या है कि अगर किसी को डायबीटीज हो जाए तो उसे पूरा ठीक नहीं किया जा सकता है।

हां अच्छा खान—पान, व्यायाम और दिनचर्या को बदलकर इसे कंट्रोल में जरुर रखा जा सकता है।

डायबटीज को आंखों पर भी काफी खराब असर पड़ता है।

इसके लिए जरुरी है कि आंखों की नियमित जांच कराते रहे।

मध्यप्रदेश आफ्थेल्मिक सोसाइटी द्वारा कल 14 नवंबर को वर्ल्ड डायबिटिक डे के अवसर पर आयोजित होने वाले

इस अखिल भारतीय अभियान का अधिकतम लाभ लेने की अपील की गयी है।

संस्था के प्रादेशिक सचिव डॉ. गजेन्द्र चावला ने कहा कि डायबिटिक के रोगियो को

अपनी आँखो की नियमित जाँच साल में एक बार करना चाहिए

जिससे डायबिटिक रेटिनोपेथी को प्रारंभिक अवस्था में पहचान कर उचित उपचार द्वारा आँखो की रोशनी को बचाया जा सके। उन्होंने आँखो की रोशनी बचाने के लिए शुगर की नियमित जाँच एवं नियंत्रण, उचित खानपान की आदत, व्यायाम एवं साल में एक बार अपनी आँखो की जाँच आदि की आवश्यकता पर बल दिया है।
आल इंडिया आफ्थेल्मिक सोसाइटी ने एक विशेष जागरूकता अभियान चलाया हुआ है और संस्था के अखिल भारतीय अध्यक्ष प्रोफेसर डॉ एस नटराजन ने नवम्बर माह में वर्ल्ड डायबिटिक डे पर पूरे भारत में जन जागरूकता एवं नेत्र शिविर लगाने का आव्हान किया है। इसी के मद्देनजर प्रदेश में भी यह कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares