nayaindia act of fraud modi ‘एक्ट ऑफ फ्रॉड’ मोदीजी का भगवान अवतार!
kishori-yojna
हरिशंकर व्यास कॉलम | गपशप | बेबाक विचार| नया इंडिया| act of fraud modi ‘एक्ट ऑफ फ्रॉड’ मोदीजी का भगवान अवतार!

‘एक्ट ऑफ फ्रॉड’ मोदीजी का भगवान अवतार!

मानव और खासकर हिंदू इतिहास ‘एक्ट ऑफ फ्रॉड’ से भरा पड़ा है। फ्रॉड छोटा-मोटा नहीं। सीधे अपने आपको भगवान घोषित करने या बनने-बनाने का। सचमुच भेड़-बकरी जीवन वाले अंधविश्वासी समाज को एक तरफ करके जरा सोचें 21वीं सदी के चेतन हिंदू लोगों के अनुभवों पर। वे कितनी तरह के, कैसे-कैसे ‘एक्ट ऑफ फ्रॉड’ में जिंदगी जी रहे हैं। सर्वप्रथम राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ उर्फ आरएसएस को ही देखें। इसके साथ कैसा ‘एक्ट ऑफ फ्रॉड’ हुआ है जो न तो उनका हिंदू राष्ट्र बना, न अखिल भारतीय गोहत्या पाबंदी कानून बना, न स्वदेशी-आत्मनिर्भर भारत बना, न विदेशी बाहर निकाले गए, न कॉमन सिविल कोड बना और न कश्मीर घाटी में हिंदुओं का रहना संभव हो पाया। बावजूद इसके मोदीजी की आरती उतारते रहने को मजबूर। नरेंद्र मोदी ने हर तरह से संघ का टेकओवर किया हुआ है। न मोहन भागवत जैसों की कोई हैसियत है और न उनके स्वंयसेवक नितिन गडकरी की या किसी भी एक्सवाईजेड स्वयंसेवक मुख्यमंत्री की! यदि नरेंद्र मोदी की ईश्वरीय सत्ता 2029 तक बनी रहे तो संघ अपना सौंवा साल मोदी स्वंयसेवक संघ के रूप में मनाता हुआ होगा।

मतलब आठ वर्षों में संस्था, संस्कार, चरित्र, सेवा, समाज, संस्कृति सब खत्म और हर हिंदू, हर स्वंयसेवक  दिन-प्रतिदिन झूठ, नेताओं की खरीद-फरोख्त की मंडियों के सौदे देखते हुए, डर-खौफ व वैश्विक इंडेक्सों से देश को रसातल में जाते हुए देख रहा है मगर भगवानजी के आगे कुछ भी करने की हिम्मत नहीं। हिसाब से यह वैश्विक रिपोर्ट बहुत हिला देने वाली है कि यूनेस्को ने भारत की शिक्षा को अफगानिस्तान के लेवल वाला बूझा है।  भारत में शिक्षा श्रीलंका, भूटान और पाकिस्तान से भी पिछड़ गई है।

क्या यह सब ‘एक्ट ऑफ फ्रॉड’ के कारण नहीं है? इस ‘एक्ट ऑफ फ्रॉड’ का सर्वाधिक शिकार कौन है वे ही जो मोदीजी को बतौर भगवान पूजा करते हैं और जिनकी बदौलत वोट लेने का उनका जादू है।

हां, हर पैमाने में, हर कसौटी और हर क्षेत्र में वैश्विक इंडेक्स भारत की साल-दर-साल गिरती दशा का सत्य उद्घाटित कर रहे हैं तो ऐसा उन अज्ञानी, अंधविश्वासी व फ्री की रोटी व नमक की नमकहलाली में जीने वाली आबादी से है, जिसमें समझ नहीं है कि असल शिक्षा, असल चिकित्सा, असल रोजगार और असल इंसानी आजादी तथा गरिमा में जीना क्या है। क्या है भेड़-बकरी जीवन बनाम इंसानी जीवन का फर्क?

संदेह नहीं पहले से ही ‘एक्ट ऑफ फ्रॉड’ से भारत में दो तरह के जीवन चले आ रहे हैं। शासक और शासित के। भगवान और भक्त के। लेकिन सन् 2014 के बाद अडानी-अंबानी बनाम गरीब-गुरबे के फर्क की विचित्रता यह है कि अवतारी भगवान से बनते खरबपति अडानी-अंबानी की कहानियों में अब गरीब-गुरबे अपनी खुशहाली बूझ रहे हैं। गरीब की रेवड़ में पांच किलो फ्री राशन भगवानजी का प्रसाद और खुशहाली का प्रमाण!

भारत में आम जीवन की तमाम दरिद्रताओं (भूख, शिक्षा, चिकित्सा, रोजगार, हादसों, बीमारियों आदि) पर ‘एक्ट ऑफ फ्रॉड’ से नियति का जो ठप्पा लगा है उसने इस समझदारी को खत्म किया है कि सरकारी शिक्षा, सरकारी चिकित्सा, सरकारी सेवाओं बनाम फाइव स्टार शिक्षा, चिकित्सा और सर्विसेज का अंतर बहुसंख्यक आबादी के जीवन से धोखा है। उनकी आगे की पीढ़ियों का नरक बनना है। पर देश की कोई 100 करोड़ आबादी उस नैरेटिव, उस प्रोपेगेंडा, उस सोशल मीडिया में अंधी है जो कलियुग की भी अति है।

By हरिशंकर व्यास

भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था। आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य। संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 − twelve =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
प्रमुख संस्थानों में अध्यक्ष पद को लेकर मोदी सरकार पर हमला
प्रमुख संस्थानों में अध्यक्ष पद को लेकर मोदी सरकार पर हमला