वैश्विक खिलाड़ी कोबे ब्रायंट और हादसा

खेलों में मेरी कभी रूचि नहीं रही। हालांकि मैं खिलाडि़यों में रूचि रखता हूं व उनके बारे में लगातार जानकारी हासिल करता रहता हूं। जब विश्व के बास्केटबॉल के महानतम खिलाड़ी कोबे ब्रायंट की हैलीकाप्टर हादसे में मौत की खबर पढ़ी तो स्तब्ध रह गया। मेरी खेल में कोई रूचि नहीं थी मगर एक आम इंसान होने के कारण मैं इस हादसे में मारी गई उनकी 13 वर्षीय बेटी जियाना की मौत के कारण बेहद दुखी था।

मैं सोच रहा था कि इस युवा खिलाड़ी व उसकी बेटी की मौत के कारण उनके परिवार पर क्या गुजर रही होगी? ब्रायंट आमतौर पर मैच खेलने के लिए हैलीकाप्टर से जाया करते थे। लॉसएंजेलिस में घने कोहरे के कारण उनका हैलीकाप्टर पहाड़ से टकरा गया व उसमें सवार नौ लोग मारे गए। ब्रायंट पांच बार नेशनल बास्केट बॉल एसोसिएशन के चैंपियन रहे थे। उन्होंने दो बार ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जीता।

मालूम हो कि एनबीए दुनिया की सबसे अमीर व्यवसायिक बास्केट बल लीग है। कोबे खेल के लिए पूरी तरह से समर्पित थे। उन्होंने बच्चों को इस खेल से जुड़ने के लिए किताबे लिखी थी व बास्केटबॉल को एक प्रेम कथा लिखा था जिस पर फिल्म बनाई गई व उस फिल्म को आस्कर अवार्ड मिला। उन्हें अपने ऊपर इतना ज्यादा विश्वास था कि एक बार उन्होंने कहा था कि अगर कभी मुझे मिथक पशु से कुश्ती करते हुए देखना तो मेरी नहीं उस जानवर की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करना।

वे गाना भी गाते थे। कोबे ब्रायंट की बेटी भी बास्केट बॉल की बहुत अच्छी खिलाड़ी थी। वह महज 13 साल की थी। वह उनकी चार बेटियो में से एक थी। इस खेल में बहुत नाम कमाना चाहती थी व कोबे उसके साथ जाकर उसका मैच देखते थे। कोबे के पिता ब्रायंट भी अपने समय के जाने-माने बास्केट बॉल खिलाड़ी थे। वे जेलिबीन के नाम से जाने जाते थे जबकि कोबे ने खुद को मांबा नाम दिया था जोकि एक विषैले सांप का नाम है।

कोबी ने एक बार अपनी सफलता का राज बताते हुए कहा था कि मैचो में जीत हासिल करना शुरू करने के पहले उन्होंने डिस्कवरी चैनल पर देखा था कि चीता किस प्रकार से अपने शरीर में समन्वय बैठाकर अपना शिकार करता है। उसके बांद मैंने पैरो, कमर और गर्दन को एक सीध में ला कर बास्केट बॉल के खेल गेंद पाले में डालने के लिए ऊंचाई हासिल करने का गुर सीखा। वे जिस फुर्ती से चहल-पहले करते थे उसे देखकर अफ्रीकी नाग मांबा की याद आ जाती थी।

बाद में उन्होंने खेलना छोड़ दिया मगर तब भी उनकी मांबा मानसिकता बहुत मशहूर हो चुकी थी। बाकी खिलाड़ी भी उनका अनुसरण करते थे। उन्हे यह नाम एक फिल्म बिलकिल में सुनने को मिला था। उन्होंने फिल्म देखने के बाद लोगों से पूछा था कि आखिर मांबा होता क्या है। वे काफी धनी खिलाड़ी थे व फोर्ब्स पत्रिका में उनकी संपत्ति 25 अरब रुपए मानी थी। वे इटालिएन समेत पांच भाषा क जानकार थे। उनका जन्म 23 अगस्त 1978 को अमेरिका के फिलाडेल्फिया में हुआ था। वे 18 बार एनबीए के ऑल स्टार चुने गए थे व महज 23 साल की उम्र में तीन खिताब हासिल करने वाले सबसे युवा स्टार बन गए थे।

वे महज 42 साल के थे। वे 20 साल तक दुनिया में बास्केटबॉल पर छाए रहे। उन्होंने 2016 में इस खेल से सन्यास ले लिया था क्योंकि उनके घुटनो व पीठ में काफी दर्द रहने लगा था। ब्रायंट ने नाम व नामा दोनों ही जमकर कमाया। उन्होंने खेलकूद का सामान व कपड़े बनाने वाली दुनिया की जानी-मानी कंपनी के साथ अनुबंध करके उसके लिए जमकर प्रचार किया। कुछ समय बाद 2013 में उन्हें पैसा कमाने का भूत सवार हुआ व उन्होंने भागीदारी में एक निवेश कंपनी स्थापित की। आज इसकी संपत्ति 20 अरब डालर से ज्यादा है। उन्होंने मीडिया, तकनीकी व डाटा कंपनियों में निवेश किया। उन्होंने डैल व अलीबाबा कंपनी के लिए भी व्यापार किया था मगर बाद में उनसे अलग हो गए।

अलीबाबा उनके प्रोडक्ट को चीन समेत दुनिया के तमाम देशा में बेचती थी। उन्होंने 2016 में ग्रेनिटी स्टूडियो की स्थापना की जोकि कहानी के जरिए खेल की जानकारी देने वाली फिल्मे बनाती थी। उन्होंने एक लघु फिल्म डियर बास्केट बॉल की कहानी व पटकथा लिखकर उसमें अपनी आवाज दी व इसे 2018 में सर्वश्रेष्ठ एनिमेटेड फिल्म के लिए आस्कर अवार्ड मिला। ग्रेनिटी ने अनेक पुस्तको का प्रकाशन भी किया। इनमें ब्रायंट की आत्मकथा ‘द मांबा मैटेलिटीः हाऊ आई प्ले’ भी शामिल है। उन्होंने लॉस एंजेलिस में गर्ल्स क्लब की स्थापना की जहां बच्चों को बास्केट बॉल खेलने का प्रशिक्षण दिया जाता है। जब यह हैलीकाप्टर दुर्घटना हुई तब वे अपनी बेटी के साथ इसी क्लब में उसका मैच देखने जा रहे थे। अमेरिका की एक बड़ी खासियत यह है कि यहां हर बड़ा चर्चित व्यक्ति किसी-न-किसी सेक्स प्रकरण में फंसा पाया जाता है। इसमें जाने-माने फिल्म निर्माताओं से लेकर वहां के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तक शामिल है।

ब्रायंट भी इससे नहीं बच पाए। उन पर 2003 में एक 19 वर्षीय युवती ने कोलरेडो के एक होटल में बलात्कार की कोशिश करने का आरोप लगाया था। हालांकि गवाही देने के लिए सामने न आने के कारण यह मामला ठप हो गया व बाद में ब्रायंट ने एक माफीनामा जारी करके इस घटना के लिए खेद जताते हुए कहा कि मुझे लगा था कि सबकुछ हम दोनों की मर्जी से हो रहा है। बाद में इस महिला द्वारा दायर किए गए मुकदमे को दोनों ने ही अदालत के बाहर समझौता करके विवाद को खत्म कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares