अमेरिका की नकल करता चीन - Naya India china copying america
बेबाक विचार | डा .वैदिक कॉलम| नया इंडिया| %%title%% %%page%% %%sep%% %%sitename%% china copying america

अमेरिका की नकल करता चीन

xi jinping speech at cpc 100 years

china copying america : चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के शताब्दि समारोह में चीन के सर्वोच्च और एकमात्र नेता शी जिनफिंग ने जो भाषण दिया है, उसने सारी दुनिया को यह बता दिया है कि यह 19 वीं और 20 वीं सदी का चीन नहीं है। यह 21 वीं सदी का चीन है और यह 21 वीं सदी, चीन की सदी होने वाली है। वे दिन लद गए, जब अफीम-युद्ध (1840) के बाद चीन लगभग गुलाम देश बन गया था, सारे देश में सामंती व्यवस्था छा गई थी और आम आदमी भूख के मारे दम तोड़ता रहता था। चीनी सभ्यता और संस्कृति को दरी के नीचे सरका दिया गया था।

उड्डयन मंत्री सिंधिया ने पदभार ग्रहण करते ही दी 8 नई उड़ानों की सौगात, मंत्री बनते ही होने लगी बरनोल की राजनीति

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के उदय ने चीन को अपना गौरव लौटाया, विदेशी शिकंजों से मुक्त किया और जनता को निर्भय बनाया। उन्होंने अपने एक घंटे के भाषण में जो सबसे तीखी बात कही, वह यह कि जो भी देश चीन को धमकाना चाह रहे हैं, वे समझ लें कि उनके सिर फूटते दिखेंगे और खून की नदियां बहेंगी। उनका स्पष्ट इशारा अमेरिका की तरफ था। अमेरिका आजकल चीन को लगभग हर क्षेत्र में चुनौती दे रहा है।

Chinese Communist Party 100 Years

इंडो-पेसिफिक याने प्रशांत-सागर क्षेत्र में वह भारत, जापान और आस्ट्रेलिया से मिलकर चीन को धमकाने की कोशिश करता है। एसियान देशों को पटाकर वह चीन के खिलाफ मोर्चा खड़ा कर रहा है। चीन भी कम नहीं है। वह दक्षिण और पश्चिम एशिया के देशों को एशियाई महापथ के नाम पर भारी कर्जों से दबा रहा है। अफ्रीकी देशों में भी पांव पसारने में उसने कोई कमी नहीं रखी है। वह 21 वीं सदी को चीन की सदी बनाने पर उतारु है। वह अपनी फौजी शक्ति इतनी बढ़ा रहा है कि एशिया ही नहीं, वह सारे विश्व का सबसे शक्तिशाली राष्ट्र बन जाए।शी ने अपने भाषण में चीन की प्रसिद्ध दीवार को ‘इस्पात की दीवार’ कहकर सारे विश्व के आगे खम ठोक दिया है।

राजस्थान का PALI जिला जहां से छह लोग देश की संसद में बैठते हैं

मुझे याद नहीं पड़ता कि इतना आक्रामक भाषण कभी माओ त्से तुंग या चाऊ एन लाई ने भी दिया हो। शी ने पुराने कम्युनिस्ट ढांचे का जो आधुनिकीकरण किया, उसका जिक्र तो किया ही, यह भी कहा कि उनके कार्यकाल (2008 से अब तक) में गरीबी का उन्मूलन हुआ, फौज का आधुनिकीकरण हुआ और अब जब कम्युनिस्ट चीन की 2049 में सौवीं जयन्ति होगी, तब तक चीन सच्चे अर्थों में महान समाजवादी राष्ट्र बन जाएगा। उन्होंने हांगकांग और ताइवान पर भी पूर्ण कब्जे की घोषणा की है।

china army

शी जिनफिंग का पूरा भाषण सुनकर मुझे यह बिल्कुल नहीं लगा कि यह किसी मार्क्स या एंजेल्स या लेनिन के अनुयायी का भाषण है। यह भी नहीं लगा कि यह माओ के समाजवादी विचारों को लागू करने के संकल्प का द्योतक है। मुझे यह समाजवाद तो क्या, उग्र राष्ट्रवाद का नगाड़ा पीटने वाला भाषण लगा। चीनी नागरिकों को अपने दैनंदिन जीवन में अमेरिकी ढर्रे पर चलाने की योजना के अलावा इसमें कौनसा समाजवादी समतामूलक विचार प्रकट किया गया है ?

China

शी के भाषण में पूंजीवादी, भोगवादी, अंध-राष्ट्रवादी ध्वनियों के अलावा क्या था ? चीन में समृद्धि जरुर आई है लेकिन वहाँ ऊँचे उठ रहे अमीरी के पहाड़ और नीचे खुद रही गरीबी की खाइयां देखकर दिल दहल जाता है। नया चीन बन रहा है, इसमें शक नहीं लेकिन चीन में क्या नया समाज बन रहा है ? चीन अमेरिका को अपना सबसे बड़ा दुश्मन मान रहा है लेकिन वह उसकी कॉर्बन कॉपी बनता जा रहा है। यदि वह अमेरिका से भी ज्यादा संपन्न और शक्तिशाली हो गया तो भी क्या वह मार्क्स और माओ के सपनों को साकार कर पाएगा ? china copying america

By वेद प्रताप वैदिक

हिंदी के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले पत्रकार। हिंदी के लिए आंदोलन करने और अंग्रेजी के मठों और गढ़ों में उसे उसका सम्मान दिलाने, स्थापित करने वाले वाले अग्रणी पत्रकार। लेखन और अनुभव इतना व्यापक कि विचार की हिंदी पत्रकारिता के पर्याय बन गए। कन्नड़ भाषी एचडी देवगौड़ा प्रधानमंत्री बने उन्हें भी हिंदी सिखाने की जिम्मेदारी डॉक्टर वैदिक ने निभाई। डॉक्टर वैदिक ने हिंदी को साहित्य, समाज और हिंदी पट्टी की राजनीति की भाषा से निकाल कर राजनय और कूटनीति की भाषा भी बनाई। ‘नई दुनिया’ इंदौर से पत्रकारिता की शुरुआत और फिर दिल्ली में ‘नवभारत टाइम्स’ से लेकर ‘भाषा’ के संपादक तक का बेमिसाल सफर।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
IPL 2021 : कोरोना काल में भी IPL कराने पर अड़े, BCCI ने खिलाड़ियों के प्रति चिंता जता कर कहा कि IPL खत्म होने के बाद खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ को सुरक्षित घर वापसी कराएगा
IPL 2021 : कोरोना काल में भी IPL कराने पर अड़े, BCCI ने खिलाड़ियों के प्रति चिंता जता कर कहा कि IPL खत्म होने के बाद खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ को सुरक्षित घर वापसी कराएगा