Congress Party Rahul Gandhi कांग्रेस कितनी चीजों के लिए जिम्मेदार
बेबाक विचार | नब्ज पर हाथ| नया इंडिया| Congress Party Rahul Gandhi कांग्रेस कितनी चीजों के लिए जिम्मेदार

कांग्रेस कितनी चीजों के लिए जिम्मेदार?

congress

Congress Party Rahul Gandhi ऐसा लग रहा है कि देश की सबसे जिम्मेदार पार्टी कांग्रेस है। हर चीज के लिए वहीं जिम्मेदार है। केंद्र सरकार के बनाए तीनों कृषि कानूनों के लिए कांग्रेस जिम्मेदार है और किसानों के आंदोलन के लिए भी कांग्रेस ही जिम्मेदार है। वस्तु व सेवा कर यानी जीएसटी के लिए कांग्रेस जिम्मेदार है और अगर उसके अमल में कोई दिक्कत आ रही है तो उसके लिए भी कांग्रेस ही जिम्मेदार है। आर्थिक मंदी और महंगाई के लिए कांग्रेस जिम्मेदार है और अगर केंद्र सरकार महंगाई नहीं रोक पा रही है तो उसके लिए भी कांग्रेस ही जिम्मेदार है। देश के नागरिकों और विपक्षी पार्टियों की जासूसी के लिए कांग्रेस जिम्मेदार है क्योंकि वह ‘जासूसी का जेम्स बांड है’ और इसलिए पेगासस भी उसी की जिम्मेदारी बनती है।

rahul priyanka

Read also ओड़िशा के समर्थन से राष्ट्रीय हॉकी

पूर्वोत्तर के राज्यों के सीमा विवाद के लिए ऐतिहासिक रूप से कांग्रेस जिम्मेदार है और असम-मिजोरम के बीच पिछले हफ्ते हुई हिंसक झड़प के लिए भी कांग्रेस ही जिम्मेदार है। राफेल सौदे के लिए कांग्रेस जिम्मेदार है और अगर उसमें किसी किस्म की गड़बड़ी हुई है तो उसके लिए भी कांग्रेस ही जिम्मेदार है। इसी तरह देश की सबसे साजिशी पार्टी भी कांग्रेस है। किसान आंदोलन की साजिश कांग्रेस ने रची है और उसने ही टूलकिट बनवा कर दुनिया भर में भारत को बदनाम किया। पेगासस की जासूसी की साजिश कांग्रेस ने रची है और उसने ही दुनिया भर की मीडिया को भारत को बदनाम करने के लिए तैयार किया।

राफेल का मामला तो पूरी तरह से कांग्रेस पार्टी की साजिश है! असम और मिजोरम में हुई हिंसा की साजिश भी कांग्रेस ने रची है और जैसा कि पूर्वोत्तर के सांसदों ने प्रधानमंत्री से मिल कर कहा कि कांग्रेस समूचे पूर्वोत्तर को हिंसा की आग में झोंकना चाहती है। महंगाई भी कांग्रेस की साजिश का ही नतीजा है और उसी की वजह से पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ रहे हैं और उसकी वजह से ही महंगाई काबू में नहीं आ रही है।  कांग्रेस को इतनी चीजों के लिए जिम्मेदार और इतनी तरह की साजिश रचने का आरोपी भाजपा के नेता बना रहे हैं। एक-एक करके देखें तो बहुत दिलचस्प बातें सामने आएंगी। जैसे असम-मिजोरम सीमा विवाद को ही लें। दोनों राज्यों की सीमा पर हिंसक झड़प हुई, जिसमें असम पुलिस के पांच जवान और एक नागरिक की मौत हुई।

Rahul gandhi congress

Read also क्षेत्रीय अभिनेता और भाजपा की राजनीति

इसके बाद पूर्वोत्तर से भाजपा के सभी सांसदों ने प्रधानमंत्री से मुलाकात की और कहा कि विदेशी ताकतें साजिश रच रही हैं और कांग्रेस हिंसा को बढ़ावा दे रही है। एक केंद्रीय मंत्री ने यह बात कही। दिलचस्प बात यह है कि हिंसा के मामले में मिजोरम ने असम के मुख्यमंत्री पर मुकदमा किया और असम ने मिजोरम के सांसद पर मुकदमा किया। सोचें, साजिश और उकसावा कांग्रेस का है लेकिन कांग्रेस नेताओं पर मुकदमा नहीं किया गया। दोनों सरकारों ने एक-दूसरे के मुख्यमंत्री, सांसद और अधिकारियों पर मुकदमा किया, जिसे बड़ी मान-मनौव्वल के बाद वापस कराया गया है। मध्य प्रदेश के एक मंत्री ने और कमाल किया। पढ़े-लिखे और पढ़ाई-लिखाई वाले विभाग के मंत्री ने प्रेस के सामने कहा कि देश की महंगाई के लिए 15 अगस्त 1947 को लाल किले की प्राचीर से दिया गया पंडित नेहरू का भाषण जिम्मेदार है।

उन्होंने बहुत विस्तार से अर्थव्यवस्था और महंगाई के बारे में समझाया और कहा कि महंगाई एक-दो दिन में नहीं बढ़ती है और न अर्थव्यवस्था एक-दो दिन में बनती है। इसी क्रम में उन्होंने कहा कि 15 अगस्त 1947 को नेहरू ने लाल किले की प्राचीर से जो भाषण दिया उसी से अर्थव्यवस्था पटरी से उतरी है और महंगाई बढ़ी है। सोचें, केंद्र में भाजपा की सरकार का आठवां साल चल रहा है और महंगाई के लिए 15 अगस्त 1947 के भाषण को जिम्मेदार बताया जा रहा है! लच्छेदार तुकबंदी करने और जुमले गढ़ने में माहिर एक केंद्रीय मंत्री ने कहा ‘कांग्रेस जासूसी का जेम्स बांड है’। सवाल है कि इसका क्या मतलब निकाला जाए? कांग्रेस सरकार में रहते हुए जासूसी कराती थी, अगर यह बात सही भी है तो इससे पेगासस जासूसी मामले पर क्या असर पड़ता है?

pm modi

Read also जम्मू में था रक्तपात न कि घाटी में!

क्या मंत्री महोदय कहना चाहते थे कि कांग्रेस जासूसी कराती थी इसलिए हम भी करा रहे थे या यह कि कांग्रेस जेम्स बांड है इसलिए इस बार भी वहीं जासूसी करा रही थी? अभी ताजा ताजा सरकार में शामिल हुईं एक महिला राज्यमंत्री और संसदीय मामलों के एक मंत्री ने तो जासूसी के पूरे मामले को खारिज कर दिया है। सरकार और सत्तारूढ़ पार्टी के कई नेताओं ने कहा है कि विदेशी ताकतों से मिल कर कांग्रेस ने देश को बदनाम करने की साजिश रची है। जब सरकार को साजिश के बारे में पता है तो वह जांच करा कर क्यों नहीं कांग्रेस पर मुकदमा दर्ज करा रही है, यह भी हैरान करने वाली बात है!

केंद्र सरकार के मंत्री और सत्तारूढ़ दल के नेता देश की हर समस्या के लिए कांग्रेस पर ठीकरा फोड़ रहे हैं और विपक्ष के निशाने पर आए सरकार के नीतिगत फैसलों के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बता रहे हैं। आधार से लेकर जीएसटी और कृषि कानूनों तक का श्रेय भाजपा ने कांग्रेस को दिया है। कांग्रेस के विरोध की धार भोथरी करने के लिए भाजपा ने कहा है कि ये नीतियां पहले कांग्रेस ने ही बनाई थीं। भाजपा को ऐसा लग रहा है कि इससे वह कांग्रेस को बदनाम कर रही है। लेकिन क्या सचमुच ऐसा है? इसके उलट हर चीज के साथ किसी न किसी तरह से कांग्रेस को जोड़ कर भाजपा ने उसे प्रासंगिक बनाए रखा है।

Read also अब मजहबी आरक्षण का बहाना

अपने हर अच्छे काम की शुरुआत करने का श्रेय कांग्रेस को देकर भाजपा लोगों की नजर में यह साबित कर रही है कि नीतिगत मामलों में कांग्रेस की सोच अच्छी रही है, कांग्रेस दूरदर्शी पार्टी रही है और उसकी सरकार के समय अच्छी नीतियों की रूप-रेखा बनी थी। ऐसे ही हर विरोध-प्रदर्शन, आंदोलन आदि के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहरा कर भाजपा अपने आप यह मैसेज बनवा रही है कि कांग्रेस न कमजोर हुई है और न खत्म हुई है। इससे कांग्रेस मुक्त भारत बनाने का भाजपा का अपना ही नैरेटिव कमजोर पड़ रहा है। दूसरे, इस तरह हर चीज के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बता कर सरकार और सत्तारूढ़ दल दोनों उसे सरकारी प्रचार का विक्टिम बना रहे हैं।

PM Modi sought suggestions from people:

वह तो भला हो भाजपा का कि कांग्रेस अभी तक विक्टिम कार्ड सही तरीके से नहीं खेल पा रही है। अगर उसे अरविंद केजरीवाल की तरह विक्टिम कार्ड प्ले करना आता तो वह अब तक कमाल कर चुकी होती। ध्यान रहे भारत में और दुनिया के दूसरे देशों में भी आम लोगों की सहानुभूति हमेशा विक्टिम के साथ होती है। वे ताकतवर का साथ नहीं देते हैं, वे पीड़ित पक्ष के साथ होते हैं। 2014 से पहले आम लोगों की सहानुभूति नरेंद्र मोदी और अमित शाह के साथ इसी वजह से थी क्योंकि उनको लग रहा था कि केंद्र की कांग्रेस सरकार उनको प्रताड़ित कर रही है। आज कांग्रेस के बारे में वैसी ही धारणा खुद भाजपा और उसकी सरकार बनवा रही है। कांग्रेस को बदनाम करना और हर खराबी के लिए उसको जिम्मेदार ठहराना भाजपा की रणनीति हो सकती है लेकिन यह काम बहुत भोंड़े ढंग से किया जा रहा है।

किसी ऐतिहासिक गलती के लिए तो कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है लेकिन किसी तात्कालिक समस्या के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराना भाजपा और उसकी सरकार को हास्यास्पद बना रहा है। पूर्वोत्तर में सीमा विवाद के लिए ऐतिहासिक रूप से कांग्रेस जिम्मेदार है लेकिन केंद्र और पूर्वोत्तर के लगभग सभी राज्यों में भाजपा या उसकी सहयोगी पार्टियों की सरकार होने के बावजूद अगर हिंसा भड़कती है तो उसके लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराना अच्छी रणनीति नहीं कही जाएगी। इसी तरह महंगाई के लिए कांग्रेस और उसमें भी नेहरू को जिम्मेदार ठहराना अंततः आम लोगों की नजर में भाजपा को मजाक का पात्र बनाएगा। इससे आम लोगों के जख्मों पर मल्हम लगाए जाने का नहीं, बल्कि नमक छिड़ने जाने का अहसास होगा।

Congress Party Rahul Gandhi

By अजीत द्विवेदी

पत्रकारिता का 25 साल का सफर सिर्फ पढ़ने और लिखने में गुजरा। खबर के हर माध्यम का अनुभव। ‘जनसत्ता’ में प्रशिक्षु पत्रकार से शुरू करके श्री हरिशंकर व्यास के संसर्ग में उनके हर प्रयोग का साक्षी। हिंदी की पहली कंप्यूटर पत्रिका ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, टीवी के पहले आर्थिक कार्यक्रम ‘कारोबारनामा’, हिंदी के बहुभाषी पोर्टल ‘नेटजाल डॉटकॉम’, ईटीवी के ‘सेंट्रल हॉल’ और अब ‘नया इंडिया’ के साथ। बीच में थोड़े समय ‘दैनिक भास्कर’ में सहायक संपादक और हिंदी चैनल ‘इंडिया न्यूज’ शुरू करने वाली टीम में सहभागी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow