anti vaccine movement america अमेरिका का असली संकट
बेबाक विचार | लेख स्तम्भ | संपादकीय| नया इंडिया| anti vaccine movement america अमेरिका का असली संकट

अमेरिका का असली संकट

corona vacince

देश के अंदर गहरा और तीखा ध्रुवीकरण अमेरिका की मुसीबत है। इस ध्रुवीकरण की एक धुरी ऐसे अवैज्ञानिक और अविवेकी सोच पर जा टिकी है कि उसका जितना प्रभाव बढ़ेगा, अमेरिका की चमक उतनी ही मद्धम पड़ेगी। इस बात की ताजा मिसाल कोरोना टीकाकरण पर बने हालात हैं। anti vaccine movement america

ये बात फ्रांसिस फुकुयामा सहित कई बड़े विद्वानों ने कही है कि अमेरिका के सामने असली चुनौती विदेश में नहीं, बल्कि देश के अंदर है। देश के अंदर गहरा और तीखा ध्रुवीकरण उसकी मुसीबत है। इस ध्रुवीकरण की एक धुरी ऐसे अवैज्ञानिक और अविवेकी सोच पर जा टिकी है कि उसका जितना प्रभाव बढ़ेगा, अमेरिका की चमक उतनी ही मद्धम पड़ेगी। इस बात की ताजा मिसाल कोरोना टीकाकरण पर बने हालात हैं। पिछले हफ्ते राष्ट्रपति जो बाइडेन ने सभी सरकारी विभागों और सरकारी कॉन्ट्रैक्ट के तहत काम करने वाले कर्मचारियों के लिए कोरोना का वैक्सीन लगवाना अनिवार्य कर दिया। उसके बाद से उस आदेश के खिलाफ रिपब्लिकन पार्टी लामबंद है। उसके नेताओं ने आम जनता से इस फैसले के खिलाफ उठ खड़ा होने का आह्वान किया है। अमेरिकी मीडिया की टिप्पणियों में कहा गया है कि जिस तरह की सिविल नाफरमानी की अपील रिपब्लिकन नेताओं ने वैक्सीन मसले पर की है, वैसा इसके पहले अमेरिका में दशकों में देखने को नहीं मिला। मसलन, अमेरिकी राज्य ओहायो में सीनेट सदस्यता के लिए रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार जेडी वेन्स ने लोगों से ‘व्यापक सिविल नाफरमानी’ आंदोलन छेड़ देने की अपील की है। वेन्स ने अमेरिका के व्यापारी समुदाय से कहा कि वे इस आदेश का पालन ना करें। राष्ट्रपति के इस आदेश को कई राज्यों के रिपब्लिकन गवर्नरों ने कोर्ट में चुनौती देने का एलान किया है।

Taliban America Afghanistan Kabul :

Read also अब नजर सुप्रीम कोर्ट पर

राष्ट्रपति के आदेश जारी के तुरंत बाद अमेरिका में ट्विटर पर टॉप ट्रेंड आईविलनॉटकॉप्लाय (मैं आदेश नहीं मानूंगा) का हैशटैग कर रहा था। इसका दबाव बाइडेन प्रशासन को महसूस हुआ है। उसके अधिकारियों ने मीडिया ब्रीफिंग में सफाई दी है कि राष्ट्रपति को इस बात का अंदाजा था कि उनके ऐसे आदेश पर कड़ी प्रतिक्रिया होगी। लेकिन आखिरकार उन्होंने सोचा कि अगर इस मामले में किसी ने साहस नहीं दिखाया, तो हम हमेशा महामारी का शिकार बने रहने के लिए मजबूर हो जाएंगे। ये बात बिल्कुल ठीक है। लेकिन जब ऐसे मसले पर भी कोई राजनीतिक दल राजनीति करने पर उतर आए, तो आखिर उससे क्या संदेश ग्रहण किया जा सकता है! मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक रिपब्लिकन पार्टी का आकलन है कि इस आदेश के बाद बहुत से वे लोग भी जबरन टीकाकरण के खिलाफ हो गए हैं, जो वैसे वैक्सीन को समर्थक हैँ। पार्टी अब उन्हें गोलबंद कर रही है। उसे इस बात की कोई चिंता नहीं है कि इसका फौरी और आखिरी अंजाम क्या होगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
Planning an International Trip : कोरोना प्रतिबंध के बाद भी 10 देशों ने अपने द्वार भारतीय यात्रियों के लिए खोल रखे हैं, जानें इन देश के बारे में..
Planning an International Trip : कोरोना प्रतिबंध के बाद भी 10 देशों ने अपने द्वार भारतीय यात्रियों के लिए खोल रखे हैं, जानें इन देश के बारे में..