उफ! वायरस में कुंभ - Naya India
हरिशंकर व्यास कॉलम | गपशप | बेबाक विचार| नया इंडिया|

उफ! वायरस में कुंभ

कोरोना की भयावह महामारी के बीच कुंभ मेले का आयोजन कौन सी समझदारी कही जा सकती है? शुरू में इतनी समझदारी दिखाई गई कि कुंभ मेले की अवधि घटा दी गई। लेकिन एक महीने में ही इस बात का ख्याल नहीं रखा गया कि लाखों की संख्या में लोग अगर कुंभ मेले में आते हैं या गंगा में डुबकी लगाने पहुंचते हैं तो कैसे कोरोना प्रोटोकॉल का पालन होगा, सोशल डिस्टेसिंग का पालन कैसे होगा या सबकी टेस्टिंग कैसे होगी? उलटे राज्य के मुख्यमंत्री ने लाखों की संख्या में लोगों के मेले में हिस्सा लेने की अपील की। यहां तक कहा कि गंगा में डुबकी लगाने से कोरोना खत्म हो जाएगा।

देश के लगभग सभी नेता न कम या ज्यादा मात्रा में लापरवाही दिखाई, गैर जिम्मेदारी का परिचय दिया, जिसका नतीजा है कि भारत आज ऐसी बदहाल और दयनीय स्थिति में खड़ा है। चुनाव प्रचार या कुंभ मेले के आयोजन की लापरवाहियों के अलावा केंद्र और राज्यों की सरकारों ने कोरोना वायरस की महामारी के पूरे एक साल में जिस गैर जिम्मेदारी का परिचय दिया वह भी देश की बदहाली का एक कारण है। पूरे साल में कहीं भी स्वास्थ्य सुविधाओं के विकास के लिए कुछ नहीं किया गया।

वायरस की इमरजेंसी को देखते हुए नए अस्पताल बनाए जाने चाहिए थे, मौजूदा अस्पतालों में बेड्स, आईसीयू बेड्स, वेंटिलेटर आदि की सुविधा बढ़ाई जानी चाहिए थी, दवा और वैक्सीन के रिसर्च पर खर्च बढ़ाया जाना चाहिए था और मुहिम चला कर स्वास्थ्यकर्मियों की बहाली करनी चाहिए थी। लेकिन इनमें से कोई भी काम देश में नहीं हुआ।

तभी देश आज फिर उसी स्थिति में है, जिस स्थिति में एक साल पहले था। एक साल पहले भी ऐसी ही घबराहट थी, ऐसे ही लोग जानवरों की तरह इधर-उधर भाग रहे थे, ऐसे ही अस्पतालों के बाहर लोगों की भीड़ लगी थी, दवा और वैक्सीन की कालाबाजारी हो रही थी, श्मशानों में अंतिम संस्कार के लिए जगह कम पड़ रही थी और चारों तरफ भय, असहायता का भाव था। सोचें, एक साल की कीमती समय सरकारों के पास था। वे इस समय में कितना कुछ कर सकते थे। लेकिन किसी ने कुछ नहीं किया। सिर्फ झूठ और झूठ का प्रचार होता रहा। लफ्फाजी होती रही। लोगों को बेवकूफ बनाने के तरह तरह के जतन किए जाते रहे। जिसको कोरोना बजट कहा गया उसमें भी कोरोना से लड़ने के लिए कितने पैसे का प्रावधान है और उसका क्या हो रहा है, यह किसी को पता नहीं है। 21 लाख करोड़ रुपए के राहत पैकेज का फायदा किसको मिला, यह भी कोई नहीं जानता है। पीएम-केयर्स फंड में हजारों करोड़ रुपए जमा हुए वह कहां खर्च हो रहा है या राज्यों को कोरोना से निपटने के लिए कितना पैसा भेजा गया, यह भी किसी को पता नहीं है। लेकिन दावे ऐसे हैं, जैसे दुनिया में किसी ने किसी ने नहीं किए होंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});