दिल्ली में फिर जादू!

दिल्ली में कोरोना के मामलों में कई दिनों तक दिखी तेज बढ़ोतरी के बाद बीते रविवार को ये खबर प्रचारित हुई कि यहां के हाल पर विचार के लिए गृह मंत्री अमित शाह ने बैठक बुलाई है। शनिवार तक दिल्ली के रोजाना के नए संक्रमण और मौतों के आंकड़े रात तक आते थे। कई दिनों से नए संक्रमण के मामले साढ़े सात से साढ़े आठ हजार के बीच आ रहे थे। लेकिन प्रस्तावित बैठक का असर यह हुआ कि रविवार को दोपहर ही आंकड़े जारी हो गए। संख्या साढ़े तीन हजार तक घट गई। फिर सोमवार को भी लगभग यही तादाद रही। इसे जादू ही कहा जाएगा। ये जादू दोहराया गया है। कुछ महीने पहले जब दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की रोजाना संख्या में तेज बढ़ोतरी हुई थी, तब भी ऐसा ही हुआ था। गृह मंत्री ने कमान संभाली और मामलों में तेज गिरावट आ गई। ऐसा कैसे होता है, यह हम सबके लिए माथापच्ची की बात है। बहरहाल, ये खबर भी आई है कि भारत सरकार फाइजर कंपनी से उसके आने वाले कोरोना के टीके को भारत लाने के लिए बातचीत कर रही है।

ऐसी खबर मॉडेर्ना कंपनी के टीके के बारे में भी जरूर आएगी। जब रूस में टीका बना था। तब भी आई थी। ये तमाम खबरें देश की बहुत बड़ी जनसंख्या को राहत बंधाती हैं। और कहा जाता है कि राहत हो तो सब्र बंधा रहता है। गौरतलब है कि मॉडेर्ना कंपनी ने एलान किया है कि उसकी वैक्सीन 94.5 फीसदी असरदार है। एक हफ्ते पहले ही मॉडेर्न की प्रतिद्वंद्वी अमेरिकी कंपनी फाइजर ने 90 फीसदी सफल वैक्सीन का दावा किया था। फाइजर ने जर्मन स्टार्ट अप बियोनटेक के साथ मिलकर अपनी वैक्सीन बनाई है। फाइजर के एलान के कुछ ही घंटों बाद रूसी वैज्ञानिकों ने भी स्पुतनिक-5 वैक्सीन की सफलता का एलान किया। फाइजर के एलान के बाद दुनिया भर में उसके शेयरों के भाव उछल गए। जबकि उसे और मॉडेर्ना दोनों को अभी ये भरोसा ही है कि दिसंबर में अमेरिकी प्रशासन उसकी वैक्सीन को इमरजेंसी के तहत मंजूरी देगा। फेज-3 के इन शुरुआती नतीजों के बाद ये ड्रग कंपनियां हजारों पन्नों का दस्तावेज प्रशासन को सौपेंगी। उस दस्तावेज में क्लीनिकल ट्रायल के हर चरण और संभावित जोखिमों का जिक्र होगा। दस्तावेज पढ़ने के कुछ हफ्ते बाद इमरजेंसी के तहत ऐसी मंजूरी दी जा सकती है। यानी सब कुछ अभी संभावनाओं की गोद में है। जब तक ये साकार हों, चमत्कारों पर ही भरोसा करना होगा!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares