• डाउनलोड ऐप
Thursday, May 13, 2021
No menu items!
spot_img

झूठ से झूमे रहेगा वायरस

Must Read

हरिशंकर व्यासhttp://www.nayaindia.com
भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था।आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य।संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

भारत में ऐसा सोचने, कहने वाले असंख्य लोग है जो कहते है अमेरिका, योरोप में इतने लोग मर गए तो उस नाते भारत विश्व गुरू है। भारत में कोरोना काबू में रहा। बाकि देश संर्घष करते हुएहै जबकि भारत विजेता! हमें क्या बचना बल्कि हम दुनिया को बचातो हुए!हमने टीका बनाया। सबके टीका लग जाएगा तो वायरस खत्म!वायरस को हरा देने की हमारी लड़ाई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बेमिसाल कामयाबी!

यह भी पढ़ें: कोरोना: भारत में तब-अब

भक्तों के, मुंगेरीलालों के मुंह में घी शकर। ईश्वर करें इनका महामारी के आगे यह महामृत्युंजय जाप सफल हो। लेकिन अपना मानना है कि इन बातों से ही कोरोना वायरस को भारत में जड़े जमाने का गजब मौका मिला है। भारत ने महामारी की लड़ाई में एक साल गंवाया। दुनिया के देशों ने महामारी की विपदा में चिकित्सा खर्च बढ़ाया। ब्रिटेन ने नेशनल हेल्थ सर्विस में बजट उड़ेल दिया। नए अस्पताल., चिकित्सा सुविधाओं का विस्तार हुआ लेकिन भारत में क्या हुआ? प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार, प्रदेश सरकारों को यह सूझा ही नहीं कि भारत की आबादी इतनी बड़ी है कि वायरस यदि सर्वत्र पहुंचा तो संक्रमण काल सालों लंबा चलेगा  और उस नाते दीर्घकालीन जरूरत में संक्रमण ईलाज का उपजिला-तहसील स्तर का मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर बने व उसके लिए कम से कम तीन-चार-पांच साल की योजना तो बने।

भूल जाए कि 2021 के बारह महिने टीकाकरण चला तो भारत सन् 2022 में महामारी मुक्त होगा।  मैं पिछले साल फरवरी-मार्च से अब तक लगातार लिखता रहा हूं कि वैश्विक स्तर की महामारी यदि घोषित है तो उससे इंसान को लंबे समय तक जुझते रहना होगा। भारत के लिए सन् 2020-21 ज्यादा खराब होगा। और तो और भारत ने वैक्सीनेशन में भी झूठी-आत्मघाती एप्रोच अपनाई है। केंद्र सरकार अपने एकाधिकार में जैसा मनचाहा टीकाकरण बना रही है उससे यह नोट करके रखे कि कोरोना वायरस का भारत में तांडव दुनिया का सर्वाधिक लंबा व कई सालों का होगा।

यह भी पढ़ें: कितना कुछ बदल गया

क्यों? बड़ा कारण उत्तर भारत के हिंदी प्रदेश, खासकर गंगा किनारे के प्रदेश है। उत्तराखंड से लेकर उत्तरप्रदेश, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल, मध्यप्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, हिमाचलप्रदेश सबने पिछले एक साल में जिस रीति-नीति में काम किया है वह महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु राज्यों से जुदा है। दक्षिण के प्रदेशों में मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर अच्छा है और लोग, प्रदेश सरकारें अपेक्षाकृतजागरूक है तो वहां पहले दिन से लगातार टेस्टींग पर जोर है और प्रोफेशनल चुस्ती-काबलियत के साथ। इन प्रदेशों में लोगों की संजीदगी से संक्रमण अधिक पकड़ा गया और उस अनुसार मेडिकल बंदोबस्त बनते गए। वह एप्रोच बिहार, यूपी, बंगाल आदि में कहीं नहीं है और वहां जो है वह आंकडों के झूठ में है। कई बार लगता है बिहार, यूपी, झारखंड, ओडिसा, पश्चिम बंगाल मानों आधुनिक चिकित्सा, सभ्यता से अलग हो। पृथ्वी का संक्रमणप्रूफ भूभाग।

यह भी पढ़ें: सरकार ने धोखा दिया

मगर ऐसा सन् 1915-18 की महामारी के वक्त भी था। तब भी स्पेनिश फ्लू का विषाणु मुंबई के रास्ते गुजरात, पंजाब से बढ़ते-बढ़ते बहुत बाद में गंगा किनारे पहुंचा था और दुनिया में विषाणु फैलाव के आखिरी दौर में ही उत्तर भारत में लाखों-करोडों लोगों की जान लील गया था। मोटी बात पिछला एक साल इस बात का गवाह है कि दक्षिण भारत की मेडिकल चुस्ती-ईमानदारी से संक्रमण के आंकड़े अधिक है तो संकट और ईलाज के प्रति लापरवाही भी नहीं है। वहां संक्रमण की सच्चाई का सच्चाई से वैसे ही सामना है जैसे अमेरिका, ब्रिटेन में हो रहा है। ये महामारी के आगे फेल प्रदेश नहीं है बल्कि फेल, नाकारा प्रदेश वे है जहां की सरकारों ने टेस्टींग के प्रति लापरवाही रखी हुई है। इन सरकारों को आंकड़ों से डर है न कि फैलते हुए संक्रमण से। ये इस सोच में काम करते हुए है कि कोरोना महामारी को मौसमी फ्लू बना डालों ताकि झूठ चलता रहे कि वायरस है कहां! जब ऐसा है तो भारत में न टीकाकरण चौतरफा पुख्ताई होगा और न ईलाज से वायरस पर अंकुश बनेगा।

तभी 138 करोड़ लोगों का भारत कोरोना वायरस का नंबर एक चरागाह होगा। वह भारत के झूठ तंत्र में खूब फलेगा-फूलेगा।

यह भी पढ़ें: इस बार सारी जिम्मेदारी लोगों पर

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जाने सत्य

Latest News

क्या खुद को फांसी पर लटका ले?

बेंगलुरू। देश की अलग अलग उच्च अदालतों और सर्वोच्च अदालत की ओर से कोरोना वायरस की महामारी और टीकाकरण...

More Articles Like This