अब जानवर भी खतरे में

कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। अब तक समझ यह थी कि ये वायरस इनसान से इनसान में फैलता है। मगर अब कुछ देशों में पालतू कुत्तों और बिल्लियों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। अमेरिका के एक ताजा मामले से पुष्टि हुई कि जानवरों में इनसान से इस वायरस का संक्रमण हो रहा है। न्यूयॉर्क सिटी के ब्रांक्स जू में चार साल की बाघिन कोरोना वायरस से संक्रमित मिली। नादिया नाम की यह बाघिन मलेशियन टाइगर फैमिली की है। अमेरिका में यह पहला मामला है, जब इंसानी देखरेख में रह रहे किसी वन्य जीव में कोविड-19 का संक्रमण पाया गया। इस खबर से भारत में भी बेचैनी है। यहां भी चिड़ियाघरों की निगरानी बढ़ी दी गई है। मगर असली चिंता यह है कि अगर गांवों में जानवर लोगों से संक्रमित होने लगे, तो एक नई और बेहद गंभीर समस्या का सामाना देश को करना होगा। पशुपालन आज भी लाखों का इस देश में रोजगार है। दुनिया भर में वैसे भी कोरोना वायरस के कारण चिड़ियाघर संकट का सामना कर रहे हैं। लोगों की आवाजाही बंद होने और कम से कम लोगों के काम पर जाने का असर इन जीवों पर खूब पड़ रहा है। कई चिड़ियाघरों ने बड़े पैमाने पर कर्मचारियों को छुट्टी पर भेज दिया है।

कारोबार और परिवहन की रफ्तार धीमी पड़ने से चिड़ियाघरों तक पशुओं के भोजन पहुंचाने में मुश्किलें हो रही हैं। कुछ जानवर वीरान नजारे से परेशान दिख रहे हैं। जानकारों के मुताबिक बंदर खास तौर पर लोगों को देखना पसंद करते हैं। तोते और सील जैसे जीव भी लोगों में दिलचस्पी लेते हैं। फिलहाल वे बोर हो रहे हैं। पशु विशेषज्ञों के मुताबिक जितने कौतूहल से इंसान वन्य जीवों को देखता है, उतनी जिज्ञासा के साथ ये जंगली जानवर भी दो पैरों पर खड़े और कपड़े पहनने वाले जीव यानी इंसान को देखते हैं। बहरहाल, अब जानवरों के संदर्भ में चिंता सिर्फ यह नहीं रही कि चिड़ियाघरों में वे इनसान को नहीं देख पा रहे हैं। बल्कि अब उनके लिए खुद कोरोना पीड़ित होने का खतरा है। न्यूयार्क के चिड़ियाघर के अधिकारियों के मुताबिक माना जा रहा है कि नादिया में कोविड-19 जू कर्मचारी से पहुंचा। लेकिन उस कर्मचारी की पहचान भी अभी तक नहीं हो सकी है। नादिया के साथ रहने वाली छह दूसरी बड़ी बिल्लियों में कोविड-19 इंफेक्शन के लक्षण दिख रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares