कास्त्रो युग गिरा परदा - Naya India
बेबाक विचार | लेख स्तम्भ | संपादकीय| नया इंडिया|

कास्त्रो युग गिरा परदा

क्यूबा में 1959 की क्रांति के बाद पहली बार ये स्थिति आई है, जब देश की कमान किसी कास्त्रो के हाथ में नहीं होगी। इस रूप में इसे एक बिल्कुल नए युग की शुरुआत कहा जा सकता है। अब राष्ट्रपति मिगुएल दियाज-कानेल के हाथ में कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव का पद भी भी आ गया है। इस तरह वे असली रूप में देश के शासक बन गए हैं। इसके पहले देश की कमान पहले फिदेल और फिर उनके छोटे भाई राउल कास्त्रो के हाथ में रही। दोनों क्रांति के सेनानी थे। लंबे शासनकाल के बाद फिदेल कास्त्रो ने सत्ता 2006 में छोड़ी थी। तब से राउल कास्त्रो पार्टी महासचिव और राष्ट्रपति पद थे। 2018 में उन्होंने राष्ट्रपति पद दिनाज-कानेल को सौंप दिया था। 89 वर्षीय राउल कास्त्रो अब एक आम नागरिक बन गए हैँ। इसके साथ ही 1959 में क्रांति में शामिल रहे लोगों के हाथ से सत्ता का हस्तांतरण एक नई पीढ़ी के हाथ में हो गया है। क्यूबा इस समय गहरे आर्थिक संकट में है। कोरोना महामारी के कारण पर्यटन उद्योग पर बहुत बुरा असर पड़ा है, जबकि क्यूबा की अर्थव्यवस्था में उसका बड़ा योगदान है।

अमेरिकी प्रतिबंधों को क्यूबा पहले से झेल रहा है, जिस कारण आम की जिंदगी मुश्किलें बढ़ी है। देश में इस समय जरूरी चीजों की सप्लाई की कमी है। दियाज-कानेल के सामने सबसे बड़ी चुनौती इस हाल से देश को बाहर निकालने की होगी। इसमें मिलने वाली सफलता या विफलता से न सिर्फ उनका, बल्कि क्यूबा में कम्युनिस्ट पार्टी का भविष्य तय होगा। क्यूबा की सबसे बड़ी खूबी उसकी बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं हैं। इसके लिए वह मशहूर है। कोरोना महामारी को उसने कई धनी देशों से भी बेहतर ढंग से संभाला है। एक करोड़ से अधिक आबादी वाले इस देश में कोरोना संक्रमण के कारण सिर्फ 476 मौतें हुई हैँ। इस बीच क्यूबा के स्वास्थ्यकर्मियों ने इटली जैसे विकसित देश समेत कई दूसरे देशों में जाकर महामारी संभालने में मदद की है। ये कास्त्रो युग की एक समृद्ध विरासत है। इसीलिए फिदेल और राउल कास्त्रो की शख्सियत का प्रभाव देश की पूरी आबादी पर था। अब क्यूबा की कमान नई पीढ़ी के हाथ में है। वो इसे कैसे संभालती है, उससे ही उसके शासन की वैधता सिद्ध होगी। फिलहाल, पलड़ा बीच में है, जो किसी भी तरफ झुक सकता है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});