बेरोजगारी का बुरा हाल

देश में बेरोजगारी किस हद तक बढ़ गई है, इसकी मिसाल दिल्ली में देखने को मिली। यहां एक रोजगार वेबसाइट लॉन्च होने के कुछ ही घंटों अंदर पचास हजार लोगों अपना रजिस्ट्रेशन करा दिया। गौरतलब है कि लॉकडाउन के दौरान ज्यादातर प्रवासी श्रमिक अपने गृह राज्य लौट गए थे। अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने के बाद वे रोजगार की तलाश में दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरू, चेन्नई और कोलकाता जैसे महानगरों में वापस लौट रहे हैं। वैसे कुछ क्षेत्र ऐसे भी हैं जहां पर पाबंदी जारी है और वहां रोजगार के अवसर अब तक नहीं बन पाए हैं। इसी स्थिति को देखते हुए दिल्ली में बेरोजगार और नियोक्ताओं को साथ लाने के मकसद के साथ दिल्ली सरकार ने नौकरी वेबसाइट की शुरूआत की है। अनलॉक की प्रक्रिया के तहत जो व्यापार, दुकान और अन्य व्यवसाय खुल गए हैं और जिन्हें कर्मचारियों की जरूरत है, उन्हें इस वेबसाइट पर पंजीकृत लोगों को चुनने का विकल्प मिलेगा। उधर नौकरी तलाश रहे युवाओं को नौकरी की तलाश में दर दर भटकना ना पड़े, यह भी इस वेबसाइट का मकसद बताया गया है। वे इस सरकारी वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन कराकर नौकरी की तलाश कर सकते हैं। मगर दिलचस्प बात यह है कि यह जॉब पॉर्टल दिल्ली के लोगों के लिए है, फिर भी इस पर दूसरे राज्यों से भी लोग आवेदन कर रहे हैं। दिल्ली सरकार ने कहा है कि अब धीरे-धीरे दिल्ली की अर्थव्यवस्था को वापस खड़ा करना है।
लॉकडाउन में सब कुछ बंद था। काफी लोगों का रोजगार भी चला गया। अनलॉक के बाद जब बिजनेस खुलने लगे हैं, तो उन्हें काम करने वालों की तलाश है। दिल्ली में नौकरी ढूंढने वाले और नौकरी देने वाले दोनों मौजूद हैं। दिल्ली सरकार ने दोनों को ध्यान में रखते हुए ‘रोजगार बाजार’ योजना की शुरूआत की है। हालांकि इसका क्या अनुभव रहता है, यह आगे चल कर ही मालूम होगा, लेकिन फिलहाल कहा जा सकता है कि यह अच्छी पहल है। वेबसाइट को यूजर फ्रेंडली रखने की कोशिश (जैसाकि कहा गया है) भी सही दिशा में है। सरकारी बयान के मुताबिक इस वेबसाइट पर जब कर्मचारी रजिस्टर करता है और अपनी पसंद की जॉब कैटगरी चुनता है। तब वेबसाइट पर उससे मिलती-जुलती नौकरी की संभावना उसे दिखाई देती है। कर्मचारी पसंद की नौकरी पर क्लिक कर नियोक्ता से फोन पर या व्हाट्सऐप पर संपर्क कर सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares