nayaindia dynasty politics BJP Congress परिवारों के सहारे परिवारवाद का विरोध
हरिशंकर व्यास कॉलम | गपशप | बेबाक विचार| नया इंडिया| dynasty politics BJP Congress परिवारों के सहारे परिवारवाद का विरोध

परिवारों के सहारे परिवारवाद का विरोध

कांग्रेस मुक्त भारत के बाद अब भाजपा का नारा है डायनेस्टी मुक्त भारत। तेलंगाना में भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरू होने से पहले पार्टी ने यह एजेंडा तय किया है। राष्ट्रीय कार्यकारिणी में मुख्य रूप से इस मसले पर विचार होना है। नरेंद्र मोदी परिवारवाद का विरोध पहले से करते रहे हैं लेकिन इस साल छह अप्रैल को भाजपा के स्थापना दिवस के मौके पर उन्होंने एक एजेंडे के तौर पर इसे अपनाया और कहा कि परिवारवादी पार्टियां लोकतंत्र के लिए सबसे बड़ा खतरा हैं। उसके बाद वे निरंतर इस मसले पर बोलते रहे। अब भाजपा सांस्थायिक रूप से इस मुद्दे को राजनीति के केंद्र में ला रही है। मजेदार बात है कि भाजपा ने परिवारवाद की अपनी एक परिभाषा की गढ़ ली है। जब उसको याद दिलाया जाता है कि राजनीतिक परिवारों के अनेक लोग उसकी अपनी पार्टी में हैं तो वह बताती है कि वे अध्यक्ष नहीं हैं और न पार्टी की कमान उनके हाथ में है। अपने को अलग दिखाने के लिए भाजपा ने नेताओं को परिवार में एक ही टिकट देने का नियम भी बनाया है।

असल में भाजपा को कांग्रेस के परिवारवाद का विरोध करना है और उसको पता है कि राज्यों में उन्हीं प्रादेशिक क्षत्रपों से ज्यादा कड़ा मुकाबला है, जिनकी कमान एक परिवार के हाथ में है। जैसे बिहार में लालू प्रसाद का परिवार राजद की कमान संभालता है और सबने देख लिया कि खत्म होने के करीब पहुंचने के बाद भी पार्टी ने फिनिक्स की तरह वापसी कर ली। आज वह बिहार विधानसभा की सबसे बड़ी पार्टी है। उत्तर प्रदेश में मुलायम सिंह के परिवार के कमान वाली समाजवादी पार्टी तमाम प्रयासों के बावजूद खत्म नहीं हो रही है। हारने के बाद भी उसके विधायकों की संख्या एक सौ से ज्यादा है। तमिलनाडु में डीएमके, तेलंगाना में टीआरएस, कर्नाटक में जेडीएस, झारखंड में जेएमएम, महाराष्ट्र में शिव सेना, पंजाब में अकाली दल आदि ऐसी पार्टियां हैं, जिनका नेतृत्व एक परिवार के हाथ में है।

सो, भाजपा ने इन पार्टियों को निपटाने का तरीका निकाला है। एक तरीका पार्टी की कमान संभालने वाले परिवारों में फूट डालने का है, दूसरा तरीका एक परिवार के मुकाबले दूसरा परिवार खड़ा करने का है और तीसरी तरीका राजनीतिक परिवारों के ऊपर भ्रष्टाचार के आरोप लगा कर उनकी साख बिगाड़ने और कमजोर करना का है। बहुत बारीकी से देखे बगैर भी पता है कि हर राजनीतिक परिवार के ऊपर केंद्रीय एजेंसियों की नकेल कसी हुई है। लेकिन किसी को पकड़ कर जेल में नहीं डाला जा रहा है। उन पर कानूनी कार्रवाई करके सजा दिलाने से ज्यादा उनके कथित कारनामों का प्रचार कराया जा रहा है। एजेंसी की कार्रवाई की खबरें लीक करा कर बताया जा रहा है कि अमुक नेता कितना भ्रष्ट है। उस कथित भ्रष्ट नेता को जेल में नहीं डाला जा रहा है उसकी गर्दन पर तलवार लटकाई जा रही है। झारखंड में पूरे शिबू सोरेन परिवार पर तलवार लटकी है तो बिहार में लालू परिवार, कर्नाटक में देवगौड़ा परिवार, तमिलनाडु में करुणानिधि परिवार, उत्तर प्रदेश में मुलायम परिवार, पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी परिवार सहित ज्यादातर नेताओं के परिजनों के ऊपर केंद्रीय एजेंसियों की तलवार लटकी है।

दूसरी तरफ हर नेता के परिवार में फूट डालने की राजनीति भी हो रही है। उत्तर प्रदेश में मुलायम सिंह की बहू भाजपा में शामिल हो गई हैं और मुलायम के भाई शिवपाल यादव शामिल नहीं हुए हैं, लेकिन भाजपा के काम आ रहे हैं। हरियाणा में ओमप्रकाश चौटाला का परिवार टूट गया है और उनके एक बेटे अजय चौटाला अपनी अलग पार्टी बना कर भाजपा के साथ राजनीति कर रहे हैं। महाराष्ट्र में ठाकरे परिवार कमजोर हो गया है और शिव सेना में विभाजन करा कर भाजपा ने एक शिव सैनिक को मुख्यमंत्री बना दिया है। झारखंड में शिबू सोरेन के तीसरे बेटे बसंत सोरेन के बारे में भाजपा के नेता अनौपचारिक रूप से बताते रहते हैं कि वे और उनकी पत्नी भाजपा के संपर्क में हैं। चाहे परिवार के सहारे हो या पार्टी तोड़ कर हो या केंद्रीय एजेंसियों के सहारे हो भाजपा अपने मकसद में कामयाब हो रही है। पंजाब में अकाली दल हाशिए की पार्टी बन गई तो महाराष्ट्र में शिव सेना की स्थिति भी बहुत कमजोर हो गई। बसपा को एक तरह से भाजपा ने अपना जेबी संगठन बना लिया है और उसी तरह से अन्ना डीएमके को भी जेबी संगठन बनाने का प्रयास हो रहा है।

Tags :

By हरिशंकर व्यास

भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था। आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य। संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

Leave a comment

Your email address will not be published.

15 − 2 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
नीचा दिखाना अपनी हॉकी की आदत!
नीचा दिखाना अपनी हॉकी की आदत!