मुद्दा जांच की गुणवत्ता का

अमेरिकी मीडिया ने अब खुलासा कर दिया है कि राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के नजरिए से कैसे वहां कोरोना वायरस की जांच और मरीजों की देखभाल के लिए अपेक्षित उपायों में बाधा पड़ी। ट्रंप काफी देर तक इस बीमारी की गंभीरता से ही इनकार करते रहे। बाद में उन्होंने बार-बार झूठ बोले। ये दावा कर दिया कि इस रोग की दवा ढूंढ ली गई है, जिसके बाद खुद उनके प्रशासन के अधिकारियों को इसका खंडन करना पड़ा। अब ये आरोप लग रहे हैं कि अमेरिका में टेस्ट किट और स्वास्थ्य कर्मियों की हिफाजत के लिए जरूरी उपकरणों की भारी कमी है। और जब अमेरिका में यह हाल है, तो भारत जैसे विकसित देश में उठ रहे सवालों को समझा जा सकता है। भारत में आम शिकायत है कि यहां पर्याप्त संख्या में टेस्ट नहीं हो रहे हैं, क्योंकि उसकी सुविधा यहां नहीं है। अब कुछ रोज पहले भारत सरकार ने प्राइवेट प्रयोगशालाओं को भी कोरोना वायरस की जांच की इजाजत दी। इसके पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के इस संबंध में जारी दिशानिर्देशों  ने जांच में शामिल उपकरणों का उत्पादन करने वाले भारतीय कंपनियों के लिए चिंता पैदा कर दी थी।

जारी आदेश के मुताबिक प्राइवेट लैब्स कोविड-19 की जांच कर सकते हैं, लेकिन इसके लिए इस्तेमाल होने वाले उपकरण (मेडिकल किट्स या सामान) यूएसएफडीए या यूरोपियन सीई द्वारा प्रमाणित होने चाहिए। पहले इस मामले में कई भारतीय कंपनियों ने चिंता जाहिर की थी, क्योंकि अभी तक सिर्फ एक भारतीय कंपनी के पास यूएसएफडीए का प्रमाण पत्र है। बाद में स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक स्पष्टीकरण में कहा कि यूएसएफडीए या यूरोपियन सीई द्वारा प्रमाणित होना जरूरी नहीं है। पुणे के राष्ट्रीय विषाणु संस्थान (एनआईवी) से मान्यता प्राप्त जांच किट्स का भी इस्तेमाल किया जा सकेगा। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान संस्थान (आईसीएमआर) पुणे के राष्ट्रीय विषाणु संस्थान के साथ मिलकर कोरोना जांच के लिए भारतीय कंपनियों द्वारा बनाए गए मेडिकल किट्स का मूल्यांकन कर उसे मान्यता देने का काम कर रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक अभी तक इस तरह के दो भारतीय कंपनियों के किट्स को मंजूरी दी गई है। कोरोना वायरस के विश्व भर में फैसले में चलते कई देशों ने मेडिकल किट्स के निर्यात पर रोक लगा दी है, जिसके चलते इसकी वैश्विक स्तर पर भारी कमी देखी जा रही है। ऐसे में भारत की पहल सही दिशा में है, बशर्ते जांच की गुणवत्ता सुनिश्चित की जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares