nayaindia जय हो भागवतजी की! - Naya India
हरिशंकर व्यास कॉलम | अपन तो कहेंगे | बेबाक विचार| नया इंडिया|

जय हो भागवतजी की!

इस विजयदशमी को मैंने दिमाग से कुछ घंटे मुक्ति पाई! उस दिन जब सवा सौ करोड़ लोगों और खास कर सौ करोड़ हिंदुओं की सत्ता और समाज की प्रतिनिधि आवाज संघ प्रमुख मोहन भागवत से सुना कि विचार की जरूरत नहीं है व ज्यादा सोचेंगे, बहस करेंगे तो स्थिति ज्यादा बिगड़ेगी इसलिए भरोसा रखें सरकार पर। यह सुन कल-परसों मेरा दिमाग लिखने के लिए नहीं कुनबुनाया। सोचा, क्यों न दिमाग की छुट्टी की जाए। वैसे अब हम हिंदुओं के लिए दुनिया में यह थीसिस फैलाने का वक्त है कि बुद्धि से मुक्ति पाओ, दिमागविहीन हो भक्ति के भजन गाओ और चैन से रहो! तमाम संकटों की जड़ है दिमाग और उसका विचारना। तभी हमारे मोदीजी का मंत्र है कि हार्वर्ड नहीं हार्ड वर्क! ऐसे ही अब भागवतजी की बात भी गांठ बांधने लायक है।

सचमुच क्यों कर भारत के हम लोगों को सोचना चाहिए, अनुभव करना चाहिए, फील करना चाहिए कि हम मंदी में हैं या नहीं? भागवतजी ने ठीक कहा कि सरकार पर भरोसा रखो। सब ठीक होगा। जब भारत के लोगों ने मोदी सरकार को बापी पट्टा लिख कर दे दिया है तो रेवड़ को फिर अनुशासन में ही रहना चाहिए। क्यों लोग सोचें, चिंता करें, चर्चा करें कि कैसा जीवन है, मंदी व बेरोजगारी है या नहीं, आगे भविष्य बनेगा या नहीं? इस तरह सोचा जाना भला उन लोगों को, उस नस्ल को, उस धर्म को क्या शोभा देता है, जिसने सैकड़ों साल गुलामी के बाड़ों में भेड़ की तरह जीवन जीया है!

संदेह नहीं कि आरएसएस, संघ प्रमुख मोहन भागवत, प्रचारक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हम हिंदुओं के इतिहास की गुलामी को बारीकी से बूझा, जाना, समझा हुआ है। इसलिए पता है कि हिंदू का जीना कैसा भी हो वह जी लेता है। उसकी मुक्ति भक्ति से है न कि दिमाग और बुद्धि से! सोने की चिड़िया भगवान विष्णु के अवतारी राजा से बनती है न कि प्रजा से। इसलिए प्रजा को नहीं सोचना चाहिए और उसे भक्ति भजन से राजा को साधते रहना चाहिए तो रामराज्य बनेगा ही!

मोहन भागवत विराट हिंदू समाज के रक्षक-चिंतक हैं तो उन्होंने स्वभाविक हिंदू बुद्धि अनुसार सोचा कि लोगों को चिंतामुक्त बनाना वक्त का तकाजा है। तभी दो टूक शब्दों में कहा कि मंदी नहीं है इसलिए ज्यादा विचार की जरूरत नहीं है। उनकी दलील है कि यदि तथाकथित आर्थिकी गिरावट पर अधिक चर्चा हुई तो उससे आर्थिक गतिविधियों में कमी आएगी। सरकार ने हालात सुधारने के लिए कदम उठाए है तो हमें भरोसा रखना चाहिए। विश्व आर्थिकी में चक्र आते रहते हैं, बाधाएं आती हैं और विकास मंदा पड़ता है। इसे ही फिर मंदी कहते हैं। लेकिन देश बढ़ रहा है। यदि हम विचार और बहस करेंगे तो वह माहौल बनेगा, जिससे लोगों का व्यवहार प्रभावित होगा। लोग सावधान, कंजरवेटिव हो जाएंगे और इससे आर्थिकी और सुस्त बनेगी।

मोहन भागवत के इस संबोधन के बाद सोचने की, दिमाग को एप्लाई करने की गुंजाइश कहां बचती है? यदि दिमाग से रोजी-रोटी-रोजगार-मंदी का ख्याल निकाल दिया जाए, राजा या सरकार के कदमों, बंदोबस्तों, धर्मादे व खैरात की निश्चिंतता में हम अपने को ढाल लें तो फिर सुनहरे, रूपहले सपनों में सब बूम-बूम जीवन जीने लगेंगे। क्या नहीं?

तभी मैं विजयदशमी के दिन कुछ आश्वस्त हुआ। दिमाग को छुट्टी दी और रावण पर रामजी की जीत के पटाखे फूटते देखे। मैंने तब बूझा कि 21वीं सदी का यह वक्त भारत राष्ट्र-राज्य का, हिंदुओं का वह कालखंड है, जिसमें चिरंतन हर दिन आंखें रावण के दहन को देखते हुए हैं तो हाथ विजय पताका थामे हुए हैं। सोचें, सहस्त्राब्दियों से हम हिंदू रावण दहन करते आ रहे हैं और विजय की दीये जलाते हुए दीपोत्सव मनाते रहे हैं लेकिन बावजूद हम जैसे जीये और रहे हैं वह भी हमारा इतिहास है। मतलब रावण दहन और विजय उत्सव जीने का रूटिन है उसी में डूबे रहा जाए और दिमाग सोया रहे।

इस इतिहास में कौम से नए अंदाज में अब लगातार यह आग्रह है कि विचारना, सोचना, चिंता करना याकि बुद्धि, दिमाग की इंद्रियों को रिटायर करने का वक्त है और जीवन को प्रभुजी के आगे समर्पित रखते हुए भजन संध्या से जीना है! सोचो नहीं, बल्कि भक्ति करो व सपने देखो! सपना छह ट्रिलियन इकॉनोमी का, भारत भूमि पर अमेजन-वालमार्ट के फलते-फूलते धंधे का, मेक और मेड इन इंडिया की बजाय असेंबलिंग ऑफ आई-फोन, मर्सिडीज का! सवा सौ करोड़ लोगों के स्वावलंबन, उनकी आर्थिक आजादी, उनकी दुकान की चिंता मत करो और जश्न मनाओ अमेरिकी अमेजन दुकान के सवा सौ करोड़ लोगों की नंबर एक दुकान बनने पर!

मैंने सचमुच नवरात्रि के दिनों सोशल मीडिया पर लोगों को इस बात पर बधाई देते गौर किया कि अमजेन ने बिक्री का रिकार्ड बनाया। कितनी शर्मनाक और कलंकित करने वाली, दहला देने वाली बात है कि अमेरिका की अमेजन और वॉलमार्ट सवा सौ करोड़ लोगों के बाजार पर एकाधिकार बना ले रही है और हम तालियां बजा रहे हैं!

लेकिन दिमाग और बुद्धि हो या वह आजाद हो तब तो विचार हो! कोई माने या न माने इस त्योहार और गुजरी नवरात्रि में भारत राष्ट्र-राज्य का बाजार मंदी के बावजूद जिस तरह दो अमेरिकी कंपनियों के नियंत्रण में गया है वह प्रमाण है इस बात का कि पूरी आर्थिकी दस-बीस खिलाड़ी रावणों के कब्जे में जा रही है और रामभक्त तालियां बजाते हुए सपना देख रहे हैं कि वाह! बूम आया!

By हरिशंकर व्यास

भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था। आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य। संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

1 comment

  1. अच्छा लिखा है…हिंदू राष्ट्र तभी बनेगा जब जनता सरकार को बिना सवाल किए उसका काम करने देगी…चुपचाप नोटबंदी होने देगी और करों का बोझ अपने ऊपर लादने देगी….जिस किसी ने भी रावण को जलाने की परंपरा हिंदुओं में बिठाई है वह इसीलिए कि दशहरे, दीपाली, नवरात्रि, सत्संग, रामकथा आदि में उलझे रहो, सरकार को अपना काम करने दो, जो निसंतान हैं वे तथाकथित संतों से आशीर्वाद लेकर अपने घरों में बच्चों की किलकारियां सुनें….

Leave a comment

Your email address will not be published.

twenty − 5 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
ऑटो मोड में ही विदेश और सुरक्षा
ऑटो मोड में ही विदेश और सुरक्षा