nayaindia अब तोहमत भारत पर - Naya India
बेबाक विचार | लेख स्तम्भ | संपादकीय| नया इंडिया|

अब तोहमत भारत पर

मशहूर ब्रिटिश पत्रिका द इकॉनमिस्ट ने भारत में आई कोरोना महामारी पर एक कड़ी टिप्पणी में कहा है कि ये स्थिति भारत के साथ- साथ पूरी दुनिया के लिए मुसीबत बन रही है। इसमें ध्यान दिलाया गया है कि भारत में उत्पन्न हुआ डबल म्यूटेंट कई पश्चिमी देशों तक पहुंच गया है। अगर भारत में स्थिति बेकाबू बनी रही, तो यहां नए म्यूटेंट बनते रहेंगे और वे दुनिया भर में पहुंचते रहेंगे। कोरोना महामारी के सिलसिले में ये पहले ही कहा गया है कि इससे या तो पूरी दुनिया सुरक्षित होगी, या फिर कोई सुरक्षित नहीं है। इसीलिए जानकार दुनिया भर में सबके टीकाकरण पर जोर देते रहे हैं। मगर अब स्थिति यह है कि अलग-अलग देशों के वैक्सीन नेशनलिज्म के कारण गरीब देशों तक टीका पहुंचाने की कॉवैक्स योजना के लिए खतरा पैदा हो गया है।

जबकि बहुत से विकासशील देशों के लिए कोरोना वायरस संक्रमण रोकने का टीका पाने की एकमात्र उम्मीद यही योजना है। अब हाल यह है कि टीका निर्यात पर हालिया पाबंदियों के कारण विकासशील देशों को अगले महीने तक अब उम्मीद से काफी कम संख्या में वैक्सीन डोज मिल पाएंगे। ब्रिटिश अखबार द गार्जियन के एक विश्लेषण मुताबिक विकासशील देशों को मई तक तक जितनी संख्या में ऑक्सफॉर्ड/एस्ट्रा जेनिका के जितने वैक्सीन मिलने की संभावना थी, उसका सिर्फ 20 फीसदी हिस्सा ही मिल पाएगा। द गार्जियन का कहना है कि कॉवैक्स विभिन्न देशों की सरकारों और दवा कंपनियों के ऊपर निर्भर है। धनी देश कॉवैक्स योजना में शामिल हुए थे, लेकिन उन्होंने अपनी जनता के लिए प्राइवेट कंपनियों से वैक्सीन की सीधी खरीद कर ली। फाइजर जैसी कंपनी बहुत कम संख्या में अपने वैक्सीन के डोज रियायती दर पर कॉवैक्स को देने पर राजी हुई। मॉडेरना ने तो अभी तक इस कार्यक्रम को एक भी डोज की आपूर्ति नहीं की है। इसलिए कॉवैक्स लगभग पूरी तरह भारत में पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट पर निर्भर हो गया, जहां एस्ट्रा जेनिका कंपनी के वैक्सीन का उत्पादन हो रहा है। इस वैक्सीन की कॉवैक्स को बहुत सस्ती दर पर सप्लाई हो रही थी। लेकिन भारत में कोरोना महामारी की दूसरी लहर आ जाने से तस्वीर बदल गई। अब कॉवैक्स कार्यक्रम अपने लक्ष्य से बहुत पीछे चल रहा है। इसकी तोहमत भारत पर आ रही है। कहा जा रहा है कि भारत के एस्ट्रा जेनिका के वैक्सीन का निर्यात रोक देने के कारण कई दूसरे देशों का टीकाकरण कार्यक्रम मुश्किल में है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 3 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
परिनिर्वाण दिवस पर बाबा साहब को खड़गे-राहुल की विनम्र श्रद्धांजलि
परिनिर्वाण दिवस पर बाबा साहब को खड़गे-राहुल की विनम्र श्रद्धांजलि