nayaindia Jacinda Ardern prime minister जेसिंडा अर्डर्न भी एक प्रधानमंत्री हैं!
kishori-yojna
हरिशंकर व्यास कॉलम | गपशप | बेबाक विचार| नया इंडिया| Jacinda Ardern prime minister जेसिंडा अर्डर्न भी एक प्रधानमंत्री हैं!

जेसिंडा अर्डर्न भी एक प्रधानमंत्री हैं!

इस सप्ताह एक तरफ नरेंद्र मोदी का वापिस पीएम बनने के लिए 400 दिन का आह्वान तो दूसरी खबर न्यूजीलैंड से उसकी प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न की घोषणा कि वे अगला चुनाव नहीं लड़ेंगी क्योंकि उनके पास अगले चार साल योगदान देने के लिए कुछ खास नहीं बचा है। अगले महीने वे प्रधानमंत्री के पद से इस्तीफा देंगी ताकि पार्टी नया नेता चुने। उन्होंने कहा- हमें नया नेतृत्व चाहिए जो चुनौती ले सके। नया कुछ दे सके।

वाह! क्या बात है। क्या ऐसे लीडर, ऐसी लीडरशीप कभी भारत में संभव है? क्या कभी नरेंद्र मोदी या डॉ. मनमोहन सिंह या एक्सवाईजेड कोई नेता सोचेगा कि वह थक गया है, बासी हो गया है, फेल हो गया है और उसके कारण देश-प्रदेश गतिहीन, बेजान, टाइमपास करते हैं तो रिटायर हुआ जाए। कोई और प्रधानमंत्री बने। अमित शाह बनें, राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी बनें या जेपी नड्डा! उनसे ताजगी, जोश देश में बने। हिंदुओं को ताजी हवा, नए आइडिया मिलें।

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न ने रिटायर होने की घोषणा करते हुए कहा कि उन्होंने छह साल तक इस ‘चुनौतीपूर्ण’ पद को संभालने के लिए कड़ी मेहनत की है। अगले चार साल में उनके पास योगदान देने के लिए कुछ खास नहीं बचा है। इसलिए अब वो अगला चुनाव नहीं लड़ेंगी। जेसिंडा ने कहा कि उन्होंने मैंने गर्मी की छुट्टियों के दौरान अपने भविष्य की योजनाओं के बारे में सोच-विचार किया। ‘मैंने उम्मीद की थी कि मुझे अपना बचा हुआ कार्यकाल पूरा करने की कोई वजह मिलेगी, लेकिन दुख की बात है कि ऐसा नहीं हुआ। अगर मैं अब भी अपने पद पर बनी रहती हूं तो इससे न्यूजीलैंड का नुकसान होगा’।

ध्यान रहे 42 साल की जेसिंडा दुनिया की सबसे कम उम्र की महिला राष्ट्र प्रमुख बनी थीं। वो चुनाव अभियानों में समाज में फैली असमानताओं की बात किया करती थीं। राजनीति में उन्हें क्या खींचता है, इस पर बात करते हुए कभी अर्डर्न ने कहा था कि “भूख से संघर्ष करते बच्चे और बिना जूते के उनके पांव ने उन्हें राजनीति में आने के लिए प्रेरित किया”। 1980 में जन्मी अर्डर्न साल 2017 में गठबंधन सरकार में न्यूडीलैंड की प्रधानमंत्री बनीं। इसके एक साल बाद जून 2018 में वो दुनिया की दूसरी ऐसी राष्ट्राध्यक्ष बनीं, जिन्होंने पद पर रहते हुए बच्चे को जन्म दिया।

बतौर प्रधानमंत्री जेसिंडा ने कोरोना महामारी और मंदी, क्राइस्ट चर्च मस्जिद में हुई गोलीबारी और व्हाइट आइलैंड में ज्वालामुखी विस्फोट जैसी चुनौतियों का सामना किया। वह लीडरशीप दिखलाई, जिससे दुनिया में वाहवाही हुई। उन्होंने कहा, ‘शांति के दौर में देश का नेतृत्व करना एक बात है, लेकिन संकट के दौर में ऐसा करना बड़ी चुनौती है। ये घटनाएं… मेरी परेशानी की वजह हैं क्योंकि ये बड़ी घटनाएं थीं, बेहद बड़ी घटनाएं और एक के बाद एक आती गईं। इस दौरान कोई वक्त ऐसा नहीं रहा जब मुझे लगा हो कि हम शासन का काम देख रहे हैं’।…आगे कहा, ‘मैं इस उम्मीद और विश्वास के साथ देश का नेतृत्व छोड़ रही हूं कि देश का नेता ऐसा हो, जो नेकदिल होने के साथ मजबूत हो, संवेदनशील होने के साथ फैसले लेनेवाला हो, आशावादी हो और देश का काम एकाग्रता से करे और अपनी शख्सियत की छाप छोड़े- और जिसे ये पता हो कि कब नेतृत्व छोड़ देना है’।
तुलना करें प्रधानमंत्री जेसिंडा की लीडरशीप के साथ भारत और भारत की लीडरशीप पर।

By हरिशंकर व्यास

भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था। आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य। संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 − 4 =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
राहुल की यात्रा से कांग्रेस का भला नहीं!
राहुल की यात्रा से कांग्रेस का भला नहीं!