nayaindia कुछ भी नया नहीं हो रहा है - Naya India
हरिशंकर व्यास कॉलम | गपशप | बेबाक विचार| नया इंडिया|

कुछ भी नया नहीं हो रहा है

कोरोना वायरस की महामारी में जो कुछ हो रहा है उससे अनेक लोग हैरान हो रहे हैं, जैसे यह कुछ नया हो रहा है। इसमें कुछ भी नया नहीं हो रहा है। यह भारत की सनातन कथा है। हमेशा ऐसा ही होता रहा है। भारत में शासक कभी भी इतने दूरदर्शी नहीं हुए कि वे खतरे को समय रहते भांप लें और उससे निपटने के उपाय करें। चाहे बाहरी आक्रमण का मामला हो या बीमारी और महामारी का मामला हो, सब में भारत के शासकों की ऐसी ही प्रतिक्रिया रही है। जब तक खतरा एकदम सिर पर नहीं आ जाता है तब तक भारत के शासक न तो कोई तैयारी करते हैं और न कोई प्रतिक्रिया देते हैं। सामरिक मामलों के विशेषज्ञ ब्रह्म चैलानी ने इसे पानीपत सिंड्रोम का नाम दिया है। यानी खतरा जब तक पानीपत नहीं पहुंचेगा तब तक दिल्ली का शासक उस पर प्रतिक्रिया नहीं देगा। जैसे चीन ने भारत की जमीन कब्जा कर ली लेकिन जब तक दुनिया ने बताया नहीं या यह दिखा नहीं कि चीन भारत की सीमा में घुस कर बैठा है, तब तक भारत की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई थी। वैसे ही जब तक महामारी भारत में आकर एक दिन में तीन लाख से ज्यादा लोगों को संक्रमित नहीं करने लगी, तब तक प्रधानमंत्री ने चुनावी रैली रोकने और महामारी से निपटने की रणनीति बनाने की जरूरत नहीं समझी।

सो, यह भारत का पुराना रोग है। यहां शासक हमेशा नींद में गाफिल होते हैं, सत्ता के मद में चूर होते हैं, उन्हें कोई चिंता नहीं होती। तभी जो लोग यह कह रहे हैं कि भारत का हेल्थ सिस्टम चरमरा गया या कोलैप्स्ड हो गया, उन पर तरस आता है। भारत में हेल्थ सिस्टम है कहां? वह तो पहले से ही कोलैप्स्ड है, इस महामारी ने उसको एक्सपोज कर दिया है। उस कोलैप्स्ड हेल्थ सिस्टम की पोल खोल दी है। दुनिया के जितने सभ्य देश हैं वे अपने नागरिकों के स्वास्थ्य को प्राथमिकता देते हैं और इसलिए स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाते हैं। भारत में नागरिकों का स्वास्थ्य किसी की प्राथमिकता में नहीं है। इसलिए केंद्र सरकार हो या राज्यों की सरकारें हों सबने नागरिकों को उनकी किस्मत पर छोड़ा है।

सुनियोजित तरीके से देश की सरकारी स्वास्थ्य सुविधा को खत्म होने दिया गया ताकि उसके समानांतर निजी स्वास्थ्य व्यवस्था फल-फूल सके। भारत जैसे गरीब और विशाल आबादी वाले देश में यह मॉडल काम ही नहीं कर सकता है। कोरोना की महामारी ने इसे साबित कर दिया है। सरकारी और निजी दोनों चिकित्सा व्यवस्था महामारी की लहर आते ही धराशायी हो गई। पहली लहर में निजी अस्पतालों ने मरीजों को दोनों हाथों से लूटा। एकाध अपवाद होंगे वरना सभी अस्पतालों ने मरीजों की आर्थिक हैसियत देख कर उन्हें भरती किया और लाखों-लाख के बिल बनाए। सरकार की तरह सबने आपदा को अवसर बनाया।

आपदा को अवसर बनाना भी भारत में कोई नई बात नहीं है। पहले बाढ़, सूखा आदि की आपदा को अधिकारी, बाबू अवसर बनाते थे। तभी पी साईनाथ ने किताब लिखी- एवरीबॉडी लब्स एक गुड ड्रॉट! तभी अदम गोंडवी ने लिखा महज तनख्वाह से निपटेंगे क्या नखरे लुगाई के, हजारों रास्ते हैं सिन्हा साहब की कमाई के। ये सूखे की निशानी उनके ड्राइंगरूम में देखो, जो टीवी का नया सेट है रखा ऊपर तिपाई के। मिसेज सिन्हा के हाथों में जो बेमौसम खनकते हैं, पिछली बाढ़ के तोहफे हैं ये कंगन कलाई के। सो, पहले नेता, अधिकारी, बाबू, ठेकेदार, कारोबारी आदि बाढ़, सूखे को अवसर बनाते थे और इस बार कोरोना को बना लिया है। सब तरफ लूट मची है और इसमें भी कुछ नया नहीं है।

महामारी के बीच नेता रैलियां करते रहे, यह भी कोई नई चीज नहीं है। पहली लहर में भी यही हुआ था। कोरोना महामारी के बीच मध्य प्रदेश की सरकार गिरी थी और राजस्थान में सरकार गिरते-गिरते रह गई थी। बिहार में भी विधानसभा का चुनाव हुआ था। सो, इस बार अगर पांच  राज्यों में चुनाव होता रहा, रैलियां होती रहीं, नेता रैलियों में गरजते रहे तो इसमें क्या नया है? यहां दशकों से तबाही पर, विनाश पर, लाशों पर राजनीति होती रही है। सांप्रदायिक दंगों पर राजनीति होती रही है तो सैनिकों की शहादत पर वोट मांगा जाता रहा है। इसलिए अगर आपदा के बीच वोट मांगा जा रहा है तो उसमें भी कुछ नया नहीं है। यह इस देश की नियति है, इस देश की तासीर है और हकीकत है। कोई इससे सबक नहीं लेने वाला है। आज जो सारे बेबस, लाचार मरीज हैं वे भी कल बदल जाएंगे। महामारी खत्म होते ही सब कुछ पुराने ढर्रे पर लौट जाएगा। न सरकार सबक लेगी और न आम आदमी।

By हरिशंकर व्यास

भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था। आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य। संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

Leave a comment

Your email address will not be published.

18 + 3 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
मल्लिकार्जुन खड़गे ने कांग्रेस अध्यक्ष के लिए नामांकन किया
मल्लिकार्जुन खड़गे ने कांग्रेस अध्यक्ष के लिए नामांकन किया