nayaindia ‘जो 70 साल में कभी नहीं हुआ!’ - Naya India
हरिशंकर व्यास कॉलम | गपशप | बेबाक विचार| नया इंडिया|

‘जो 70 साल में कभी नहीं हुआ!’

हां, यह जुमला भाजपा और प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, रक्षा मंत्री से लेकर केंद्र सरकार के हर मंत्री का सबसे पसंदीदा है। मतलब जो 70 साल में नहीं हुआ वह हमने तीन महीने, तीन साल या पांच साल में कर दिया। मजेदार बाह है कि भक्त नागरिक इन बेसिरपैर की बातों पर भरोसा भी करते हैं। ऐसा लगता है कि उन्हें इस बात का पता नहीं है कि हर काम अपने समय पर ही होता है। 5जी की तकनीक अगर भाजपा की सरकार के रहते आए और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री कहें कि जो काम 70 साल में नहीं हुआ वह हमारे समय में हुआ तो यह मूर्खता होगी। लेकिन इस किस्म की सामूहिक मूर्खता को सहज भाव से स्वीकार किया जा रहा है। तभी भारत का मौजूदा वक्त तर्कहीनता के विराट उत्सव का समय है!

बहरहाल, पता नहीं ऐसे कितने काम हैं, जो 70 साल में नहीं हुए थे और तीन महीने या तीन साल या पांच साल में हो गए हैं। इनकी गिनती नहीं हो सकती है क्योंकि हर मंत्री अपने मंत्रालय के काम के बारे में ऐसा ही दावा कर रहा है। पर कुछ काम सचमुच ऐसे हो रहे हैं, जो 70 साल क्या सौ साल या दुनिया के लोकतंत्र के इतिहास में कभी नहीं हुए हैं। ये काम हैं बड़बोलेपन का या बिना सोचे समझे कुछ भी बोलने का। दायित्व बोध और जवाबदेही की कमी इससे पहले कभी ऐसी नहीं देखी गई। इस पर विचार ही नहीं हो रहा है कि प्रधानमंत्री या मंत्री जो बोल रहे हैं वह सचमुच हुआ है या सचमुच हो पाएगा या नहीं। उन्हें तो बस कहना है और लोगों को बस सुनना है।

तभी पहले कभी यह सुनने को नहीं मिला कि देश का रक्षा मंत्री कहे कि भारत परमाणु बम का पहले इस्तेमाल नहीं करने की अपनी नीति पर विचार कर सकता है। यानी भारत अपनी पहल पर परमाणु हमला भी कर सकता है! वह भी किसके खिलाफ- पाकिस्तान के! जिसे भारत पारंपरिक लड़ाई में चार बरा हरा चुका है और पारंपरिक युद्ध में वह भारत के सामने कहीं नहीं टिकता है, भारत उसे परमाणु हमले की धमकी या चेतावनी दे, उससे बुरा भी क्या कुछ हो सकता है? संभव है यह सिर्फ कहने की बात हो और सरकार की मंशा परमाणु हमले की नहीं रही हो पर किसी जिम्मेदार लोकतांत्रिक व्यवस्था में ऐसी बात सोची भी कैसे जा सकती है? पर यूं ही कैजुअल अंदाज में यह बात कह दी गई, बिना सोचे की इसका आघात, सदमा कितना बड़ा और भयावह होगा।

यह भी 70 साल में पहली बार हुआ कि देश का गृह मंत्री घूम घूम कर कह रहा है कि चुन चुन कर घुसपैठियों को निकालेंगे। भाजपा जब विपक्ष में थी तब कहती थी कि बांग्लादेशी घुसपैठियों को बाहर निकालेंगे खास कर पूर्वोत्तर के राज्यों से। भाजपा का कहना था कि कांग्रेस और लेफ्ट ने वोट बैंक की राजनीति के लिए उनको बसाया है। अब पूर्वोत्तर के साथ साथ पूरे देश से घुसपैठियों को निकालने की बात कही जा रही है और वह भी इन शब्दों में कि चुन चुन कर निकालेंगे और वह भी 2024 के चुनाव से पहले। सरकार ऐसा कैसे करेगी? उनकी पहचान कैसे होगी और उन्हें निकाल कर कहां भेजा जाएगा? ऐसे सवाल कोई नहीं पूछ रहा है।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना पिछले हफ्ते चार दिन भारत में रह कर गईं। उनसे भारत सरकार ने कहा कि राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर बनाने का काम भारत का आंतरिक मामला है। यानी घुसपैठियों का मामला आंतरिक है। भारत ने उनको भरोसा दिलाया हुआ है कि यहां से कोई घुसपैठिया उनके यहां नहीं भेजा जाएगा। सवाल है कि जिनको चुन चुन कर निकाला जाएगा उनको कहां भेजा जाएगा? अकेले असम के एनआरसी में से 19 लाख नाम छूटे हैं यानी 19 लाख घुसपैठिए असम में हैं। पूरे देश में अगर यह संख्या 50 लाख भी होती है तो उन्हें सरकार कहां भेजेगी? बाहरी लोगों को पहचान कर निकालने का रिकार्ड देखें तो और चिंता होती है। म्यांमार से भाग कर भारत में घुसे रोहिंग्या घुसपैठियों की संख्या 40 हजार है। यह बिल्कुल गिनी हुई संख्या है और लोग पहचाने हुए हैं पर पिछले पांच साल में सरकार कुल 40 रोहिंग्या को बाहर नहीं कर सकी है। एक दिन सात रोहिंग्या वापस भेजे गए तो राष्ट्रीय खबर बनी थी। सोचें, अगले पांच साल में कम से कम 50 लाख लोगों को निकालने का दावा किया जा रहा है?

ऐसा 70 साल में पहली बार हुआ कि देश के गृह मंत्री पड़ोसी देश को लक्ष्य करके कह रहे हैं कि घर में घुस कर मारेंगे। यह भी पहली बार हुआ कि गृह मंत्री ने कहा कि मुस्लिम घुसपैठिए निकाले जाएंगे और हिंदू, जैन, बौद्ध, सिख और यहां तक कि ईसाई घुसपैठियों को भारत की नागरिकता दी जाएगी। यह भी पहली बार हुआ कि 70 साल में कोई नेता ‘भारत का पिता’ बन गया और उसके समर्थक कहने लगे कि जो उन्हें भारत पिता नहीं मानेगा वह भारतवासी नहीं है। यह भी पहली बार हुआ कि समूचे विपक्ष को देशद्रोही और पाकिस्तानी ठहरा दिया गया।

By हरिशंकर व्यास

भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था। आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य। संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

Leave a comment

Your email address will not be published.

twelve + 1 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
चोरों ने वापस की अष्ट धातु की 14 मूर्तियां, चिट्ठी में लिखा- हमें डरावने सपने आते थे…
चोरों ने वापस की अष्ट धातु की 14 मूर्तियां, चिट्ठी में लिखा- हमें डरावने सपने आते थे…