• डाउनलोड ऐप
Saturday, April 10, 2021
No menu items!
spot_img

सियासत में जकड़ी नजरें

Must Read

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के हमले में 22 सुरक्षाकर्मियों की मौत तुरंत सियासी आरोप- प्रत्यारोप का मुद्दा बन गई। केंद्र में सत्ताधारी भाजपा ने राज्य की कांग्रेस सरकार पर निशाना साधा तो कांग्रेस ने गृह मंत्री अमित शाह को निशाने पर लिया। जबकि हकीकत यह है कि नक्सली समस्या और नक्सलियों की हिंसा के मामले में सबक सीखने के लिए अपने देश की सरकारें तैयार नहीं रही हैं। मसला इसे सामाजिक समस्या मानने से लेकर विशुद्ध कानून व्यवस्था की समस्या माने जाने तक का सफर तय कर चुका है। लेकिन ताजा हमला बताता है कि उससे जमीन पर कोई फर्क नहीं पड़ा है। गौरतलब है कि 2010 के चिंतलनार नक्सली हमले के बाद से अब तक दंतेवाड़ा-सुकमा-बीजापुर की धुरी में नक्सलियों के हमले में 175 सुरक्षाबलों की जान जा चुकी है।

बीते सालों में सैकड़ों आम नागरिक भी अपनी जान गंवा बैठे हैं। ताजा हमले में नक्सलियों ने बड़ी योजना के तहत सुरक्षाबलों को तीन तरफ से घेर कर हमला किया। यह हमला इस साल का अब तक के सबसे बड़ा नक्सली हमला है। हमले में 22 सुरक्षाकर्मी मारे गए और 20 से अधिक घायल हुए। मुठभेड़ पीपुल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी (पीएलजीए) के 400 सदस्यीय दल और सुरक्षाबलों के बीच बीते शनिवार को हुई थी। पूरी जानकारी रविवार को सामने आई। उसके बाद इस पर चर्चा शुरू हुई। मारे गए 22 सुरक्षाकर्मियों में से 9 सीआरपीएफ के हैं, जबकि बाकी राज्य पुलिस के जिला रिजर्व गार्ड (डीआरजी) और स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) के हैं। बीजापुर के तर्रेम थाना क्षेत्र के टेकलगुड़ा के जंगल में सुरक्षाबल एक ऑपरेशन के तहत पहुंचे थे, लेकिन इसके उलट नक्सलियों को इस ऑपरेशन की जानकारी लग गई। नक्सलियों और सीआरपीएफ के एलीट कोबरा (कमांडो बटालियन फॉर रेजोल्यूट एक्शन यूनिट) और छत्तीसगढ़ पुलिस की डीआरजी और एसटीएफ की संयुक्त टीम के बीच 9 घंटे तक चली गोलाबारी चली। हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हुई है कि कितने नक्सली मारे गए, लेकिन उनके बीच बड़ी संख्या में लोगों के हताहत होने का अनुमान है। मीडिया रिपोर्टों में कहा जा रहा है कि मुठभेड़ में नक्सलियों को भी भारी नुकसान पहुंचा है। मगर ये बात संतोष की नहीं हो सकती। हकीकत यह है कि नक्सलियों ने सुरक्षा बलों को भारी नुकसान पहुंचाया। यानी ऐसा करने की उनकी ताकत बनी हुई है। इसके लिए आखिर कौन जिम्मेदार है?

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

देवी के मंदिर दर्शन करने जा रहे श्रद्धालुओं से भरी डीसीएम खाई में गिरी, 11 की मौत, 41 घायल

कानपुर। यूपी के इटावा में शनिवार को एक बड़ा दर्दनाक हादसा (Road accident in Etawah) हो गया। आज अचानक...

More Articles Like This