nayaindia पेगासस से जासूसी का सवार कौन | pegasus hacking case | Naya India
बेबाक विचार | नब्ज पर हाथ| नया इंडिया| पेगासस से जासूसी का सवार कौन | pegasus hacking case | %%sitename%%

पेगासस से जासूसी का सवार कौन?

Supreme Court Pegasus allegations

pegasus hacking case : ग्रीक मायथोलॉजी के मुताबिक पेगासस पंखों वाला एक उज्ज्वल, धवल घोड़ा है, जिसकी सवारी ग्रीक कथाओं का सबसे महान नायक बेलारोफॉन करता है। यह घोड़ा ग्रीक कथा संसार का सबसे जाना-पहचाना प्राणी है। लेकिन बात जब पेगासस स्पाईवेयर की होती है तो इसमें उज्ज्वल, धवल कुछ नहीं रह जाता है। इसके जरिए राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर उन लोगों की जासूसी की जाती है, जिनकी राय किसी देश विशेष की सरकार से मेल नहीं खाती है। आमतौर पर सरकारों से असहमति रखने वालों की जासूसी के लिए इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जाता है। इजराइल की संस्था एनएसओ ने इस सॉफ्टवेयर का निर्माण किया है और उसका दावा है कि वह ये सॉफ्टवेयर सिर्फ संप्रभु सरकारों या सरकारों से मान्यता प्राप्त एजेंसियों को ही बेचती है।

Read also अश्लील वीडियो मामले 23 जुलाई तक Raj Kundra पुलिस हिरासत में, अब हो सकते हैं नए खुलासे

तभी सवाल है कि क्या भारत सरकार ने या उसकी मंजूरी से किसी खुफिया एजेंसी या राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े किसी संस्थान ने इसे इजराइल की संस्था एनएसओ से खरीदा? भारत सरकार इस सवाल का जवाब नहीं दे रही है। पिछले करीब दो साल से यह सीधा सवाल पूछा जा रहा है और सरकार इसका जवाब देने से बच रही है। बाकी सारी बातें सरकार और सरकारी पार्टी के प्रवक्ता कह रहे हैं लेकिन इसका जवाब नहीं दे रहे हैं कि सरकार ने इसे खरीदा या नहीं।

करीब दो साल पहले 2019 के आखिर में जब पहली बार पेगासस से जासूसी किए जाने और व्हाट्सऐप हैक होने की खबर आई थी तब सरकार के सूचना व प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस मसले पर संसद में जो कुछ कहा था कि लगभग वहीं बात नए आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने संसद के मॉनसून सत्र के पहले दिन कही है। दोनों मंत्रियों ने अलग अलग समय में एक ही बात कही। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार की कितनी एजेंसियां, किस कानून के तहत अधिकृत रूप से फोन टेप करती हैं, लेकिन यह नहीं बताया कि पेगासस भारत सरकार ने खरीदा है या नहीं और भारत में फोन टेप करने वाली एजेंसियां पेगासस का इस्तेमाल करती हैं या नहीं। pegasus hacking case |

यह भी पढ़ें: यह अजीब-सी जासूसी है

pm Narendra modi

अगर सरकार इस बात का जवाब दे तो आगे की कड़ी खुले। परंतु मुश्किल यह है कि हां या ना दोनों जवाब में सरकार फंसेगी। सरकार अगर सीधे तौर पर कहती है कि दुनिया के और देशों की तरह राष्ट्रीय सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सरकार या उसकी किसी एजेंसी ने इसे खरीदा है तो यह सवाल उठेगा कि विपक्ष के नेताओं, सरकार के मंत्रियों, अधिकारियों, संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति या किसी न्यायिक अधिकारी से राष्ट्रीय सुरक्षा को क्या खतरा था, जो उसका फोन टेप किया गया? इसका जवाब देना बहुत भारी पड़ेगा।

या तो सरकार को बताना होगा कि जिनके फोन टेप हुए हैं उनसे राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा है और इसका सबूत पेश करना होगा या फिर यह माना जाएगा कि राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर राजनीतिक मकसद से अपने विरोधी नेताओं, स्वतंत्र विचार रखने वाले बुद्धिजीवियों, सामाजिक कार्यकर्ताओं आदि के फोन टेप किए गए। यह स्थिति सरकार को बहुत शर्मिंदा करने वाली होगी।

Read also फोन हैकिंग में पूरा सद्भाव है

अगर भारत सरकार यह जवाब देती है कि उसने या उसकी किसी एजेंसी ने पेगासस सॉफ्टवेयर नहीं खरीदा है तो सवाल उठेगा कि फिर सरकार ने इस बात की जांच क्यों नहीं कराई कि भारतीय नागरिकों के ऊपर इसका इस्तेमाल कौन कर रहा है? इजराइली संस्था एनएसओ एक कारोबारी कंपनी है इसलिए उसके सॉफ्टवेयर का भारत में इस्तेमाल करने के लिए किसी न किसी ने तो उसे भुगतान किया है। अगर सरकार ने भुगतान नहीं किया है तो उसे पता लगाना चाहिए कि किसने पैसे चुकाए हैं!

अगर विपक्ष के नेता, केंद्रीय मंत्री, अधिकारी, सुप्रीम कोर्ट के जज, मानवाधिकार कार्यकर्ता और पत्रकारों के फोन हैक किए गए हैं तो यह सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि वह इसकी गंभीरता से जांच करे और पता लगाया कि किसने ऐसा किया है। उसे इजराइल की उस संस्था से भी बात करनी चाहिए, जिसने यह सॉफ्टवेयर बनाया है और इस पहलू से भी जांच करनी चाहिए कि कहीं उस संस्था ने ही तो जासूसी नहीं कराई है!

narendra modi parliament

रविशंकर प्रसाद ने आईटी मंत्री रहते कहा था कि सरकार ने इजराइली संस्था एनएसओ को नोटिस भेजा था और उसने कहा कि जिन देशों में इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किए जाने का खुलासा हो रहा है उनमें से कई देश उसके ग्राहक नहीं हैं। इतने भर से भारत सरकार ने अपनी जिम्मेदारी पूरी कर ली। पिछली बार जब पेगासस के जरिए व्हाट्सऐप हैकिंग का मामला सामने आया था तब कांग्रेस के दिग्विजय सिंह ने राज्यसभा में इसे उठाते हुए तीन संभावनाएं जताई थीं।

उन्होंने कहा था कि या तो सरकार ने कानूनी तरीके से इसका इस्तेमाल किया है या सरकार ने गैरकानूनी तरीके से इसका इस्तेमाल किए जाने की मंजूरी दी है या फिर सरकार की बिना जानकारी के अवैध तरीके से इसका इस्तेमाल किया गया है। ये तीन ही स्थितियां बनती हैं और इन तीनों स्थितियों में स्पष्टीकरण देने की जिम्मेदारी सरकार की है।

लेकिन सरकार स्पष्टीकरण देने और हां या ना में जवाब देने की बजाय डिनायल मोड में है। वह ऐसी किसी घटना से ही इनकार कर रही है। उसके पास एक रटा-रटाया जवाब है कि सरकार को बदनाम करने के लिए ऐसा किया जा रहा है। राफेल से लेकर पनामा पेपर्स तक के खुलासे में सरकार का यही जवाब था। हालांकि दूसरे देशों में सबकी जांच होती है। पनामा पेपर्स के खुलासे से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की कुर्सी गई और राफेल की जांच में फ्रांस के पूर्व और मौजूदा राष्ट्रपति दोनों की गर्दन फंसी है।

पर भारत में सरकार के लिए न पनामा पेपर्स मुद्दा हैं, न राफेल मुद्दा है और न पेगासस का इस्तेमाल कोई मुद्दा है। उसने तो कह दिया कि इस तरह की बातों से देश का विकास नहीं रूकेगा और इसके साथ ही उसकी जिम्मेदारी खत्म हो गई!

Read also शाह का इस्तीफा क्यों मांगना?

सभ्य समाजों और लोकतांत्रिक व्यवस्था में ऐसा नहीं होता है। वहां सरकारें अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकती हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने वाटरगेट बिल्डिंग में अपनी विरोधी पार्टी की चुनावी बैठकों की रिकार्डिंग कराई थी, जिसका खुलासा होने के बाद उनको पद से इस्तीफा देना पड़ा था। भारत में भी सबसे बड़ी विरोधी पार्टी के नेता का फोन हैक किए जाने की खबर है। इस लिहाज से यह वाटरगेट कांड से मिलता-जुलता कांड है। लेकिन भारत में इतनी बड़ी घटना के बावजूद किसी की जवाबदेही तय नहीं हुई है और जिम्मेदारी लेकर इस्तीफा देने का जो सवाल ही नहीं उठता है।

फोन टेपिंग के मामले में व्यक्ति की निजता का मामला भी शामिल होता है तो सरकारों या सरकारी एजेंसियों के कदाचार का मामला भी शामिल है। इसमें सरकार की खुफिया और सुरक्षा एजेंसियों की जवाबदेही का मामला भी बनता है।

आखिर किसी भी एजेंसी को राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर किस सीमा तक लोगों की निजता के उल्लंघन की इजाजत दी जा सकती है! क्या इन एजेंसियों को किसी ऐसी संस्था के प्रति जवाबदेह नहीं बनाया जा सकता है, जहां गोपनीयता के साथ साथ पारदर्शिता भी सुनिश्चित की जा सके? ऐसा हो सकता है लेकिन यह तब होगा, जब सरकार डिनायल मोड से बाहर आएगी और सरकारी पार्टी विरोधियों को बदनाम करने और अपने राजनीतिक फायदे को सर्वोच्च प्राथमिकता देना बंद करेगी।

pegasus hacking case pegasus hacking case pegasus hacking case 

By अजीत द्विवेदी

पत्रकारिता का 25 साल का सफर सिर्फ पढ़ने और लिखने में गुजरा। खबर के हर माध्यम का अनुभव। ‘जनसत्ता’ में प्रशिक्षु पत्रकार से शुरू करके श्री हरिशंकर व्यास के संसर्ग में उनके हर प्रयोग का साक्षी। हिंदी की पहली कंप्यूटर पत्रिका ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, टीवी के पहले आर्थिक कार्यक्रम ‘कारोबारनामा’, हिंदी के बहुभाषी पोर्टल ‘नेटजाल डॉटकॉम’, ईटीवी के ‘सेंट्रल हॉल’ और अब ‘नया इंडिया’ के साथ। बीच में थोड़े समय ‘दैनिक भास्कर’ में सहायक संपादक और हिंदी चैनल ‘इंडिया न्यूज’ शुरू करने वाली टीम में सहभागी।

Leave a comment

Your email address will not be published.

twelve + 4 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
कांग्रेसः न नेता और न नीति
कांग्रेसः न नेता और न नीति