शाही महल में जेठानी-देवरानी का झगड़ा

जब चार दशक पहले दिल्ली आया तो यहां तिपहिया वाहनों के पीछे अक्सर नारे लिखे होते थे एक बार किसी मित्र ने मुझे एक नारे की ओर आकर्षित किया वहां लिखा था ‘बुरी नजर वाले तेरे लड़के जिएं, बड़े होकर तेरा खून पिएं।’ उन्होंने कहा कि ईश्वर को, जिसने जितना ज्यादा बदला लेना होता है वह उसे उतने ही ज्यादा लड़के देता था। क्योंकि उनके बड़े होने पर बाप की संपत्ति के उत्तराधिकार संभालने को लेकर बेटों के बीच विवाद होने लगता है। इस बात में खासा दम है। जब हाल ही में ब्रिटेन के शाही परिवार में दोनों सगे भाई की पत्नियों ने आपस में टकराव होने के कारण छोटे राजकुमार द्वारा राजमहल व देश छोड़ने की खबर पढ़ी तो यह घटना याद आ गई।

जब दिल्ली प्रेस में काम करता था तो एक बार किसी बड़े औद्योगिक परिवार के अंदर चल रहे विवाद को लेकर मैंने संपादकजी से इस बारे में चर्चा की तो वो कहने लगे कि तुम ध्यान से पता लगाना जरूर यह तीसरी पीढ़ी होगी। पहली पीढ़ी संग्रह कर साम्राज्य बनाती है। पैसे जोड़ती है। चूंकि दूसरी पीढ़ी ने वह संघर्ष देखा होता है इसलिए वह उसे बनाए रखती है। जबकि तीसरी पीढ़ी को चूंकि बिना कुछ संघर्ष किए सब कुछ मिल जाता है इसलिए वह उसका सत्यानाश करती है। सच कहूं तो ब्रिटेन में भी यहीं होता नजर आ रहा है। वहां राजमहल का झगड़ा सड़कों और अखबारों तक आ गया है। वहां के छोटे राजकुमार ने ब्रिटेन छोड़ कर अपनी पत्नी के साथ कनाडा में जा बसने की बात कर दी है। ब्रिटेन एक ऐसा देश है, जहां कि लोकतंत्र होने के बावजूद शाही घराना बहुत मायने रखता है। वहां की आम जनता के मन में शाही घराने के प्रति बहुत विश्वास है वे उसकी हर हरकत पर नजर रखते हैं। वे महारानी की बहुत इज्जत करते हैं और उनके घर पर नजर लगाए रहते हैं।

वहां का शाही परिवार 1066 से सत्ता में है। सरकार उनके राजमहल व रहने सहने का सारा खर्च उठाती है। वहां की महारानी एलिजाबेथ के दो पोते हैं जो कि राजकुमार चार्ल्स व डायना के बच्चे है। बड़े पोते का नाम प्रिंस विलियम व उनकी पत्नी केट व छोटा पोता प्रिंस हैरी व उनकी पत्नी मेगन मार्केल हैं, जिन्होंने शाही परिवार से अलग होने का ऐलान कर दिया है। मेगन मार्केल एक अभिनेत्री हैं, जिन्हें अमेरिकी ड्रामा धारावाहिक सूट्स से काफी प्रसिद्धि मिली। वे कैलिफोर्निया में पैदा हुई थीं व प्रिंस हैरी से पहली बार जुलाई 2016 में मिलीं। 19 मई 2018 को दोनों की शादी हुई। उनके विवाह को दुनिया भर में दो करोड़ लोगों ने टीवी पर देखा। हालांकि इससे पहले वे अमेरिकी फिल्म निर्माता ट्रेवर एंगलसन के साथ शादी कर तीन साल तक साथ रह चुकी हैं। दोनों अगस्त 2013 में अलग हो गए। वे लोगों की मदद के लिए पैसा एकत्र करते व भाषण देने का काम करती थीं।वहां शाही परिवार में वह सब कुछ हो रहा है जो कि भारत में एक मध्यम वर्ग परिवार में जेठानी व देवरानी के बीच में होता है। देवरानी वे जेठानी के बीच टकराव के चलते दोनों सगे भाईयों के संबंध खराब होने लगे व उनकी 93 वर्षीय दादी महारानी एलिजाबेथ भी इस विवाद को सुलझा नहीं पाईं। उनके बीच कपड़ों से लेकर लोगों से मिलने जुलने तक के मुद्दों पर टकराव होता। वे प्रेस द्वारा अपनी जिंदगियों में हस्तक्षेप किए जाने से भी बहुत परेशान रहे हैं। उन्होंने वहां के शाही परिवार से सारे संबंध तोड़ कर कनाडा में जाकर रहने का ऐलान किया है।

हालांकि दोनों पति-पत्नी का कहना था कि वे लोग अब अपने पैरों पर खड़े होकर आर्थिक व वित्तीय रुप से स्वतंत्र बनना चाहते हैं और शाही परिवार के वरिष्ठ सदस्य के पद पर न रह कर उससे अलग हो जाएंगे। मालूम हो कि बड़ा भाई विलियम तख्त के दावेदारों की सूची में दूसरे नंबर पर व छोटा भाई आठवें नंबर पर है। उसकी पत्नी की घर में ज्यादा नहीं पटी। जब पिछले साल उनका बेटा आर्ची हुआ तो उसके जन्मदिन पर सम्मान में 25 लाख पौंड खर्च किए, जिसकी बहुत आलोचना हुई।

इस शाही परिवार में इस तरह की घटनाएं होती आई हैं। महारानी एलिजाबेथ की बहू डायना व प्रिंस चार्ल्स में भी नहीं बनी थी। अपने पति का किसी और महिला के साथ संबंध होने के कारण डायना ने उन्हें तलाक दे दिया था। वे एक अन्य पैसे वाले व्यक्ति डोडी के साथ रहने लगी थीं। बाद में एक रहस्यमय कार दुर्घटना में उनकी मौत हो गई थी। तब उनके दोनों बेटे बहुत छोटे थे। उनकी मौत के बाद राजकुमार विलियम व राजकुमार हैरी बहुत करीब आ गए। बड़ा बेटा विलियम 37 साल का व छोटा हैरी 34 साल के है। कहते हैं कि बड़े भाई व उनकी पत्नी की छोटे भाई की पत्नी से नहीं बनती है, जिसे वे लोग अपनी तुलना में नीचा मानते है क्योंकि वह उनके तरह शाही खानदान से नहीं है।  इस शाही खानदान में शादी से पहले महिला के खून की जांच करके पता लगाया जाता है कि वह शाही खानदान से संबंध रखती है या नहीं। डायना की शादी में ऐसा ही हुआ। इस प्रकरण को सुलझाने में 93 वर्षीय महारानी अभी तक नाकाम रही हैं। मालूम हो कि महारानी एलिजाबेथ द्वितीय को कनाडा का भी प्रमुख माना जाता है। जहां वे गवर्नर जनरल के जरिए राज करती हैं। और कनाडा इन दोनों पति पत्नी के कनाडा में आ बसने पर खुशी जता चुका है। वैसे भी प्रिंस की पत्नी काफी साल टोरंटो कनाडा में बिता चुकी है। व उनके वहां काफी परिचित हैं। वे अपनी पति से चार साल बड़ी भी हैं।  ऐसा माना जाता है कि परिवार को छोड़ने की वजह उसके आपसी सदस्यों का ही आपस में न पटना है। जब पिछले साल हैरी व मेगन के बच्चे का पहला समारोह हुआ था तो उसमें महारानी व उनके पति फिलिप ने हिस्सा नहीं लिया था। ऐसा माना जाता है कि उनकी अपनी बहू से पटती नहीं। उनकी तो अपनी सगी बहू डायना से भी नहीं पटी थी। यह तो बहू की बहू है। वैसे इन संबंधों पर तरह तरह की बातें कही जा रही है। मेरा तो मानना है कि राम राज्य के काल में भी सीता अपनी चार सासों को छोड़ कर पति के साथ जंगलों में कांटों में चलने के लिए चली गई थीं क्योंकि उन्हें लगता होगा कि जब पति के साथ रहते एक सास को संभालना मुश्किल हो जाता है तो उनके वहां न रहने पर वे चार चार सासों को कैसे झेलेंगी! न इंदिरा गांधी अपनी बहू को संभाल पाईं और न ही ब्रिटेन की महारानी अपनी बहू डायना व उसकी बहू मेगन को।

One thought on “शाही महल में जेठानी-देवरानी का झगड़ा

  1. सीताजी की तीन सास थी, न कि चार, महाराज दशरथ ने तीन विवाह किए थे, उनकी तीन पत्नियां कौशल्या, सुमित्रा तथा कैकेयी थी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares