ये शिकायतें तो आम हैं

महाराष्ट्र में बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने कोरोना संक्रमित मरीज से ज्यादा पैसे वसूलने के आरोप में वहां सांताक्रूज में स्थित एक सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है। क्या ये कदम एक मिसाल बनेगा? क्योंकि जो शिकायत उस अस्पताल के खिलाफ आई, कोरोना संकट के दौरान प्राइवेट अस्पतालों के संदर्भ में वह आम हो चुकी है। बीएमसी के अधिकारियों के मुताबिक एक मरीज की शिकायत के बाद के-पश्चिम वार्ड के अधिकारियों ने पिछले हफ्ते शहर के नानावती अस्पताल के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई। खबरों के मुताबिक मई महीने में 52 वर्षीय एक कोरोना संक्रमित महिला इस अस्पताल में 13 दिनों तक भर्ती रही थीं, जिसके बाद उनकी मौत हो गई। उनके गुजरने के बाद उनके परिवार को अस्पताल ने छह लाख रुपये का बिल दिया, जिसके बारे में परिवार ने बीएमसी से शिकायत की। परिवार का दावा है कि ये बिल अत्यधिक है। इस बारे में हुई जांच के बाद बीएमसी ने अस्पताल के खिलाफ आईपीसी के तहत लोकसेवक के आदेश की अवहेलना का मामला दर्ज करवाया।

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि एफआईआर में बीएमसी ने आरोप लगाया है कि अस्पताल ने महिला के परिजनों से पीपीई किट और अन्य सुरक्षात्मक और सफाई उपकरणों के लिए अधिक राशि ली है। इस आरोप में अस्पताल के ट्रस्टियों और अध्यक्ष के खिलाफ धारा 188 (लोक अधिकारी के आदेश की अवहेलना करना) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई, लेकिन किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। अस्पताल का कहना है कि अस्पताल ने 1100 से ज्यादा कोविड-19 के रोगियों का अब तक उपचार किया है। उन्हें मीडिया में आई कुछ खबरों से पता चला कि एक बिल में कथित कुछ विसंगतियों के कारण प्राथमिकी दर्ज की गई है। गौरतलब है कि 21 मई को राज्य सरकार ने सरकारी अस्पतालों से रेफर किए जाने वाले मरीजों के उपचार के लिए सभी प्राइवेट अस्पतालों के 80 फीसदी बेड अधिग्रहित करने का आदेश जारी किया था। इसकी फीस की एक निश्चित राशि भी तय की गई थी। नानावती अस्पताल में इस कोरोना संक्रमित महिला को इसी कोटे के तहत भर्ती किया गया था। तो कुल मिलाकर मामला यह है। मगर ऐसी शिकायतें दिल्ली और दूसरी जगहों से भी आ चुकी हैं। इन मामलों में अधिकारियों ने वैसी कार्रवाई नहीं की, जैसी मुंबई में हुई है। इसीलिए इस पर सबकी नजर है कि ये मामला कैसे आगे बढ़ता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares