nayaindia भारत-अमेरिका: नए आयाम - Naya India
kishori-yojna
बेबाक विचार | डा .वैदिक कॉलम| नया इंडिया|

भारत-अमेरिका: नए आयाम

हमारे रक्षामंत्री राजनाथसिंह और विदेश मंत्री जयशंकर की यह अमेरिका-यात्रा दोनों देशों के संबंधों में कुछ नए आयाम जोड़ रही है। अब दोनों देश जब शस्त्र-निर्माण में आपसी सहयोग करेंगे तो गैर-सरकारी शस्त्र-निर्माताओं को वे गोपनीय तकनीकी जानकारी भी दे देंगे। यह समझौता दोनों देशों के शस्त्र-निर्माण उद्योग को नया आयाम प्रदान करेगा लेकिन भारत के कुछ विपक्षी दल कह सकते हैं कि यह समझौता मोदी सरकार ने इसलिए किया है कि वह अपने कुछ प्रिय पूंजीपतियों को विशेष लाभ पहुंचाना चाहती है। ऐसे आरोप फ्रांस के साथ हुए रक्षा-समझौते के दौरान भी लगाए गए थे। जो भी हो, इसमें शक नहीं है कि यदि शस्त्र-निर्माण का कार्य निजी क्षेत्रों में बढ़ेगा तो उम्मीद यही है कि वह बेहतर होगा और शस्त्रों की कीमतें भी यथोचित होंगी। तीसरी दुनिया के देशों को उचित कीमतों पर भारत का शस्त्र-निर्यात काफी बढ़ सकता है।

दोनों मंत्रियों को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मिलने का समय दिया, यह भी उल्लेखनीय घटना है, क्योंकि कल ही उनके विरुद्ध महाभियोग का मुकदमा अमेरिकी कांग्रेस के निम्न सदन ने पारित किया है। ट्रंप ने भारत की नीतियों का समर्थन तो किया ही, अमेरिका के रक्षा मंत्री मार्क एस्पर और विदेश मंत्री माइक पोंपिओ ने पाकिस्तान से पैदा हो रहे आतंकवाद की भी कड़ी भर्त्सना की और अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संगठन से भी उस पर दबाव डलवाने का वादा किया। उन्होंने दोनों देशों की सेनाओं के तीनों अंगों के मिले-जुले अभ्यास की बात भी कही। अमेरिकी नेताओं ने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए चीन की भी कुछ आलोचना की।

लेकिन भारत बचा हो, ऐसा भी नहीं है। भारत में चल रहे नागरिकता-कानून विरोधी आंदोलन का जिक्र जरुर किया गया और अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा की बात भी पोंपिओ ने जोर देकर कही। इस यात्रा के दौरान भारत-अमेरिका व्यापार की अड़चनों का मामला जहां था, वहीं अटका  रहा। अमेरिका अपने राष्ट्रहितों की रक्षा बड़ी मुस्तैदी से करता है, इसका प्रमाण स्पष्ट है।

By वेद प्रताप वैदिक

हिंदी के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले पत्रकार। हिंदी के लिए आंदोलन करने और अंग्रेजी के मठों और गढ़ों में उसे उसका सम्मान दिलाने, स्थापित करने वाले वाले अग्रणी पत्रकार। लेखन और अनुभव इतना व्यापक कि विचार की हिंदी पत्रकारिता के पर्याय बन गए। कन्नड़ भाषी एचडी देवगौड़ा प्रधानमंत्री बने उन्हें भी हिंदी सिखाने की जिम्मेदारी डॉक्टर वैदिक ने निभाई। डॉक्टर वैदिक ने हिंदी को साहित्य, समाज और हिंदी पट्टी की राजनीति की भाषा से निकाल कर राजनय और कूटनीति की भाषा भी बनाई। ‘नई दुनिया’ इंदौर से पत्रकारिता की शुरुआत और फिर दिल्ली में ‘नवभारत टाइम्स’ से लेकर ‘भाषा’ के संपादक तक का बेमिसाल सफर।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 − 4 =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
बैंक धोखाधड़ी मामले में दो लोग गिरफ्तार
बैंक धोखाधड़ी मामले में दो लोग गिरफ्तार