प्रदूषण का गंभीर हाल

नई दिल्ली को लगातार दूसरे साल दुनिया की सबसे प्रदूषित राजधानी घोषित किया गया।  2018 में दिल्ली को सबसे प्रदूषित राजधानी बताया गया था। यही स्थिति 2019 में भी जारी रही। वैसे दुनिया का सबसे प्रदूषित शहर गाजियाबाद को बताया गया है। भारत के बारे में कुल सूरत यह उभरी है कि दुनिया के सबसे प्रदूषित 30 शहरों में 21 शहर अपने देश में ही हैं। इन तथ्यों के सामने आने के बाद यह खुद जाहिर है कि प्रदूषण के मामले में भारत का क्या हाल है। स्विट्जरलैंड का एक गैर-सरकारी संगठन दुनिया भर के शहरों में प्रदूषण और हवा की गुणवत्ता पर नजर रखता है। वह इसके आंकड़े इकट्ठा करता है। इसी संगठन के अनुसंधान से ताजा जानकारी सामने आई है। आईक्यू एयरविजुअल नामक संगठन का कहना है कि पार्टिकुलेट मैटर 2.5 पर केंद्रित एक रिसर्च में मिले आंकड़ों से भारत में पर्यावरण की खराब हालत की पुष्टि होती है। पार्टिकुलेट मैटर 2.5 धूल के बेहद महीन कण हैं, जो हवा में घुले रहते हैं। ये सांस के साथ शरीर के अंदर जा कर फेफड़ों और दूसरे अंगों को नुकसान पहुंचाते है। इन कणों का व्यास 2.5 माइक्रॉन से कम होता है। हवा में इनकी मात्रा बढ़ने से कैंसर और दिल की बीमारी हो सकती है। ताजा रिसर्च के मुताबिक 2019 में दिल्ली की हवा में पीएम 2.5 का घनत्व एक क्यूबिक मीटर में 98.6 था। यह चीन की राजधानी बीजिंग की तुलना में करीब दोगुना ज्यादा है। बीजिंग में इसकी मात्रा इसी दौर में 42.1 थी। बीजिंग प्रदूषित राजधानियों की सूची में फिलहाल 9वें नंबर पर है। नई दिल्ली की जहरीली हवा का कारण यहां गाड़ियों के चलने, औद्योगिक उत्सर्जन, निर्माण की जगहों से उड़ने वाली धूल, कूड़ा जलाने और आसपास के इलाकों में पराली जलाने की वजह से है। गौरतलब है कि पिछले साल के आखिर में प्रदूषण का स्तर बढ़ने की वजह से राजधानी दिल्ली में प्रशासन को स्वास्थ्य आपातकाल की घोषणा करनी पड़ी और दो बार स्कूलों में छुट्टी का एलान किया गया था। वैसे इस अनुसंधान में यह भी कहा गया है कि 2019 में पिछले साल के मुकाबले सुधार भी हुआ है। खासतौर से मौसम की मेहरबानियों, सरकार की हवा को साफ करने की कोशिशों और कुल मिला कर आर्थिक रफ्तार के धीमे पड़ने का भी इस पर काफी असर हुआ है। मगर सच्चाई यह है कि हालत में मामूली सुधार के बावजूद भारत के सामने वायु प्रदूषण की चुनौती गंभीर बनी हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares