सच तो यही है

पिछले आई ये खबर ने सबको चौंका दिया, लेकिन हकीकत यही है। इस बात को ना मानने का मतलब मुसीबत को और बढ़ाना समझा जाएगा। खबर यह आई कि दिल्ली में कोरोना वायरस को लेकर नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) ने 21,387 लोगों की जांच की और पाया कि 23.48 प्रतिशत लोगों में कोरोना के खिलाफ एंटीबॉडीज विकसित हो चुकी है। उसके आधार पर यह अनुमान लगाया गया कि दिल्ली में 22.86 आबादी कोरोना वायरस से संक्रमति हुई। दिल्ली की आबादी 2.9 करोड़ है और यहां पर आधिकारिक तौर पर सवा लाख से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं। जबकि यह शोध 66 लाख से अधिक संभावित मामलों को इंगित करता है, जिनमें से अधिकांश की पहचान नहीं हो पाई या फिर उनका टेस्ट नहीं हुआ। महामारी वैज्ञानिकों के मुताबिक सर्वे के नतीजे औसत हैं। संक्रमित लोगों का प्रतिशत बहुत अधिक हो सकता है। कुछ इलाकों जैसे कि झुग्गी बस्ती में संक्रमितों की संख्या अधिक हो सकती है।

एनसीडीसी द्वारा दिल्ली में यह शोध 27 जून से 10 जुलाई के बीच हुआ था। जानकार कहते हैं कि अब तक संक्रमण के संभावित मामले और बढ़ गए होंगे। देश में सबसे अधिक प्रभावित राज्यों में दिल्ली तीसरे स्थान पर है। पहले स्थान पर महाराष्ट्र है और तमिलनाडु साथ दूसरे स्थान पर है। कोविड-19 से सबसे अधिक मौतें महाराष्ट्र में हुई है। अमेरिका और ब्राजील के बाद भारत में ही सबसे ज्यादा कोरोना वायरस के मामले दर्ज किए गए हैं। हालांकि इन देशों और वैश्विक औसत की तुलना में भारत में मृतकों की संख्या काफी कम है। जानकारों को आशंका है कि वायरस से होने वाली बहुत मौतों को आधिकारिक आंकड़ों में जोड़ा नहीं जा रहा है, खासकर बुजुर्गों में होने वाली मौतों को। राजधानी दिल्ली के बाहर जांच भी सीमित है। शुरूआत में कोरोना वायरस देश के बड़े शहरों तक ही सीमित था लेकिन ग्रामीण इलाकों में हालात अब चिंताजनक हो गए हैं। ग्रामीण इलाकों में स्वास्थ्य प्रणाली बहुत नाजुक है और वहां टेस्टिंग को लेकर भी सवाल खड़े होते रहे हैं। देश में कोविड-19 के मामले बढ़ते देख कर जानकारों ने राज्यों से कोरोना जांच के लिए और अधिक लैब विकसित करने और टेस्टिंग क्षमता को बढ़ाने को कहा है। मगर यह तब होगा, जब सच्चाई स्वीकार की जाएगी। लेकिन लगता है कि झूठी कहानी की बदौलत सफलता का नैरेटिव बनाने में जुटी सरकार के लिए ऐसा करना कठिन होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares