हरिशंकर व्यास कॉलम | गपशप | बेबाक विचार| नया इंडिया| supporters of taliban rule यह गृह युद्ध की राजनीति नहीं तो क्या?

यह गृह युद्ध की राजनीति नहीं तो क्या?

pm modi

पता नहीं भारत की बुद्धि को क्या हो गया है जो तालिबान पर भी वोट पकाए जा रहे हैं! मीडिया जिस तरह तालिबान के किस्सों से हिंदू-मुस्लिम बना रहा है उसका सीधा, दो टूक मकसद यूपी चुनाव में हिंदू-मुस्लिम वोटो का धुव्रीकरण है। मैं सोच-सोच कर हैरान हूं कि नरेंद्र मोदी, अमित शाह, राजनाथ सिंह और अजित डोवाल याकि भारत राष्ट्र-राज्य तंत्र (खुफिया-सुरक्षा) तालिबान की रियलिटी में खतरे बूझते हुए कैसे उसके बहाने हिंदू-मुस्लिम नैरेटिव बनने दे रहा है। तालिबान जंगली कबीलाई और मानवता विरोधी है, इस सच्चाई से हिंदू और मुसलमान सबको जानकार-समझदार बनाना चाहिए या तालिबान के आईने में मुसलमान का हल्ला बनवा कर हिंदुओं को गोलबंद करना चाहिए? हिंदुओं जागो और तालिबान-मुसलमान से मोदी-योगी ही बचा सकते हैं, वाला हल्ला क्या मुसलमान को तालिबानी सोच की ओर नहीं धकेलेगा? क्या भारत का मुसलमान उग्रवाद, तालिबानी संगठनों की और नहीं देखेगा? क्या तालिबान जैसे संगठनों और पाकिस्तानी एजेंसी आईएसआई के लिए भारत में नई जमीन तैयार नहीं होगी? supporters of taliban rule

निश्चित ही नरेंद्र मोदी, अमित शाह व योगी आदित्यनाथ दीर्घकालीन दृष्टि लिए हुए नहीं हैं। इनकी एकमेव प्राथमिकता अपनी कुर्सी और चुनाव जीतने की है। यदि नरेंद्र मोदी दीर्घकालीन विचार का दिमाग लिए होते तो नोटबंदी के फैसले से पहले क्या वे आर्थिकी पर लंबे असर का विचार नहीं करते? महामारी पर क्या 21 दिनों में विजय पाने जैसी बातें करते? क्या वे और उनकी टीम रोजाना की हेडलाइन के मैनेजमेंट में टाइम जाया करते? क्या हिंदुओं को बुद्धिहीन, झूठ और भयाकुल बनाने वाली आबोहवा बनवाते?

Read also तालिबान का खतरा और मोदी की जयकार!

उस नाते पिछले सात सालों से हिंदुओं को डरा कर, वोट पकाने में नरेंद्र मोदी-अमित शाह जिस हद तक जाते हुए हैं उसके दस तरह के उलटे असर हैं। हिंदू और विभाजित हुआ है। मुसलमान कुंठित और मौके के इंतजार में है। कौम के नेता खुलेआम तालिबान की तारीफ कर रहे है। अब एक तरफ खैबर के दर्रे से मुसलमानों को, कश्मीर को मुक्त कराने का तालिबान, आईएसआई, अल कायदा का सीधा हुंकारा है तो दूसरी और भारत में मीडिया का यह नैरेटिव की हिंदुओं सावधान! ये मुसलमान ऐसे (तालिबानी) हैं और इनसे नरेंद्र मोदी, योगी आदित्यनाथ, भाजपा, संघ परिवार से ही सुरक्षा है।

जाहिर है हिंदुओं को डराया जा रहा है तो मुसलमानों में तालिबान, उग्रवादियों की ओर देखने, कट्टरपंथी बनने की मनोदशा बनवाई जा रही है। एक तरफ हिंदू मनोदशा में तालिबानी विलेन व दूसरी तरफ मुस्लिम मनोदशा में तालिबानी महानायक! वैश्विक सत्य है और भारत का भी सत्य है कि अफगानिस्तान में 1996 से 2001 के तालिबानी राज के वक्त भारत और दुनिया के मुसलमान का तालिबान से लगाव नहीं था। तालिबान का तब मतलब नहीं था। लेकिन इस 15 अगस्त 2021 को काबुल पर तालिबानी कब्जे व अमेरिका के भागने की खबर पर वैश्विक मुस्लिम आबादी में जैसी खुशी दिखी, इस्लामी चरमपंथी संगठनों ने जैसे जश्न मनाया उसका सर्वाधिक गंभीर प्रभाव दक्षिण एशिया में है और इससे दस-बीस सालों में भारत एपिसेंटर बने तो आश्चर्य नहीं होगा। इसे क्या मोदी सरकार, हिंदू राजनीति के मौजूदा कर्णधारों को बीस-पच्चीस साल के टाइम फ्रेम में नहीं सोचना चाहिए? पर जैसा मैं लिखता रहा हूं, हजार साल का सत्य है हिंदुओं को पहले तो राज का मौका नहीं मिलता है और मिलता है तो राज करना नहीं आता।…. क्या गलत है?

By हरिशंकर व्यास

भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था। आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य। संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

View all of हरिशंकर व्यास's posts.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश

विदेश

खेल की दुनिया

फिल्मी दुनिया

लाइफ स्टाइल

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
देश के जवानों के साथ आज Dussehra पर्व मनाएंगे राष्ट्रपति Ramnath Kovind, द्रास में जवानों से करेंगे संवाद