Loading... Please wait...
ताजा पोस्ट सुर्खिया
काबुल में विस्फोट, 20 मरे, 300 घायल
चैंपियंस ट्रॉफी: भारत ने बांग्लादेश को 240 रनों से हराया
यूपी में डॉक्टरों की रिटायरमेंट उम्र दो साल बढ़ी
केरल में पशु वध पर सोनिया, राहुल से माफी की मांग
आरसीए चुनाव के परिणाम दो जून को घोषित किये जाये
बाबरी मामला : आडवाणी, जोशी व अन्य को जमानत मिली
बांग्लादेश में तूफान ‘मोरा’ ने दी दस्तक
आडवाणी, जोशी कोर्ट में पेश होने के लिए लखनऊ रवाना
सीरिया में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल खतरे की घंटी: मैक्रोन
जापान में बस दुर्घटनाग्रस्त, 8 घायल
रूस में तूफान, 11 मरे
मोदी ने की मर्केल से मुलाकात
भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट सीरीज नहीं हो सकती: खेल मंत्री
बैल काटे जाने पर कांग्रेस के 4 कार्यकर्ता निलंबित
पीएम मोदी चार देशों की यात्रा पर रवाना

समाचार विश्लेषण

असम में एनआरसी पर सियासी टकराव

असम में एनआरसी से जुड़े दस्तावेजों का सत्यापन पंचायत अधिकारियों और राज्य सरकार के सर्किल अफसरों ने किया था। अल्पसंख्यक संगठनो ने सवाल उठाया है कि 26 लाख और पढ़ें....

एनआरसी पर असम में गहराता संकट

असम में राष्ट्रीय नागरिकता पंजीयक यानी नेशनल रजिस्टर आफ सिटीजंस के ड्राफ्ट के प्रकाशन की तारीख नजदीक आने के साथ ही इस मुद्दे पर विवाद तेज गया है। कई और पढ़ें....

इंटरनेट पर बढ़ती बंदिशें

पिछले दिनों आई इंटरनेट फ्रीडम रिपोर्ट के मुताबिकदुनिया की 30 देशों की सरकारों ने ऑनलाइन सूचनाओं में हेरफेर की हैं। पिछले साल यह आंकड़ा 23 था। सूचनाओं में और पढ़ें....

‘जियो पारसी’ पर समुदाय में मतभेद

एक रिपोर्ट के मुताबिक मुंबई में हर रोज दो पारसी मरते हैं। औसतन चार पारसियों के मरने पर एक बच्चे का जन्म होता है। इसलिए इस समुदाय की आबादी घट रही है। इसकी और पढ़ें....

महिलाओं से जारी है यौन जबरदस्ती

संयुक्त राष्ट्र ने हाल में कहा कि दुनिया भर में डेढ़ करोड़ ऐसी किशोरियां हैं जिनके साथ उनके पार्टनर, रिश्तेदार या दोस्तों ने जबरदस्ती यौन संबंध बनाए। और पढ़ें....

खिचड़ी पर क्यों उतनी खिच-खिच?

पहले खबर आई की भारत सरकार खिचड़ी को राष्ट्रीय खाद्य घोषित करने जा रही है। लेकिन केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने अपने ट्विटर और पढ़ें....

क्या आज भी प्रासंगिक हैं मार्क्स के विचार?

पिछले दिनों रूसी क्रांति की शताब्दी मनाई गई। इस मौके पर इस पर खूब चर्चा हुई कि जिनके विचारों पर ये क्रांति हुई, क्या वो आज भी प्रासंगिक हैं? जर्मन और पढ़ें....

क्या हासिल होता ऑड इवन से?

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र पर स्मॉग छाया तो दिल्ली सरकार को तुरंत ऑड इवन की याद आ गई। यह दिखाने के लिए वह समस्या से निपटने के लिए कुछ कर रही है, तुरंत उसने और पढ़ें....

वादे निभाने में क्यों चूकी मोदी सरकार?

नरेंद्र मोदी जब चुनावी अभियान पर थे, तब अर्थव्यवस्था की विकास दर पांच फीसदी से कम (संशोधन के बाद 6.9 फीसदी) थी। अगले तीन वित्त वर्षों में इसमें मामूली और पढ़ें....

क्यों पूरे नहीं होते चुनावी वादे?

अर्थव्यवस्था के खराब प्रदर्शन के कारण नरेंद्र मोदी सरकार को खासी आलोचना झेलनी पड़ रही है। नोटबंदी के फेल हो जाने और मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही की और पढ़ें....

← Previous 123456789
(Displaying 1-10 of 163)

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd