nayaindia Bengal Government Called All Parties For Discussion On Statehood Day Celebration बंगाल सरकार ने राज्य दिवस समारोह को लेकर चर्चा के लिए सभी दलों को बुलाया
Cities

बंगाल सरकार ने राज्य दिवस समारोह को लेकर चर्चा के लिए सभी दलों को बुलाया

ByNI Desk,
Share

Mamata Banerjee Meeting :- पश्चिम बंगाल सरकार ने पोइला बोइशाख (बंगाली नव वर्ष) पर राज्य दिवस मनाने को लेकर चर्चा करने के लिए 29 अगस्त को एक बैठक बुलाई है जिसमें सभी दलों को आमंत्रित किया गया है, यहां तक कि बिना किसी विधायक वाले दल को भी। एक कैबिनेट सदस्य ने कहा, “अभी, पश्चिम बंगाल विधानसभा में तृणमूल कांग्रेस, भाजपा और ऑल इंडिया सेक्युलर फ्रंट के प्रतिनिधि हैं। चूंकि यह राज्य की भावनाओं से जुड़ा एक बड़ा मुद्दा है, इसलिए हमने राज्य में मौजूद अन्य सभी मान्यता प्राप्त और क्षेत्रीय दलों के प्रतिनिधियों को आमंत्रित करने का फैसला किया है। उन्होंने यह भी कहा कि राज्य सरकार सभी पंजीकृत राजनीतिक दलों के साथ आम सहमति के बाद पोइला बोइशाख पर राज्य दिवस मनाने के निर्णय पर आगे बढ़ने के पक्ष में है।

राजनीतिक पर्यवेक्षकों का मानना है कि सभी मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों को आमंत्रित करने का राज्य सरकार का निर्णय भाजपा को अलग-थलग करने का एक कदम था, यह देखते हुए कि भाजपा ने पहले ही पोइला बोइशाख पर राज्य दिवस मनाने का विरोध जताया था। बीजेपी ने कहा है कि यह पश्चिम बंगाल के इतिहास को विकृत करने की कोशिश है।भगवा पार्टी 20 जून को पश्चिम बंगाल स्थापना दिवस मनाना पसंद करती है। इस साल राज्यपाल सी.वी. आनंद बोस के आने के बाद राज्य सरकार और राजभवन के बीच खींचतान चल रही है। गवर्नर हाउस परिसर में पश्चिम बंगाल स्थापना दिवस मनाया गया था। इस घटनाक्रम की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने तीखी आलोचना की थी। उन्होंने कहा था वह राज्यपाल के फैसले से स्तब्ध हैं। उन्होंने बोस को एक पत्र भी भेजा जिसमें दावा किया गया कि शुरुआत से ही पश्चिम बंगाल के लोगों ने कभी भी स्थापना दिवस नहीं मनाया। (आईएएनएस)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें