nayaindia Lok Sabha chunav 2024 मुकाबला बढ़ रहा है!
गपशप

मुकाबला बढ़ रहा है!

Share
Lok Sabha chunav 2024
Lok Sabha chunav 2024

पिछले सप्ताह प्रदेशवार सीटों के आधार पर भाजपा बनाम अन्य पार्टियों के मुकाबले की जो सूची थी, उसकी जमीनी हकीकत में पिछले सात दिनों में बहुत परिवर्तन है। दिल्ली में अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी का दिल्ली, हरियाणा और पंजाब पर गहरा असर होगा। पंजाब में भाजपा अब अछूत पार्टी है। किसानों में नाराजगी से अकाली दल ने भाजपा से एलायंस से इनकार कर दिया। Lok Sabha chunav 2024

यह​ भी पढ़ें: भाजपा बिहार में क्यों चिंतित है? 

ओडिशा में बीजू जनता दल ने भी भाजपा को छोड़ा तो दक्षिण भारत में स्थिति और क्लीयर होते हुए है। मैं पिछले सप्ताह पश्चिम बंगाल में हिंदू बनाम मुस्लिम में ममता बनर्जी के बुरी तरह हारने का अनुमान लिए हुए था। लेकिन भाजपा उम्मीदवारों की लिस्ट ने वहां के जानकारों को चौंकाया है। उनकी मानें तो भाजपा ने खराब उम्मीदवार खड़े किए। ममता को एडवाटेंज है। Lok Sabha chunav 2024

यह​ भी पढ़ें: भाजपा के अधिकांश टिकट दलबदलुओं को!

सो भाजपा की 400 सीटों की हवाबाजी में भाजपाई हिसाब की अनुमानित लिस्ट में भी कुछ चेंज है तो कांटे की लड़ाई में गैर-एनडीए, कांग्रेस पार्टी की अनुमानित सीटों में लगभग यथास्थिति है। मतलब भाजपा की कथित (अबकी बार 400 पार) सुनामी अब 391 सीट की जगह 359 याकि 2019 की जीती सीटों से जरा ही ऊपर है। वहीं विपक्ष की कांटे के मुकाबले में अनुमानित सीट संख्या 249 की बजाय 248 सीट है।

29 मार्च 2024 अनुमान

 

By हरिशंकर व्यास

मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक और पत्रकार। नया इंडिया समाचारपत्र के संस्थापक-संपादक। सन् 1976 से लगातार सक्रिय और बहुप्रयोगी संपादक। ‘जनसत्ता’ में संपादन-लेखन के वक्त 1983 में शुरू किया राजनैतिक खुलासे का ‘गपशप’ कॉलम ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ तक का सफर करते हुए अब चालीस वर्षों से अधिक का है। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम की प्रस्तुति। सप्ताह में पांच दिन नियमित प्रसारित। प्रोग्राम कोई नौ वर्ष चला! आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों की बारीकी-बेबाकी से पडताल व विश्लेषण में वह सिद्धहस्तता जो देश की अन्य भाषाओं के पत्रकारों सुधी अंग्रेजीदा संपादकों-विचारकों में भी लोकप्रिय और पठनीय। जैसे कि लेखक-संपादक अरूण शौरी की अंग्रेजी में हरिशंकर व्यास के लेखन पर जाहिर यह भावाव्यक्ति -

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें