nayaindia candidates Rajendra Nagar assembly राजेंद्र नगर विधानसभा में उम्मीदवार
kishori-yojna
देश | दिल्ली | बात बतंगड़| नया इंडिया| candidates Rajendra Nagar assembly राजेंद्र नगर विधानसभा में उम्मीदवार

राजेंद्र नगर विधानसभा में उम्मीदवार हैं चुनौती

दिल्ली नगर निगम चुनाव टालने की खबर ने भाजपा नेताओं को थोड़ी राहत ज़रूर दी लेकिन राजेंद्र नगर विधानसभा के उप-चुनाव ने इन नेताओं की चिंता फिर बढ़ा दी। कभी जनसंघ और फिर भजपा का गढ़ कहीं जाने वाली इस विधानसभा में भाजपा की हालत पतली है। कहने को यहाँ बड़े-बड़े कथित धुरंधर पड़े हैं पर सच पूछो तो आप पार्टी के सामने फिलाहल तो ये बौने ही देखे जा रहे हैं। पिछले हफ़्ते पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जय प्रकाश नड्डा ही नहीं क्षेत्र की सांसद और मंत्री मीनाक्षी लेखी के अलावा प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता, प्रदेश महामंत्री रहे राजेश भाटिया,पूर्व राष्ट्रीय सचिव और प्रवक्ता आर पी सिंह ,सहित बड़ी संख्या में भाजपाईयों ने पार्टी के स्थापना दिवस के बहाने शोभायात्रा निकल कर यहाँ के नेताओं में हिम्मत जुटाने की पहल की और चुनाव का संकेत भी दिया लेकिन काम करने के सहारे घर -घर में घुसी आप पार्टी के सामने भाजपा वोटरों के बीच अभी तो अपनी जगह ही नहीं बना पाई है। दावा तो यहाँ तक किया जा रहा है कि भाजपा ने अगर किसी साफ़ छवि वाले, विवादों से बचे रहें या फिर कर्मठ और ईमानदार व्यक्ति को उम्मीदवार नहीं बनाया तो बलराज मधोक,डा. भाई महाबीर,और मलकानी और केदार नाथ साहनसे लेकर प्रो.राम नाथ विज,जैसे क़द्दावर नेताओं की कर्मभूमि रही रही इस विधानसभा में भाजपा की वापिसी मुश्किल ही नहीं नामुमकिन ही रहेगी। यूँ भी विधायक रहे पूर्व चंद योगी के बाद 2013 से 2015 तक कुछ समय को छोड़कर भाजपा यहाँ वापिसी नहीं कर पाई है। पिछले चुनावों

राघव चड्डा ने भाजपा के आर पी सिंह को निपटा दिया, इससे पहले भी आरोपी सिंह को आप के ही बिजेन्द्र गर्ग ने हराया था। दोनों बार आर पी सिंह की ये हार तक़रीबन 20 हजार वोटों से रही।यह अलग बात है कि लोगों ने सिंह को हराने की पहले ही घोषणा कर दी थी। खैर! विधायक चड्डा को राज्यसभा भेजे जाने से इस विधानसभा पर उप-चुनाव हो रहा है। आप पार्टी किसे अपना उम्मीदवार बनाती है यह तो वही जाने पर क्षेत्र में पूर्व विधायक बिजेन्द्र गर्ग की सक्रियता ज़रूर बढ़ रही है ।टिकट गर्ग को ही मिलती है तो पिछली जीत के चलते गर्ग के हौसले बुलंद रहना ज़ाहिर है। ऐसे में भाजपा के सामने सही उम्मीदवार तय करना भी एक चुनौती से कम नहीं। अब भला कोई यह समझे कि नेताओं की शोभायात्रा भाजपा को यहाँ जीत दिलवा सकती है तो यह ग़लतफ़हमी भाजपा को यह दूर कर लेनी चाहिए और मान लो कि आप उम्मीदवार तीसरी बार लगातार इस सीट से जीत दर्ज करेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen − eight =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
केजरीवाल का मोदी सरकार को नसीहत
केजरीवाल का मोदी सरकार को नसीहत