Loading... Please wait...

अरुणाचल मॉडल कहां कहां लागू होगा?

चुनाव जीत कर सरकार बनाने के अलावा सत्ता हासिल करने का एक मॉडल हमेशा यह रहा है कि दलबदल करा कर नई सरकार बनाई जाए। चिमनभाई पटेल से लेकर शंकर सिंह वाघेला और भजनलाल तक कई लोग ऐसा कारनामा कर चुके हैं। हाल फिलहाल में अरुणाचल प्रदेश में पेमा खांडू ने ऐसा कारनामा किया। वे कांग्रेस से होते हुए एक क्षेत्रीय पार्टी के रास्ते भाजपा में चले गए और वहां बगैर चुनाव हुए भाजपा की सरकार बन गई। अब कहा जा रहा है कि भाजपा अगले कुछ दिन में मुख्यमंत्री बदल सकती है। 

बहरहाल, इस घटना के बाद सरकार बनाने का एक अरुणाचल मॉडल स्थापित हुआ है। इस मॉडल को देश के कुछ दूसरे राज्यों में आजमाया जा सकता है। सबसे पहले कहा जा रहा है कि नगालैंड में इसका प्रयोग होगा। राज्य की एस लिजीत्सु सरकार अस्थिर हो गई है और राज्यपाल पीबी आचार्य को लग रहा है कि नगा पीपुल्स पार्टी के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री टीआर जेलियांग के पास बहुमत है। जेलियांग को भाजपा का समर्थन हासिल है। सो, वहां नगालैंड पीपुल्स पार्टी की सरकार गिरा कर नई सरकार बनाने की तैयारी है। यह सरकार भाजपा की होगी। 

इसके बाद यह प्रयोग दो जगह और दोहराया जा सकता है। दिल्ली और तमिलनाडु में इसकी तैयारी दिख रही है। हालांकि दोनों राज्यों में सफलता की संभावना कम दिख रही है और इसी वजह से भाजपा आलाकमान ने अभी पहल नहीं की है। नगालैंड में प्रयोग की सफलता के बाद इन दो राज्यों में इसे आजमाया जा सकता है। दिल्ली में आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों की सदस्यता खतरे में है और उसके अलावा 15 विधायक भाजपा के संपर्क में बताए जा रहे हैं। इसी तरह तमिलनाडु में चार खेमे में बंटी अन्ना डीएमके के दो धड़े भाजपा के साथ जुड़ सकते हैं। भाजपा वहां जयललिता के करीबी रहे पूर्व मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम को गद्दी पर बैठा कर सत्ता हासिल करने का दांव चल सकती है। 

Tags: , , , , , , , , , , , ,

220 Views

आगे यह भी पढ़े

सर्वाधिक पढ़ी जा रही हालिया पोस्ट

बेटी को लेकर यमुना में कूदा पिता

उत्तर प्रदेश में हमीरपुर शहर के पत्नी और पढ़ें...

पाक सेना प्रमुख करेंगे जाधव पर फैसला!

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय और पढ़ें...

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd